ताज़ा खबर
 

युवाओं को लुभाने के लिए हाफ पैंट हटाना चाहता है RSS, जानिए कैसी हो सकती है नई यूनिफॉर्म

रांची में पिछले सप्‍ताह हुई संघ की बैठक में इस पर चर्चा हुई।

Author नई दिल्ली | November 4, 2015 12:12 PM
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से संबद्ध मुस्लिम राष्ट्रीय मंच (एमआरएम) के 150 सदस्यों ने हाल में वाराणसी में हुई एक बैठक में स्वच्छ गंगा और स्वच्छ भारत को लेकर एक संकल्प लिया।

राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ (आरएसएस) के कार्यकर्ताओं द्वारा पहनी जाने वाली हाफ पैंट की जगह अब ट्राउजर या पतलून ले सकती है। ऐसा युवाओं को आकर्षित करने के मकसद से किए जाने का विचार है। युवाओं को संघ से जोड़ने के लिए नया ड्रेस कोड लाने का प्रस्‍ताव है। रांची में पिछले सप्‍ताह हुई संघ की बैठक में इस पर चर्चा हुई। सूत्र बताते हैं कि कुछ स्‍वयंसेवकों को नई यूनिफॉर्म पहना कर सदस्‍यों के सामने उनकी परेड कराई गई।

नया ड्रेस कोड लाने पर अगली चर्चा अब अगले साल मार्च में होगी। तब नागपुर में अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की बैठक में यह मुद्दा उठेगा। आरएसएस में निर्णय लेने वाली सबसे बड़ी ईकाई यह प्रतिनिधि सभा ही है। रांची मीटिंग में शामिल हुए एक वरिष्‍ठ प्रचारक ने बताया, ‘सरसंघचालक (मोहन भागवत) और सरकार्यवाह (भैयाजी जोशी) नया ड्रेस कोड लाने के पक्ष में हैं। उनका मत है कि वक्‍त के साथ हमें बदलना चाहिए। लेकिन कुछ लोग इस प्रस्‍ताव के विरोध में भी हैं।’

सूत्र बताते हैं कि दो विकल्‍पों पर विचार चल रहा है। एक तो सफेद टी-शर्ट (कोई दूसरा रंग भी चल सकता है), काली पतलून, काली टोपी (जो अभी भी चल रही है), सफेद कपड़े के जूते और खाकी के मोजे को यूनिफॉर्म में शामिल किए जाने का विकल्‍प रखा गया है। दूसरे विकल्‍प में पूरी आस्‍तीन वाली सफेद शर्ट, पैंट (खाकी, नेवी ब्‍लू, ब्‍लू या ग्रे में से किसी कलर का), चमड़े या रेग्जिन के काले जूते, खाकी मोजे, कपड़े की बेल्‍ट और काली टोपी को रखा गया है।

माना जा रहा है कि आरएसएस की 50 हजार शाखाएं हैं। हर शाखा में दस हजार स्‍वयंसेवक हैं। ऐसे में पांच लाख नए यूनिफॉर्म की जरूरत होगी। ऐसे में अगर फैसला ले भी लिया जाता है तो इसे अमल में लाने में सालों लग जाएंगे। अब से पहले साल 2010 में यूनिफॉर्म में मामूली बदलाव लाया गया था। तब कैनवेस बेल्‍ट की जगह लेदर बेल्‍ट को लाया गया था। यह मामूली बदलाव भी पूरी तरह लागू करने में दो साल लग गए थे।

आरएसएस 1925 में बना था। 1939 तक संघ की यूनिफॉर्म पूरी तरह से खाकी थी। 1940 में सफेद शर्ट को इसमें शामिल किया गया। 1973 में लेदर शूज को हटा कर लंबे बूट को यूनिफॉर्म का हिस्‍सा बनाया गया। बाद में रेग्जिन के जूते पहनने की भी इजाजत दे दी गई।

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करें, गूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App