scorecardresearch

गिलानी को हिरासत में लिया

हुर्रियत कांफ्रेंस के कट्टरपंथी खेमे के प्रमुख सैयद अली शाह गिलानी को शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यहां हुई जनसभा के समानांतर रैली करने से रोकने..

हुर्रियत कांफ्रेंस के कट्टरपंथी खेमे के प्रमुख सैयद अली शाह गिलानी को शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यहां हुई जनसभा के समानांतर रैली करने से रोकने के लिए हिरासत में ले लिया गया। हुर्रियत के एक प्रवक्ता ने कहा कि शहर के हैदरपोरा इलाके में गिलानी के घर के बाहर पुलिस के दल ने उन्हें हिरासत में ले लिया। पिछले कई महीने से नजरबंद गिलानी ने मोदी की रैली के जवाब में टीआरसी मैदान में एक ‘मिलियन मार्च’ का आह्वान किया था। प्रवक्ता ने बताया कि घर से बाहर निकलते ही पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया और हुमहमा पुलिस थाने

ले गई। उन्होंने गिलानी को हिरासत में लेने को ‘अलोकतांत्रिक गुंडागर्दी’ करार देते हुए कहा कि ‘मिलियन मार्च’ दुनिया को एक संदेश देने का एक शांतिपूर्ण और लोकतांत्रिक जनमत संग्रह था कि हम भारत के थोपे हुए सैन्य कब्जे से आजादी चाहते हैं। पुलिस ने मार्च को नाकाम करने के लिए जिस तरह कर्फ्यू लगाया था उससे भारतीय लोकतंत्र का पर्दाफाश हो गया।

टीआरसी मैदान की तरफ जाने की कोशिश करने पर गोजवारा चौक पर दुख्तराने मिल्लत के कुछ कार्यकर्ताओं को भी हिरासत में ले लिया गया जो आसिया अंद्राबी के नेतृत्व में मार्च कर रहे थे। इस बीच घाटी में कई जगहों पर प्रदर्शनकारियों व सुरक्षा बलों के बीच संघर्ष हुए जिनमें दो पुलिसकर्मियों समेत सात लोग घायल हो गए।

इस तरह के दमनकारी उपायों के बीच प्रधानमंत्री का दौरा कश्मीर के लोगों के लिए ‘निरर्थक’ है। कश्मीर एक आर्थिक मुद्दा नहीं बल्कि एक मानवीय और राजनीतिक मुद्दा है। अगर भारत कश्मीर के लोगों का दिल जीतना चाहता है तो उसे कश्मीरियों की इच्छाओं व आकांक्षाओं के अनुरुप लंबित मुद्दों का हल करने के लिए सकारात्मक उपाय करने चाहिए। -हुर्रियत के उदारवादी खेमे के प्रमुख मीरवाइज उमर फारुक

ये नाटक आजादी की हमारी इच्छा व संकल्प को कमजोर करने में नाकाम रहे हैं और कभी सफल नहीं होंगे। मोदी को हमारा जवाब गांधीजी के जैसा ही है जिन्होंने कभी किसी ब्रिटिश नेता से कहा था कि अपने देश का स्वराज और आजादी किसी कब्जे के अधीन की गई प्रगति और खुशहाली की तुलना में उन्हें कहीं ज्यादा प्यारे हैं। कश्मीरियों ने बंद और नागरिक कर्फ्यू मनाकर मोदी और उनके ‘कश्मीरी पिट्ठुओं’ को ‘माकूल जवाब’ दिया है। -यासीन मलिक, जेकेएलएफ प्रमुख

पढें अपडेट (Newsupdate News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.