ताज़ा खबर
 

J&K पर नेहरू के मन में था खोट? BJP चीफ जेपी नड्डा का बयान- पंडित जी चल रहे थे चाल, नहीं दिया था श्यामा प्रसाद मुखर्जी के खत का जवाब

नड्डा ने कहा कि मुखर्जी ने जवाहरलाल नेहरू की तुष्टिकरण की राजनीति का विरोध किया था। उन्होंने कहा "डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने स्पष्ट कहा था कि अनुच्छेद 370 के माध्यम से जम्मू कश्मीर को विशेष अधिकार क्यों दिया जा रहा है। लेकिन नेहरू जी और शेख अब्दुल्ला की चाल को अंजाम देने का काम नेहरू जी कर रहे थे। डॉ मुखर्जी ने इसका विरोध किया था। "

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पार्टी मुख्यालय पर श्यामा प्रसाद मुखर्जी को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की। (ANI)

भारतीय जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी की आज जयंती है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने पार्टी मुख्यालय पर श्यामा प्रसाद मुखर्जी को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके बाद नड्डा ने पश्चिम बंगाल में ‘विशाल जन सभा’ को संबोधित किया। इस दौरान भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने देश के पहले प्रधान मंत्री जवाहर लाल नेहरू को लेकर दिया बड़ा बयान दिया है। उन्होंने अनुच्छेद 370 को लेकर नेहरू पर निशाना साधा है।

नड्डा ने कहा “डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने 1951 में जनसंघ की स्थापना की और 1952 में कानपुर के अधिवेशन में ये विषय रख दिया की जम्मू-कश्मीर का विलय पूर्ण होना चाहिए और संपूर्ण होना चाहिए।” नड्डा ने कहा कि मुखर्जी ने जवाहरलाल नेहरू की तुष्टिकरण की राजनीति का विरोध किया था। उन्होंने कहा “डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने स्पष्ट कहा था कि अनुच्छेद 370 के माध्यम से जम्मू कश्मीर को विशेष अधिकार क्यों दिया जा रहा है। लेकिन नेहरू जी और शेख अब्दुल्ला की चाल को अंजाम देने का काम नेहरू जी कर रहे थे। डॉ मुखर्जी ने इसका विरोध किया था। ”

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि मुखर्जी ने नेहरू जी को चिट्ठी लिख कर कहा कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाना चाहिए और कहा कि एक देश में दो निशान, दो विधान और दो प्रधान नहीं चलेंगे। तब भारत के प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने चिट्ठी का जवाब तक नहीं दिया। नड्डा ने कहा “डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की राष्ट्र भक्ति इस तरह थी कि उन्होंने अपना सब कुछ जम्मू कश्मीर के लिए लगाया। बंगाल के निवासी होने के बाद भी उन्होंने पंजाब के बड़े हिस्से को विभाजन से बचाया था।”

नड्डा ने कहा कि हमें खुशी है के डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी का बलिदान व्यर्थ नहीं गया। उनके बलिदान पर करोड़ों कार्यकर्ता दिन रात चले और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में हमने वो मुकाम हासिल किया और धारा 370 को धराशायी कर दिया। मोदी सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान खत्म करने के बाद श्यामा प्रसाद मुखर्जी की जयंती मनाते हुए खुशी हो रही है।

नड्डा ने पश्चिम बंगाल को लेकर कहा कि पश्चिम बंगाल में मौजूदा समय में राजनीति का अपराधीकरण एक नई ऊंचाई पर पहुंच गया है। जहां बल का प्रयोग होता है वहां विचारधारा समाप्त होती है। आज बंगाल जो विचार से ओत-प्रोत है, उसे कंठित करने का काम वर्तमान सरकार कर रही है। राजनीतिक प्रतिद्वंदियों को जेल में डाला जा रहा है। डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बताये रास्ते पर चलकर हमें बंगाल के गौरव को वापस लाना है। राजनीतिक और शिक्षा की दृष्टि से उसे ऊंचा करना है। और वर्तमान सरकार जो हर तरह से इसे नुकसान पहुंचा रही है, उस सरकार को बाहर करना है।

Next Stories
1 Kerala Lottery Win Win W-572 Today Results 06.07.2020: 13 जुलाई को जारी होंगे आज की लॉटरी के नतीजे, देखें पूरी जानकारी
2 जब भरे सदन में खड़े होकर पंडित नेहरू ने मांगी थी श्यामा प्रसाद मुखर्जी से माफी, पढ़िए दिलचस्प किस्सा
3 LAC विवादः गलवान में करीब एक से दो Km पीछे हटा चीन, टेंट, वाहन और फौजी भी हटाए
ये पढ़ा क्या?
X