ताज़ा खबर
 

स्वच्छ भारत: 2 साल बाद भी बेहद बुरा है मोदी के इस प्रोजेक्ट का हाल, केवल 3.5 % टारगेट पूरा

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्म दिवस पर शुरू हुए स्वच्छ भारत मिशन के तहत केंद्र सरकार ने जिस अभियान को तेजी के साथ चलाया था वह भारत को खुले में शौच से मुक्त बनाने के मिशन से अभी भी बहुत दूर है।

Author नई दिल्ली | Updated: September 28, 2016 12:39 PM
महात्मा गांधी के जन्मदिवस पर लॉन्च स्वच्छ भारत मिशन। (Express Photo By Bhupendra Rana, File)

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्म दिवस पर स्वच्छ भारत मिशन के तहत केंद्र सरकार ने जिस अभियान को तेजी के साथ चलाया था वह मिशन अभी भी बहुत दूर है। इस अभियान के तहत 2019 के अंत तक भारत को खुले में शौच से मुक्त (open defecation-free) बनाने की बात कही गई थी। आकड़ों दिखाते हैं कि यह मिशन अभी भी दूर हैं, कुल 4, 041 शहरों मे से केवल 141 सिटीज और कुल 6.08 लाख गांवों के छठवें से भी कम को खुले में शौच से मुक्त (ODF) घोषित किया गया है। ग्रामीण क्षेत्रों में ODF का सिर्फ 16 पर्सेंट और शहरी क्षेत्रों में सिर्फ 3.5 पर्सेंट टारगेट अब तक पूरा किया गया है।

शहरी क्षेत्रों के तहत अब तक कुल 22,000 पब्लिक टॉयलेट बनाए गए हैं जो कि कुल टारगेट 2.55 लाख का करीब 9 पर्सेंट है। वहीं समुदायिक शौचालय के तौर पर 76,744 सीटें बनाई गई है जो कि कुल लक्ष्य का 30 प्रतिशत है। एक अन्य उद्देश्य के तहत 4,041 शहरी क्षेत्रों में 100 प्रतिशत अपशिष्ट प्रबंधन (वेस्ट मैनेजमेंट) को प्राप्त करने का टारगेट रखा गया था। इस मोर्च पर कुछ मुट्ठी भर शहरों और कस्बों में 100 प्रतिशत डोर-टू-डोर कलेक्शन और ट्रांसपोर्टेशन की व्यवस्था है हालांकि इनमें से एक भी शहर 100 प्रतिशत अपशिष्ट के प्रसंस्करण और निपटान में कामयाब नहीं रहा।

वहीं, शहरी क्षेत्रों में अक्टबूर 2019 तक कुल 1.04 करोड़ व्यक्तिगत घरेलू शौचालय बनाने की घोषणा की गई थी। पहले साल में कवल 4.6 लाख टॉयलेट ही बन सके। बाद में मंत्रालय की ओर से इस पंच वर्षीय प्रोग्राम को संशोधित कर 66.42 लाख टायलेट बनाने का टारगेट रखा गया। इस स्कीम के तहत केवल 24 लाख व्यक्तिगत शौचालय बनाए जा सके हैं जो कि पूरे टारगेट का 36 पर्सेंट है।

READ ALSO:  सार्क देशों की बैठक में हिस्‍सा लेने इस्‍लामाबाद नहीं जाएंगे पीएम नरेंद्र मोदी, तीन अन्‍य देशों ने भी किया इनकार

शहरी विकास मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि देरी की वजह राज्य और शहरों द्वारा वित्तीय सहायता की सीमा तय करने में लिया गया समय है। हालांकि, मिशन ने अब पर्याप्त गति प्राप्त कर ली है। इस साल के अंत में केरल, गुजरात और आंध्र प्रदेश ने अपने सभी शहरों को ODF घोषित कर दिया गया है।

READ ALSO:  इस्‍लामाबाद में भारत विरोधी प्रदर्शन, पोस्‍टर में आर्मी चीफ के हाथ में दिखाया नरेंद्र मोदी का कटा सिर

ग्रामीण भारत के कुल 650 जिलों में से केवल 23 जिले को स्वच्छ भारत मिशन के तहत ODF स्टेटस मिला है जबकि 2 अक्टूबर तक 14 और जिलों को इसमें शामिल किया जा सकता है। इस तरह से कुल 6.08 लाख गांवों में से केवल इन 37 जिलों के कुछ एक लाख गांव ही इस स्कीम के तहत शामिल हुए। मंत्रालय के मुताबिक इनमें से सात जिले स्वच्छ भारत मिशन के शुरू होने से पहले ही ओडीएफ घोषित थे।

READ ALSO:  SAARC सम्मेलन के लिए बांग्लादेश और भूटान भी नहीं जाएंगे पाकिस्तान, बोले- ऐसे माहौल में बातचीत नहीं हो सकती

odf-data

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सार्क सम्मेलन में भारत के हिस्सा ना लेने से खलबली, नेपाल के पीएम ने बुलाई बैठक, कैंसल हो सकता है सम्मेलन
2 देश की सियासत वोट के सौदे से निकल विकास के मसौदे पर चल पड़ी : नकवी
3 कर्नाटक तीन दिनों में तमिलनाडु के लिए 6,000 क्यूसेक पानी छोड़े: सुप्रीम कोर्ट