ताज़ा खबर
 

मोदी पर गरजी ‘नीतीश-लालू-सोनिया’ की तिकड़ी

बिहार में महागठबंधन के शीर्ष नेताओं ने बिहार विधानसभा चुनाव से पूर्व पहली बार एक साथ सोनिया गांधी के साथ एकजुटता दिखाई। यहां गांधी मैदान में रविवार को आयोजित स्वाभिमान रैली..

Author पटना | August 31, 2015 8:20 AM
स्वाभिमान रैली में जनता को संबोधित करते बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार। (पीटीआई फोटो)

बिहार में महागठबंधन के शीर्ष नेताओं ने बिहार विधानसभा चुनाव से पूर्व पहली बार एक साथ सोनिया गांधी के साथ एकजुटता दिखाई। यहां गांधी मैदान में रविवार को आयोजित स्वाभिमान रैली में इन नेताओं ने भूमि अधिग्रहण विधेयक के मुद्दे पर जीत का दावा किया। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले महागठबंधन के नेताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर वादे पूरे नहीं करने और बिहारी गौरव का अपमान करने का आरोप लगाया। इस अवसर पर अतीत को पीछे छोड़ते हुए सोनिया, नीतीश और राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद ने एक दूसरे की तारीफ की।

कड़े विरोध का सामना कर रही मोदी सरकार ने रविवार को ही विवादास्पद भूमि अधिग्रहण अध्यादेश को फिर जारी नहीं करने का ऐलान किया। यह अध्यादेश सोमवार को निष्प्रभावी हो रहा है। प्रधानमंत्री ने अपने रेडियो प्रसारण मन की बात में यह घोषणा की।

संसद के मॉनसून सत्र में आक्रामक रुख अख्तियार करने वाली सोनिया गांधी ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार का एक चौथाई कार्यकाल पूरा हो गया है। लेकिन उसने शोबाजी के अलावा कुछ नहीं किया। सोनिया ने कहा, ‘यह एक किसान विरोधी सरकार है। वे किसानों की जमीन हड़पकर उन्हें अपने अमीर मित्रों में बांटना चाहते हैं। हम संसद में किसानों के हितों के लिए लड़े और अंत में सरकार को झुकना पड़ा।’ सोनिया ने निशाना साधते हुए कहा, ‘कुछ लोग बिहार का मजाक उड़ाते हैं। जब भी उन्हें मौका मिलता है, वे इसके डीएनए और संस्कृति की बात करते हैं। वे इसे बीमारू भी कहते हैं।’

सोनिया ने मतदाताओं से लंबे चौड़े वायदों के झांसे में नहीं आने को कहा। किसानों के संदर्भ में सोनिया ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) डेढ़ गुना करने का वादा किया था लेकिन इसके खिलाफ काम किया।

नीतीश ने मोदी के डीएनए वाले बयान को वापस लेने की मांग करते हुए कहा, ‘इस स्थान से ही गौतम बुद्ध, महावीर और आर्यभट्ट निकले थे। मेरा डीएनए वही डीएनए है।’ नीतीश ने कहा, ‘आज जब पटना में स्वाभिमान रैली का आयोजन किया जा रहा है तो प्रधानमंत्री को झुकने के लिए और भूमि अधिग्रहण विधेयक पर अपने कदम पीछे खींचने को मजबूर होना पड़ा है।’

मोदी ने कुछ दिन पहले मुजफ्फरपुर में भाजपा की एक रैली में कहा था, ‘उनके (नीतीश के) डीएनए में कोई समस्या लगती है क्योंकि लोकतंत्र का डीएनए ऐसा नहीं होता। लोकतंत्र में आप अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों का भी सम्मान करते हैं।’ प्रधानमंत्री के इस बयान पर नीतीश कुमार ने नाराजगी जताई थी। जद (एकी) ने मोदी के खिलाफ ‘शब्दवापसी’ अभियान शुरू कर दिया था।

‘जंगल राज’ को लेकर बार-बार दिए जाने वाले बयानों पर राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद ने कहा कि जद (एकी)-राजद-कांग्रेस-सपा का गठजोड़ ‘मंगल राज भाग-2’ लेकर आएगा। लालू ने भाजपा पर हिंदू-मुसलिम विभाजन के प्रयास करने का आरोप लगाते हुए कहा, ‘मुझे उनकी सोच पता है। मोदी हमें ‘जंगल राज भाग-2’ लाने वाला कहते हैं लेकिन यह मंगल राज भाग-2 होगा।’ लालू ने कहा, ‘मैं और नीतीश कुमार पिछड़ी जातियों के दो बेटे हैं। लालू के बाद अब नीतीश कुमार हैं।’

नीतीश ने ‘जंगल राज’ लौटने के मोदी के बयानों पर हमला करते हुए कहा, ‘कोई जंगल राज नहीं आ रहा। गरीब गुरबा अपने अधिकारों के प्रति जाग गया है जिसे भाजपा जंगल राज कह रही है।’ नीतीश ने इस दौरान लालू को ‘बड़ा भाई’ बताया। नीतीश ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनकी ‘जंगलाराज’ वाली टिप्पणी पर सवाल किया और कहा कि वह ऐसा किस आधार पर कह रहे हैं। आज बिहार में कानून का राज है। जब कानून का पालन किया जाता है तो भाजपा के प्रदेश कार्यालय से मुख्यमंत्री की छाती तोड़ देने की धमकी दी जाती है। ऐसी धमकी देने वाले (रालोसपा के प्रदेश अध्यक्ष अरुण कुमार) को प्रधानमंत्री जी अपना प्रिय मित्र बताते हैं, तो क्या यह मंगल राज है।

बिहार में अपराध बढ़ने के प्रधानमंत्री के आरोप पर नीतीश ने राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो के 2014 का आंकडा पेश करते हुए बताया कि संज्ञेय अपराध की प्रति लाख पर राष्ट्रीय औसत दर 229 है। दिल्ली जहां की पुलिस केंद्र के अधीन है वहां यह दर सबसे अधिक 767.4, भाजपा शासित मध्य प्रदेश में 358.7, हरियाणा में 298.2, छत्तीसगढञ में 229.7 और गुजरात में 213.3 है जबकि बिहार 174.2 के साथ देश में 22वें स्थान पर है। महिलाओं के साथ अपराध के मामले में दिल्ली देश में जहां शीर्ष पर है, वहीं बिहार 26वें स्थान पर है।

सीट बंटवारे के समझौते के तहत जद (एकी) 243 सदस्यीय विधानसभा की 100 सीटों पर किस्मत आजमा रही है। राजद 98 और कांग्रेस 40 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। राकांपा को तीन सीटों की पेशकश के बाद पार्टी अध्यक्ष शरद पवार ने राज्य में गठबंधन से नाता तोड़ लिया था। बाद में ये तीन सीटें सपा को दे दी गईं। लालू ने भी अपनी 100 सीटों में से दो सपा को दे दीं।

नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री की ओर से घोषित 1.25 लाख करोड़ रुपए के विशेष पैकेज को रिपैकेजिंग बताते हुए कहा कि उससे में एक लाख आठ करोड रुपए उन्हीं जाली नोट की तरह हैं जो कि देखने में असली नोट की तरह लगते हैं पर बाजार में उनकी कोई कीमत नहीं होती है। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव के समय काला धन वापस लाने और बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने सहित जो भी अन्य वादे किए गए वे पूरे नहीं हुए तो अब कौन यकीन करे आपके वायदे पर। बाद में विशेष पैकेज को भी जुमला बता देंगे। उत्तर प्रदेश के मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने रैली में सपा की नुमाइंदगी की।

* मोदी अपने अमीर दोस्तों को देना चाहते हैं किसानों की जमीन : सोनिया
* अब मंगलराज आएगा: लालू,
* ‘डीएनए’ को लेकर तिलमिलाए नीतीश

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App