ललित मोदी के लपेटे में वसुंधरा राजे - Jansatta
ताज़ा खबर
 

ललित मोदी के लपेटे में वसुंधरा राजे

आइपीएल के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी ने एक चौंकाने वाले खुलासे में मंगलवार को कहा कि राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने ब्रिटेन में उनके आव्रजन आवेदन का लिखित समर्थन किया था।

Author June 17, 2015 11:20 AM
ललित मोदी ने एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा कि दो साल पहले कैंसर का इलाज कराने पुर्तगाल गईं उनकी पत्नी के साथ वसुंधरा राजे गई थीं।

आइपीएल के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी ने एक चौंकाने वाले खुलासे में मंगलवार को कहा कि राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने ब्रिटेन में उनके आव्रजन आवेदन का लिखित समर्थन किया था। मोदी ने यह भी कहा कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से उनके पारिवारिक संबंध हैं जिनके पति और बेटी ने उन्हें मुफ्त कानूनी सेवाएं मुहैया कराईं।

मोंटेग्रो में छुट्टियां बिता रहे ललित मोदी ने एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा कि दो साल पहले कैंसर का इलाज कराने पुर्तगाल गईं उनकी पत्नी के साथ वसुंधरा राजे गई थीं। राजे दिसंबर 2013 में दूसरी बार राजस्थान की मुख्यमंत्री बनी थीं।

मनी लांड्रिंग व कई अन्य गंभीर आरोपों में घिरे ललित मोदी का यह खुलासा इस मायने में अहम हो जाता है कि यह उस समय आया है जब कुछ ही घंटे पहले इस आशय की एक रिपोर्ट सामने आईं जिसमें कहा गया कि राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने उनके (ललित) आव्रजन आवेदन का कथित तौर पर समर्थन किया था। यह दस्तावेज मंगलवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली की ओर से सुषमा स्वराज का बचाव किए जाने के कुछ घंटे बाद सामने आया था।

‘विटनेस स्टेटमेंट’ शीर्षक वाले इस दस्तावेज में गोपनीयता का उपबंध है जिसमें वसुंधरा ने ललित मोदी के मामले का कथित तौर पर समर्थन किया, लेकिन वे यह नहीं चाहती थीं कि इसका खुलासा भारतीय प्रशासन के समक्ष हो। कहा गया है कि इस दस्तावेज को ललित मोदी कैंप ने जारी किया है। जयपुर में देर शाम वसुंधरा ने इस दस्तावेज से खुद को अलग करते हुए कहा, ‘जाहिर तौर पर मैं परिवार को जानती हूं। मैं हमेशा से उन्हें जानती हूं। लेकिन मुझे नहीं पता कि वे किन दस्तावेजों के बारे में बात कर रहे हैं।’ यह पूछे जाने पर कि क्या यह मीडिया ट्रायल है, उन्होंने कहा, ‘यह फैसला आपको करना है।’

ललित मोदी ने अपने इंटरव्यू में कहा कि वसुंधरा राजे से मेरे संबंध तीस साल पुराने हैं और यह सभी जानते हैं। वे मेरे परिवार और पत्नी को लंबे समय से जानती हैं। उन्होंने (विटनेस) बनने के लिए साफ तौर पर हामी भरी थी लेकिन दुर्भाग्य से जब मामले की सुनवाई शुरू हुई तब तक वे मुख्यमंत्री बन चुकी थीं। इसलिए वे गवाह बनने के लिए नहीं आईं।

जो बयान उन्होंने दिया था वह भी अदालत के रिकार्ड में उपलब्ध है। मोदी ने कहा, ‘राजे और सुषमा ने मेरा साथ तब दिया जब मेरी पत्नी बीमार थीं। यह पारिवारिक था, कानूनी — इसे आप जो भी नाम देना चाहें। हम बहुत करीबी थे। लेकिन मुद्दा यह नहीं है। सुषमा स्वराज ही नहीं, मेरे कई नेताओं से करीबी संबंध हैं।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App