ताज़ा खबर
 

अकाली दल (ए) ने सुषमा से 1984 दंगों के बाद बनी सिखों की कालीसूची खत्म करने के लिए कहा

शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) ने आज घोटाले के आरोपी पूर्व आईपीएल प्रमुख ललित मोदी से कथित संंबंधों पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की निंदा करते हुए उन्हें ‘हिन्दू कट्टरपंथी’ बताया और उन पर वर्ष 1984 दंगों के बाद ‘‘कालीसूची में डाले गये सिखों के लिए कुछ खास’’ कदम नहीं उठाने का आरोप लगाया।
Author June 16, 2015 17:58 pm
शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) ने आज घोटाले के आरोपी पूर्व आईपीएल प्रमुख ललित मोदी से कथित संंबंधों पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की निंदा करते हुए उन्हें ‘हिन्दू कट्टरपंथी’ बताया और उन पर वर्ष 1984 दंगों के बाद ‘‘कालीसूची में डाले गये सिखों के लिए कुछ खास’’ कदम नहीं उठाने का आरोप लगाया।

शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) ने आज घोटाले के आरोपी पूर्व आईपीएल प्रमुख ललित मोदी से कथित संंबंधों पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की निंदा करते हुए उन्हें ‘हिन्दू कट्टरपंथी’ बताया और उन पर वर्ष 1984 दंगों के बाद ‘‘कालीसूची में डाले गये सिखों के लिए कुछ खास’’ कदम नहीं उठाने का आरोप लगाया।

पार्टी अध्यक्ष और पूर्व सांसद सिमरनजीत सिंह मान ने यहां एक बयान में कहा कि सुषमा स्वराज एक हिन्दू कट्टरपंथी हैं जो दक्षिणपंथी हिन्दू संगठन आरएसएस के जरिये राजनीति में आगे बढ़ीं।

उन्होंने कहा, ‘‘ललित मोदी एक अपराधी हैं, वह न्याय से भागे हैं और उन्होंने सुनवाई से बचने के लिए ब्रिटेन में शरण ली हुई है।’’

उन्होंने कहा कि ब्रिटिश सरकार से ललित की मदद के लिए कहकर सुषमा ने अपनी स्थिति और विदेश मंÞत्री के रूप में पद को दूषित किया है।

मान ने विदेश मंत्री द्वारा पूर्व आईपीएल प्रमुख की ‘मदद’ और दिल्ली में वर्ष 1984 सिख विरोधी दंगों के दौरान केन्द्र सरकार द्वारा कालीसूची में डाले गये सिखों के लिए ‘कुछ नहंीं करने’ की तुलना की।

उन्होंने कहा, ‘‘अगर वह मानवीय कारणों से ललित मोदी की मदद कर रही हैं तो वर्ष 1984 से करीब 350 सिख केन्द्र सरकार की कालीसूची में डाले गये हैं। ये सिख भारत में प्रवेश नहंीं कर सकते क्योंकि उन्हें वीजा नहीं दिया जा रहा। इसके अलावा उन्होंने इराक में पकड़े गये 39 सिखों के लिए भी कुछ नहीं किया।’’

मान ने कहा कि सुषमा को उस सूची को खत्म करना चाहिए क्योंकि उदारता घर से शुरू होती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.