ताज़ा खबर
 

देश के पहले 5 शिक्षा मंत्री केवल एक ही समुदाय से क्यों बनाए? राहुल गांधी बताएं, भगवान राम का नाम ले पूछने लगे सुशील मोदी

बीजेपी नेता और राज्यसभा सांसद सुशील मोदी ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी को आड़े हाथ लेते हुए कई सवाल एक साथ पूछे हैं।

bjp, congressबीजेपी नेता सुशील मोदी। (Indian Express)।

बीजेपी नेता और राज्यसभा सांसद सुशील मोदी ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी को आड़े हाथ लेते हुए कई सवाल एक साथ पूछे हैं। सुशील मोदी ने कहा कि राहुल गांधी बताएं कि देश के पहले 5 शिक्षा मंत्री केवल एक ही समुदाय से क्यों बनाए गए? मोदी ने ट्वीट किया, “राहुल गांधी बतायें कि देश के पहले पांच शिक्षा मंत्री केवल एक ही समुदाय से क्यों बनाये गए? भारत का विकृत इतिहास पढ़ाए जाने और भगवान राम का अस्तित्व नकारने के लिए क्या कांग्रेस माफी मांगेगी?”

एक अन्य ट्वीट में मोदी ने पूछा, “राहुल गांधी बतायें कि आजादी के बाद कांग्रेस के 60 साल के एकछत्र शासन के दौरान लगभग 200 सरकारी भवनों, संस्थाओं, सार्वजनिक स्थलों के नाम केवल नेहरू-गांधी परिवार के व्यक्तियों से क्यों जोड़े गए?” मोदी ने कहा कि लोकतंत्र के साथ इतने बड़े अपराध को दबी जुबान से केवल “गलती” मानने में कांग्रेस को 46 साल लग गए। सुशील मोदी ने कहा कि राहुल गांधी 15 साल से सांसद हैं और पार्टी के अध्यक्ष भी रह चुके हैं, लेकिन उन्होंने आपातकाल थोपने का अपने दल का गुनाह कुबूल करने में इतनी देर क्यों की?

मोदी ने कहा कि इंदिरा गांधी ने 1975 में इलाहाबाद हाईकोर्ट के प्रतिकूल फैसले के बाद अपनी सत्ता बचाने के लिए अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता सहित सारे संवैधानिक अधिकार छीन कर लाखों सामाजिक-राजनीतिक कार्यकर्ताओं को जेल में डाल दिया था।


मोदी ने कहा कि प्रसार भारती और राज्यसभा-लोकसभा टीवी जैसे सरकारी प्रसार माध्यम और बड़े मीडिया घरानों तक के शीर्ष पदों पर भाजपा-विरोधी विचारधारा के लोग ही नियुक्त होते रहे ? राहुल गांधी को आपातकाल लगाने का ही नहीं, संस्थाओं के राजनीतिकरण का अपराध भी स्वीकार करना चाहिए।

बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम ने कहा कि राहुल गांधी RSS के लोगों की योग्यता और नियुक्ति पर सवाल उठाने से पहले बताएं कि देश की शिक्षा व्यवस्था में कम्युनिस्टों, जेहादियो और सनातन धर्म से दुराग्रह रखने वाले लोगों को ही क्यों भरा गया?

इससे पहले कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आपातकाल को एक गलती करार दिया था। राहुल ने कहा कि संस्थाएं उस समय कमजोर नहीं हुई थीं जैसे कि आज आरएसएस द्वारा किया जा रहा है।

बता दें कि देश के सबसे पहले शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आजाद थे। इसके बाद केएल श्रीमाली, हुमांयु कबीर, मोहम्मद करीम चगला, फखरुद्दीन अली अहमद शिक्षा मंत्री रहे।

Next Stories
1 यूपी के गुंडों को गले लगा रहे और बंगाल में भाषण दे रहे योगी आद‍ित्‍य नाथ- आप सांसद संजय स‍िंह का वार
2 रिपोर्टर ने पूछा सवाल तो अखिलेश यादव ने दिया जवाब- फिर बिक गए तुम, कितने में बिके? नाम बताओ चैनल का
3 राहुल गांधी की तकलीफ क्या है, आज समझा देता हूं, टीवी डिबेट में बोले पैनलिस्ट; कांग्रेस प्रवक्ता का ऐसा रहा र‍िएक्‍शन
ये पढ़ा क्या?
X