ताज़ा खबर
 

नीतीश के डीएनए में धोखा और अहंकार है: सुशील मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के डीएनए में गड़बड़ी का आरोप लगाए जाने के एक दिन बाद भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने..

Author July 27, 2015 12:40 PM
भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी (इंडियन एक्सप्रेस फोटो)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के डीएनए में गड़बड़ी का आरोप लगाए जाने के एक दिन बाद भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने भी नीतीश के ‘राजनीतिक डीएनए’ में धोखा, अहंकार और तिरस्कार होने का आरोप लगाते हुए कहा कि वह खुद को बिहार का पर्याय बताकर लोगों की सहानुभूति बटोरने की कोशिश में लगे हैं।

सुशील ने रविवार को एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि लोगों का ‘डीएनए’ तो विश्वास, सदभाव और अतिथि सत्कार का है, लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का ‘राजनीतिक डीएनए’ धोखे, तिरस्कार और अहंकार से बना है। उन्होंने समाजावादी नेता राममनोहर लोहिया के गैर कांग्रेसवाद से लेकर भाजपा और महादलित नेता जीतनराम मांझी तक को धोखा दिया।

उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस की संगत का असर है कि नीतीश कुमार खुद को बिहार का पर्याय बताकर 11 करोड़ बिहारियों का अपमान कर रहे हैं। आपातकाल में इंदिरा गांधी भी स्वयं को भारत समझने लगी थी। इसका अंजाम उन्हें भुगतना पड़ा। नीतीश कुमार को भी जल्द ही जनता सबक सिखायेंगी।

बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता और प्रदेश की पिछली राजग सरकार में नीतीश मंत्रिमंडल में उपमुख्यमंत्री रहे सुशील कुमार मोदी ने आरोप लगाया कि बिहार के लोग तो खुद आधा पेट खाकर भी अतिथि को भरपेट भोजन कराते हैं। अतिथि सत्कार बिहार का डीएनए है लेकिन नीतीश कुमार ने भाजपा नेताओं को दावत (वर्ष 2010 में पटना में आयोजित भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के समय) देने के बाद सामने से थाली खींचकर साबित कर दिया कि उनका डीएनए अलग है।

उन्होंने आरोप लगाया कि नीतीश कुमार ने 1994 में राजद प्रमुख लालू प्रसाद को धोखा दिया। भाजपा ने 17 साल में उन्हें दो बार केंद्रीय मंत्री और तीन बार मुख्यमंत्री बनाया। इसके बावजूद उन्होंने नरेंद्र मोदी के बहाने गठबंधन तोड़कर भाजपा को धोखा दिया।

सुशील ने आरोप लगाया कि वर्ष 2010 में लालू प्रसाद और कांगेस के ‘जंगलराज’ के विरुद्ध जनादेश मिला था। नीतीश कुमार जनता को धोखा देकर उसी लालू प्रसाद के गोद पर गिर गए, जिनके खिलाफ वोट मांगकर सत्ता में आये थे। विश्वासघात का यह डीएनए नीतीश कुमार है, बिहार की जनता का नहीं।

उन्होंने आरोप लगाया कि वर्ष 2014 में नीतीश कुमार ने जीतनराम मांझी को धोखा देकर उनसे मुख्यमंत्री की कुर्सी छीन ली और महादलित नेता का अपमान किया। जॉर्ज फर्नांडीज के आशीर्वाद से नीतीश कुमार ने राजनीतिक उंचाई पाई। उनको भी धोखा दिया। लालू प्रसाद के साथ वह कब तक रहेंगे, इसका स्वयं उन्हें भी पता नहीं है।

सुशील ने आगामी सितंबर-अक्तूबर में संभावित बिहार विधानसभा चुनाव की ओर इशारा करते हुए नीतीश को धोखा, तिरस्कार और अहंकार की राजनीति का ‘कालिया नाग’ बताया और दावा किया कि उनका अंत होने में अब केवल तीन माह दूर है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App