ताज़ा खबर
 

कुमार विश्वास ने किसे कहा बौना सरदार, सर्जिकल स्ट्राइक पर अपनी पार्टी के नेताओं पर यूं साधा निशाना

Surgical Strike Video (सर्जिकल स्ट्राइक विडियो): बुधवार (27 जून) रात सर्जिकल स्ट्राइक का एक वीडियो सामने आया। दो साल पहले हुई बड़ी सैन्य कार्रवाई को लेकर तब विपक्षी दलों ने सवाल किए थे। केजरीवाल ने तब एक टीवी इंटरव्यू में पूछा था, "पाकिस्तान की सरकार एक बस भर के अंतर्राष्ट्रीय पत्रकारों को सीमा पर ले गई। पड़ोसी मुल्क ने वहां दिखाया गया कि भारत यहां कह रहा था कि सर्जिकल स्ट्राइक हुई, मगर यहां तो कुछ भी नहीं हुआ।"

जाने-माने कवि कुमार विश्वास कई दिनों से आम आदमी पार्टी से खफा चल रहे हैं। (एक्सप्रेस फोटोः अमित मेहरा)

आम आदमी पार्टी (आप) के बागी नेता कुमार विश्वास ने सर्जिकल स्ट्राइक के मसले पर अपनी ही पार्टी के नेताओं पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि सेना की शौर्यगाथा के प्रमाण चिह्न देखकर पाखंडी (आप नेताओं) कम से कम, खुद से माफी मांगें। बिना नाम लिए उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री और पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल पर हमला बोला। विश्वास ने उन्हें बौना सरदार बताया।

बुधवार (27 जून) रात सर्जिकल स्ट्राइक का एक वीडियो सामने आया। दो साल पहले हुई बड़ी सैन्य कार्रवाई को लेकर तब विपक्षी दलों ने सवाल किए थे। केजरीवाल ने तब एक टीवी इंटरव्यू में पूछा था, “पाकिस्तान की सरकार एक बस भर के अंतर्राष्ट्रीय पत्रकारों को सीमा पर ले गई। पड़ोसी मुल्क ने वहां दिखाया गया कि भारत यहां कह रहा था कि सर्जिकल स्ट्राइक हुई, मगर यहां तो कुछ भी नहीं हुआ।”

विश्वास ने दिल्ली के सीएम के उसी सवाल को लेकर दो ट्वीट किए। लिखा, “तीन में से जिस एक मुद्दे पर सेना के पक्ष में होने पर मुझे कथित राजनीतिक नुकसान पहुंचाया गया था, आज उसी शौर्यगाथा के प्रमाण चिह्न देख कर उन अखंड पाखंडियों को मुझसे नहीं तो खुद से तो माफी मांगनी ही चाहिए। हमारे लिए जो जीवन दें, उनके लिए कुछ भी कुर्बान।”

अगले ट्वीट में वह बोले, “आतंक से लड़ रही सेना के खिलाफ राजनीति नहीं करने दूंगा, यह सुनकर आत्मा का सौदा करने वाले 11 नवपतित गिद्धों को जमा कर बौने सरदार ने मुझसे कहा था- तुम मेरे और संगठन के साथ नहीं हो। तो सुन लो लंपटेश- देश के साथ था, हूं और रहूंगा। तुम जैसे रोज आएंगे, रोज जाएंगे, पर देश था, है और रहेगा।”

साल 2016 में कश्मीर के उड़ी में बड़ी सैन्य कार्रवाई हुई थी, जिसे सर्जिकल स्ट्राइक बताया गया था। करीब दो सालों बाद पहली बार उसका वीडियो सामने आया है। भारतीय सेना ने तब 29 सितंबर को लाइन ऑफ कंट्रोल पार कर के पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) में आतंकी ठिकानों को तबाह किया था। हालांकि, अभी तक सेना ने उस वीडियो पर कोई पुष्टि नहीं की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App