ताज़ा खबर
 

नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में केंद्रीय मंत्रियों ने किया भ्रष्टाचार? जानकारी सार्वज‍न‍िक करने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने भेजा नोटिस

यह 2002 बैच के अधिकारी चतुर्वेदी ने यह अर्जी अगस्त 2017 में पीएमओ में दी थी। याचिका में इन शिकायतों का आरटीआई कानून के तहत खुलासा करने की अपील की गई है।

Supreme Court to hear the petition of corruption disclosure of Union ministers, notice sent to PMOपूर्व आईएफएस ऑफिसर संजीव चतुर्वेदी ने प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) से मांगी जानकारी। फोटो: Indian Express

सुप्रीम कोर्ट ने इंडियन फॉरेस्ट सर्विस के पूर्व ऑफिसर संजीव चतुर्वेदी की उस याचिका पर सुनवाई करने के लिए सहमति जताई जिसमें उन्होंने मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में केंद्रीय मंत्रियों के भ्रष्टाचार की जानकारी मांगी है। भ्रष्टाचार पर सरकार की नाक में दम करने वाले चतुर्वेदी ने अपनी याचिका में राइट टू इन्फॉर्मेशन (आरटीआई) के तहत जानकारी मांगी है कि 2014 से 2017 के दौरान पीएमओ को मंत्रियों के खिलाफ भ्रष्टाचार की कितनी शिकायतें म‍िलीं और उन पर क्‍या ऐक्शन ल‍िया गया। 2002 बैच के अधिकारी चतुर्वेदी ने यह अर्जी अगस्त 2017 में पीएमओ में दी थी।

याचिका में इन शिकायतों का आरटीआई कानून के तहत खुलासा करने की अपील की गई है। यही नहीं याचिका में पीएमओ से 2014 के बाद विदेशों से कितना काला धन लाया गया और कितना आम जनता के बीच बांटा गया इसकी जानकारी मांगी गई है।

न्यायमूर्ति नागेश्वर राव और न्यायमूर्ति हेमंत गुप्ता की पीठ ने प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के केंद्रीय लोक सूचना अधिकारी (सीपीआईओ) को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। मालूम हो कि इससे पहले दिल्ली हाई कोर्ट ने पूर्व आईएफएस अधिकारी को ये जानकार‍ियां द‍िए जाने के खिलाफ आदेश सुनाया था।

Budget 2020 LIVE Updates: बजट 2020 में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने किया टैक्स छूट का ऐलान, 5 से 7.5 लाख पर लगेगा 10 फीसदी कर

कई घपलों का भंडाफोड़ कराने वाले अधिकारी संजीव चतुर्वेदी का कहना है कि कोर्ट ने चीफ इन्फॉर्मेशन कमीशन (सीआईसी) के आदेश को बरकरार रखा था जो कि पीएमओ के पक्ष में था। उन्होंने कहा है कि केंद्रीय मंत्री जनता द्वारा चुने गए प्रतिनिध हैं ऐसे में पीएमओ को मंत्रियों के खिलाफ मिली भ्रष्टाचार की जानकारियों के बारे में जाननेे का पूरा अधिकार है।

वहीं पीएमओ ने अक्टूबर 2017 में अपने जवाब में कहा था कि यह सूचना ‘व्यापक और अस्पष्ट’ है और उसने ऐसी सूचना साझा करने से इनकार करने संबंधी सीआईसी के इससे पहले के एक आदेश का भी हवाला दिया।

Budget 2020 Income Tax Slabs and Rates LIVE Updates: छूट के बाद 5 लाख तक की आय करमुक्त, रोजगार अवसर सुधारने पर जोर

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Budget 2020 Speech: निर्मला सीतारमण ने तोड़ा लंबे बजट भाषण का 17 साल पुराना रिकॉर्ड, नॉन स्टॉप बोलीं 2 घंटे 40 मिनट!
2 बजट भाषण में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का ऐलान- Aadhaar से मिलेगा झटपट PAN
3 Budget 2020: घर खरीदने वालों को बजट में नहीं मिला खास फायदा, सिर्फ लोन के ब्याज की रकम पर मिलेगी अतिरिक्त टैक्स छूट
यह पढ़ा क्या?
X