ताज़ा खबर
 

तीन साल में 1600 यात्रियों की जान गई, सुप्रीम कोर्ट ने रेलवे को मेडिकल सुविधाओं पर फटकारा

न्यायमूर्ति मदन बी लोकूर और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ ने कहा, 'आपके (रेलवे) पास प्राथमिक चिकित्सा की सुविधा तक नहीं है। आप इस बारे में नहीं बता रहे। अगर वहां यह (चिकित्सा सुविधा) नहीं है तो, वाकई कुछ बहुत गलत है।'

Author August 1, 2018 12:26 PM
तस्वीर का प्रयोग प्रतीक के तौर पर किया गया है। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

सुप्रीम कोर्ट ने यात्रियों को मेडिकल सुविधाएं देने के मामले में रेलवे को जमकर फटकार लगाई है। कोर्ट का कहना है कि ट्रेनों और स्टेशनों पर समुचित चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने में नाकाम रहे रेलवे में वाकई ‘कुछ बहुत गलत’ है। पर्याप्त चिकित्सा नहीं मिल पाने से कई मामले में यात्रियों की मौत भी हो जाती है। रेल मंत्रालय ने भी पिछले सप्ताह लोकसभा में माना था कि पिछले तीन सालों में ट्रेन में 1600 से ज्यादा यात्रियों की मौत हो चुकी है।

न्यायमूर्ति मदन बी लोकूर और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ ने कहा, ‘आपके (रेलवे) पास प्राथमिक चिकित्सा की सुविधा तक नहीं है। आप इस बारे में नहीं बता रहे। अगर वहां यह (चिकित्सा सुविधा) नहीं है तो, वाकई कुछ बहुत गलत है।’ विजयवाड़ा रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर ट्रेन से उतरते समय एक व्यक्ति की मौत से जुड़े मामले में सुनवाई के दौरान शीर्ष अदालत ने यह सख्त टिप्पणी की। पूर्व में मामले की सुनवाई करने वाले राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निपटारा आयोग (एनसीडीआरसी) ने कहा था कि व्यक्ति की मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई थी। शीर्ष अदालत ने रेलवे बोर्ड की ओर से पेश वकील से दो हफ्ते में एक हलफनामा दाखिल कर रेलवे स्टेशनों पर उपलब्ध चिकित्सा सुविधा के बारे में बताने को कहा है।

कोर्ट ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा, ‘एक व्यक्ति रेलवे स्टेशन पर गिर जाता है। वह वहां घंटों पड़ा रहता है और उसे कोई भी मेडिकल हेल्प नहीं मिलती।’ रेलवे की तरफ से मौजूद वकील ने कहा कि रेलवे स्टेशन द्वारा दी जाने वाली मेडिकल सुविधाओं के बारे में पूरी जानकारी का एक एफिडेविट कोर्ट में दिया जाएगा। एनसीडीआरसी ने अपने आदेश में कहा था कि वह व्यक्ति गोलकोंडा एक्सप्रेस से सिकंदराबाद से विजयवाड़ा गया था, वह शाम करीब 8 बजे विजयवाड़ा स्टेशन पर उतरा था। कमीशन ने बताया कि उस व्यक्ति की विजयवाड़ा रेलवे स्टेशन के किसी प्लेटफॉर्म पर मौत हुई थी और उसका शव करीब 4 घंटे तक वहीं पड़ा रहा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App