ताज़ा खबर
 

शराब से मौत हादसा नहीं, इसलिए बीमा भुगतान नहीं- सुप्रीम कोर्ट का फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने मुआवजे के दावे वाली एक याचिका खारिज करते हुए कहा कि ज्यादा शराब पीने की वजह से हुई मौत कोई दुर्घटना नहीं है। ऐसे में बीमा कंपनी का दायित्व मुआवजा देना नहीं है।

liquor death, supreme courtज्यादा शराब पीने से गई थी जान, सुप्रीम कोर्ट ने कही अहम बात। सांकेतिक तस्वीर- Freepik

ज्यादा शराब पीने की वजह से हुई मौत के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने बीमा के दावे वाली याचिका खारिज कर दी। कोर्ट ने कहा कि यह कोई हादसा नहीं है इसलिए बीमा का भुगतान नहीं किया जा सकता। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि बीमा कांपनी की जिम्मेदारी पूरी तरह या प्रत्यक्ष तौर पर दुर्घटना में पहुंची चोट के मामले में ही मुआवजा देने का है।

जस्टिस विनीत सरन और जस्टिस एमएम शांतनगौदर वाली पीठ ने राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग के फैसले को बरकार रखते हुए कहा कि बीमा नीति के तहत इस तरह के केस में मुआवजा देने का कोई संवैधानिक प्रावधान नहीं है। मौत किसी दुर्घटना की वजह से नहीं बल्कि खराब लत की वजह से हुई।

कोर्ट ने कहा, ’24 अप्रैल 2009 को राष्ट्रीय आयोग ने जो फैसला सुनाया था, उसे बरकरार रखा जाता है।’ दरअसल हिमाचल प्रदेश राज्य वन निगम में तैनता एक चौकीदार की अत्यधिक शराब पीने की वजह से मौत हो गई थी। इसके बाद उनकी कानूनी उत्तराधिकारी नर्बदा देवी ने याचिका दाखिल कर मुआवजे की मांग की थी।

यह घटना 1997 की है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में बताया गया था कि मौत ज्यादा शराब पीने और दम घुटने की वजह से हुई है। इसी मामले में राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग के फैसले के बाद याचिकाकर्ता ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट कर दिया कि इस तरह की मौत दुर्घटना की श्रेणी में नहीं आती है और इसके लिए बीमा कंपनी का दायित्व मुआवजा देने का नहीं है।

बता दें कि जहरीली शराब की वजह से भी अकसर लोगों की मौत की खबर सामने आती है। बीते दिनों यूपी के चित्रकूट में भी इस तरह की घटना सामने आई। यहां जहरीली शराब की वजह से सात लोगों की मौत हो गई। इस मामले में कई पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। शराब का दुकानदार नकली स्टीकर लगाकर जहरीली शराब बोतलों में भरकर बेचता था।

Next Stories
1 बंगाल चुनावः BJP ने जारी की 13 उम्मीदवारों की लिस्ट, देखें- कहां से किसे दिया मौका?
2 राफेल केस में जब सुषमा स्वराज ने न दिया था इस्तीफा फिर देशमुख से क्यों मांग कर रही है BJP?- पूछने लगे पैनलिस्ट
3 शहीद दिवस पर बीजेपी सांसद गौतम गंभीर का तंज भरा ट्वीट- याद रहे आज़ादी सिर्फ़ घूमते चरखों ने नहीं, फांसी पर झूलते दीवानों ने भी दिलवाई है!
ये पढ़ा क्या?
X