ताज़ा खबर
 

पोस्टर वार: होर्डिंग सही या गलत? नहीं हुआ फैसला, मामला तीन जजों की बड़ी बेंच को भेजा गया

सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार द्वारा इलाहाबाद उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई शुरू कर दी है। इसमें कोर्ट ने राज्य में सीएए विरोधी प्रदर्शनों के दौरान कथित रूप से बर्बरता में लिप्त आरोपियों के पोस्टरों को तुरंत हटाने के निर्देश दिया था

लखनऊ में सीएए विरोधी आंदोलन में हिंसा फैलाने के आरोपियों के पोस्टर (फोटो -इंडियन एक्सप्रेस)

सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा इलाहाबाद उच्च न्यायालय के उस आदेश को चुनौती देने वाली विशेष अवकाश याचिका पर गुरुवार को सुनवाई शुरू की जिसमें कोर्ट ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया था कि वे राज्य में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) विरोधी प्रदर्शनों के दौरान कथित रूप से बर्बरता में लिप्त आरोपियों के पोस्टरों को तुरंत हटा दें। सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान यूपी सरकार से कहा कि फिलहाल ऐसा कोई कानून नहीं है जो आपकी इस कार्रवाई का समर्थन करे। कोर्ट ने मामला तीन जजों की बड़ी बेंच को भेज दिया है। इससे पहले सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट के समक्ष उत्तर प्रदेश सरकार के लिए अपने तर्क प्रस्तुत किए, उन्होंने कहा, निजता के अधिकार के कई आयाम हैं।

मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा सीएए विरोधी आंदोलन के दौरान कथित रूप से आगजनी करने और हिंसा फैलाने वालों का ब्योरा देने के लिए यूपी सरकार ने कठोर कदम उठाया है। कोर्ट राज्य की चिंता को समझ सकता है, लेकिन ऐसा कोई कानून नहीं है जो पोस्टर लगाने का समर्थन करे। उत्तर प्रदेश सरकार ने नागरिकता संशोधन कानून के विरोध प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा और तोड़फोड़ के आरोपियों के पोस्टर हटाने के इलाहाबाद उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में अपील दाखिल की थी। कोर्ट ने नौ मार्च को लखनऊ प्रशासन को यह आदेश दिया था। कोर्ट ने यह भी कहा था कि यह कार्रवाई जनता की निजता में गैरजरूरी हस्तक्षेप है।

पूर्व आईपीएस अधिकारी एसआर दारापुरी की तरफ से कोर्ट में मौजूद वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनू सिंघवी अभिषेक मनु सिंघवी ने बाल हत्या का उदाहरण देते हुए कहा – हम कब से और कैसे इस देश में नाम रखने और उन्हें शर्मशार करने की नीति रखने लगे हैं? यदि इस तरह की नीति मौजूद है तो सड़कों या सड़कों पर चलने वाले व्यक्ति को कभी भी पीटा जा सकता है। कहा कि पोस्टर में वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी एसआर दारापुरी का भी नाम और फोटो है। वे 72 बैच के अधिकारी हैं और आईजी के पद से रिटायर्ड हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दिल्ली पुलिस ने पीएफआई अध्यक्ष परवेज को किया गिरफ्तार, शाहीनबाग से जुड़ा है मामला
2 बेंगलुरु में अमित शाह के इस करीबी विधायक पर है एमपी के बागी कांग्रेस विधायकों की जिम्मेदारी, 20 दिन पहले ही दिल्ली में किया गया था ब्रीफ
3 Delhi Violence: दिल्ली दंगों पर बहस में बीजेपी सांसदों ने उठाई जजों और अदालतों पर भी अंगुली