ताज़ा खबर
 

‘ब्रिटिश एजेंट थे सावरकर, मुस्लिमों के खिलाफ उगलते थे जहर’, जयंती पर बोले SC के पूर्व जज

काटजू ने कहा कि सावरकर सिर्फ 1910 तक ही राष्ट्रवादी थे, बाद में वे ब्रिटिश सरकार के एजेंट बन गए।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: May 29, 2020 10:41 AM
28 मई को वीर सावरकर की जयंती है।

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मार्केण्डेय काटजू ने वीर सावरकर की जयंती मनाए जाने पर निशाना साधा है। काटजू ने गुरुवार को ट्विटर पर कहा कि कुछ लोग सावरकर की तारीफ कर रहे हैं। मैं कहना चाहता हूं कि वह एक बेशर्म ब्रिटिश एजेंट था, जिसने मुस्लिमों के खिलाफ नफरत फैलाई और ब्रिटिश साम्राज्य की बांटो और राज करो की नीति को आगे बढ़ाया। काटजू ने इस ट्वीट के साथ अपने ब्लॉग का लिंक भी दिया, जिसमें उन्होंने ऐसी प्रतिक्रिया के पीछे की वजह बताई।

काटजू ने ब्लॉग में कहा, “कई लोग सावरकर को महान स्वतंत्रता सेनानी मानते हैं, लेकिन उनके बारे में असलियत क्या थी? सच्चाई यह है कि ब्रिटिश राज के दौरान ब्रिटिश ताकतों ने कई राष्ट्रवादियों को गिरफ्तार कर लंबी सजाएं दे दीं। जेल में ब्रिटिश उन्हें प्रस्ताव देते कि या तो हमारे साथ मिल जाओ, जिस पर हम तुम्हें आजाद कर देंगे या फिर पूरी जिंदगी जेल में ही सड़ते रहो।”

काटजू ने आरोप लगाया कि सावरकर समेत कई अन्य ब्रिटिशों के साथी बन गए। उन्होंने कहा कि सावरकर सिर्फ 1910 तक ही राष्ट्रवादी थे, जब वे गिरफ्तार हुए थे और उन्हें दो उम्रकैद की सजाएं हुईं। काटजू ने कहा, “जेल में 10 साल की सजा काटने के बाद ब्रिटिश हुकूमत ने उन्हें साथ मिल जाने का प्रस्ताव दिया, जिसे सावरकर ने मान लिया। जेल से बाहर आने के बाद उन्होंने हिंदू संप्रादायिकता अपना ली और ब्रिटिश एजेंट बन गए, जो कि ब्रिटेन की बांटों और राज करो की नीति आगे बढ़ा रहे थे।”

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज ने कहा कि जब द्वितीय विश्व युद्ध चल रहा था तब सावरकर राजनीति के हिंदुत्वीकरण की बात कह रहे थे और युद्ध में ब्रिटेन का साथ देने के लिए हिंदुओं को मिलिट्री ट्रेनिंग देने की मांग उठा रहे थे। इसके अलावा जब कांग्रेस ने 1942 में अंग्रेजों भारत छोड़ो अभियान चलाया तो सावरकर ने उसकी आलोचना की और हिंदुओं से ब्रिटिश सरकार की अवहेलना न करने की अपील की। सावरकर ने हिंदुओं से अपील की थी कि वे सेना में अपना नाम लिखवाएं और युद्ध की कलाएं सीखें, लेकिन यह अपील सिर्फ हिंदुओं को ध्यान में रखते हुए की गई थीं।

Coronavirus India Tracker LIVE Updates

काटजू ने पूछा, “क्या ऐसे आदमी को स्वतंत्रता सेनानी के तौर पर सम्मान दिया जा सकता है?” उन्होंने आगे कहा, “देश के असली वीर थे भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, सूर्य सेन, बिस्मिल, अशफाकुल्ला, राजगुरु, खुदीराम बोस जो कि ब्रिटिश ताकतों द्वारा फांसी पर चढ़ा दिए गए। सावरकर के बारे में ऐसा क्या वीर था?”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोना के डर से कब्रिस्तान ने दफनाने से कर दिया इनकार, हिन्दुओं के श्मशान घाट में मिली दो गज जमीन, हुए सुपुर्द-ए-खाक
2 1 जून तक उत्तर भारत के कई हिस्सों में मौसम रहेगा सुहाना, पश्चिम बंगाल में दो दिन बारिश के आसार
3 कोरोना संकट में सावरकर पर संग्राम, बीजेपी सरकार ने हिन्दूवादी नेता के नाम पर फ्लाइओवर का नाम रखा तो उबल पड़े पूर्व कांग्रेसी सीएम