ताज़ा खबर
 

PNB Scam: नीरव मोदी के पक्ष में पूर्व SC जज ने दी गवाही, कहा- भारत में न्यायपालिका का अधिकांश हिस्सा भ्रष्ट, निष्पक्ष सुनवाई का मौका नहीं; ट्रोल

भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी पीएनबी घोटाले में आरोपी है, सीबीआई की चार्जशीट में उसके और मेहुल चौकसी के खिलाफ 13 हजार करोड़ के घोटाले का आरोप है।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र लंदन | Updated: September 12, 2020 1:40 PM
Markandey Katju, Nirav Modiसुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मार्कंडेय काटजू और भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी।

सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज मार्कंडेय काटजू ने शुक्रवार को भारत से लाइव वीडियो लिंक के जरिये भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी के प्रत्यर्पण के मामले में मोदी की ओर से गवाही दी। इसे भारत सरकार की ओर से अभियोजन पक्ष ने चुनौती दी। पांच दिन की सुनवाई के अंतिम दिन जस्टिस सैमुअल गूजी ने काटजू की विस्तृत गवाही सुनने के बाद मामले की सुनवाई 3 नवंबर तक स्थगित कर दी। तीन नवंबर को वह भारतीय अधिकारियों द्वारा पेश सबूतों की स्वीकार्यता से संबंधित तथ्यों पर सुनवाई करेंगे।

बता दें कि नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चोकसी पीएनबी घोटाले में आरोपी हैं। इस मामले में सीबीआई की चार्जशीट में आरोप लगाया गया है कि नीरव मोदी ने 6498 करोड़ और मेहुल चोकसी ने 7080 करोड़ रुपए का गबन किया। दोनों आरोपी सीबीआई जांच शुरू होने से पहले ही साल 2018 में विदेश चले गए थे। ब्रिटेन की क्राउन प्रॉसिक्यूशन सर्विस (सीपीएस) नीरव के प्रत्यर्पण पर ब्रिटिश कोर्ट में भारत का पक्ष रख रही है।

काटजू ने नीरव मोदी के बचाव में लिखित और मौखिक दावों में कहा कि भारत में न्यायपालिका का अधिकांश हिस्सा भ्रष्ट है और जांच एजेंसियां सरकार की ओर झुकाव रखती हैं। लिहाजा नीरव मोदी को भारत में निष्पक्ष सुनवाई का मौका नहीं मिलेगा। काटजू के इन दावों पर भारत सरकार की ओर से मुकदमा लड़ रही सीपीएस ने पलटवार किया। बैरिस्टर हेलेन मैल्कम ने सवाल किया, “क्या ऐसा संभव है। आप स्वघोषित गवाह हैं, जो कुछ भी बयान दे सकते हैं।”

सीपीएस ने इस विचाराधीन मामले में ब्रिटेन की अदालत में पेश किये जाने वाले सबूतों के संबंध में भारत में मीडिया को साक्षात्कार देने के काटजू के फैसले पर भी सवाल उठाए। इस पर काटजू ने कहा कि वह केवल पत्रकारों के सवालों के जवाब दे रहे थे और राष्ट्रीय महत्व के मामलों पर बोलना उनका कर्तव्य है।

ट्विटर पर ट्रोल हुए पूर्व जज: मार्कंडेय काटजू के ब्रिटिश कोर्ट में गवाही देने पर भारत में लोगों ने गुस्सा जाहिर किया है। डॉक्टर उदिता त्यागी ने ट्विटर पर कहा, “देश के न्यायिक इतिहास की सबसे शर्मनाक घटना। सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश मार्कण्डेय काटजू ने लंदन की अदालत में बैंकों का पैसा लेकर भागे हीरा कारोबारी नीरव मोदी को प्रत्यर्पण से बचाने के लिए गवाही दी। काटजू ने कहा है कि नीरव मोदी को भारत मे न्याय नहीं मिलेगा।”

वहीं, ट्विटर हैंडल @SaffronSangh ने कहा, “नीरव मोदी प्रत्यर्पण मामले में सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज काटजू ने ब्रिटिश कोर्ट में दी गवाही, कहा- भारत में नहीं मिलेगा निष्पक्ष सुनवाई का मौका! आंख खोलकर पहचानिए… ऐसे ऐसे घटिया बुद्धिजीवी कांग्रेस ने पैदा किये,देश की न्यायिक व्यवस्था की बदनामी!” राजा सिंह नाम के एक यूजर ने कहा, “देश के बुद्धजीवियों की अक्ल रिटायरमेंट के बाद ही क्यों खुलती है?”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 VIDEO: क्या नरेंद्र मोदी, BJP ने फोन कर कहा था रिया का करो इंटरव्यू? डिबेट में राजदीप सरदेसाई पर भड़के संबित पात्रा
2 लाइव डिबेट के दौरान बोले SP MLA- कंगना के पीछे पड़ना होगा, बता दिया ‘आदतन अपराधी’
3 शो के पैनल पर शिवसेना नेता ने उठाए सवाल, एंकर का जवाब- आपकी पार्टी भी आपको यहां बैठाने लायक नहीं मानती, बैठाना बंद कर दूं?
ये पढ़ा क्या?
X