ताज़ा खबर
 

डिटेंशन सेंटर में जिन्होंने पूरे कर लिए तीन साल, उसे छोड़ा या नहीं? SC ने मांगी स्टेटस रिपोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने एनआरसी की प्रक्रिया के पूरे होने के बाद बनाए गए डिटेंशन सेंटर्स से जुड़ी याचिका पर सुनवाई के दौरान केंद्र से जानकारी मांगी और स्टेट्स रिपोर्ट जारी करने को कहा है।

सीएए और एनआरसी के खिलाफ जारी है विरोध प्रदर्शन। फोटो: Indian Express

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को असम में डिटेंशन सेंटर्स के बारे में केंद्र सरकार से जानकारी मांगी है। कोर्ट ने केंद्र से डिंटेशन सेंटर में रखे कुल लोगों के बारे में जानकारी दे। इसके साथ ही कोर्ट ने कहा यह भी पूछा है कि डिटेंशन सेंटर में जिन्होंने तीन साल पूरे कर लिए, उन्हें छोड़ा गया है या नहीं?

सुप्रीम कोर्ट ने एनआरसी की प्रक्रिया के पूरे होने के बाद बनाए गए डिटेंशन सेंटर्स से जुड़ी याचिका पर सुनवाई के दौरान केंद्र से जानकारी मांगी और स्टेट्स रिपोर्ट जारी करने को कहा है। सुप्रीम कोर्ट ने यह निर्देश ऐसे समय पर जारी किया है जब संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और नेशनल रजिस्ट्रर फॉर सिटीजनशिप (एनआरसी) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है।

कोर्ट ने याचिका पर सुनवाई के दौरान कहा कि वे लोग जिन्हें डिटेंशन सेंटर्स में तीन साल से ज्यादा का वक्त हो गया है उन्हें एक लाख रुपये से ज्यादा की जमानत पर रिहा किया जाने का प्रावधान है।

वहीं इस प्रावधान के तहत छोड़े जाने वाले शख्स को हफ्ते में एक दिन स्थानीय पुलिस के समक्ष पेश होना होगा। बता दें कि असम में डिटेंशन सेंटर्स का निर्माणा किया जा रहा है यहां पर अवैध प्रवासियों को रखा जाएगा। वहीं पहले से मौजूद डिटेंशन सेंटर्स में लोगों को रखा गया है।

डिटेंशन सेंटर्स में किसी भी व्यक्ति को अधिकतम तीन साल के लिए ही रखा जा सकता है। वहीं वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के पिछले आदेश में 1000 लोगों को रिहा करने के लिए कहा गया था लेकिन 300 लोगों को ही रिहाई दी गई। ये वे लोग हैं जो सालों से डिटेंशन सेंटर्स में बंद हैं। उन लोगों का क्या हुआ जिन्हें रिहाई नहीं दी गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 ‘उमर अब्दुल्ला को क्यों रखा है नजरबंद?’ सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर प्रशासन से 2 मार्च तक मांगा जवाब
2 बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने PM मोदी के गृह राज्य में वैलेंनटाइन डे पर मचाया हंगामा, प्रेमी जोड़ों को खदेड़ा
3 उर्दू को हटा संस्कृत ने रेलवे स्टेशन पर बनाई जगह तो मचा बवाल, बोर्ड के आदेश के बिना उत्तराखंड में बदले जा रहे स्टेशनों के नाम
ये पढ़ा क्या?
X