ताज़ा खबर
 

Ayodhya Verdict पर रिव्यू पीटिशन नहीं लगाएगा सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड, लखनऊ मीटिंग में यूं दोफाड़ हुआ मुस्लिम पक्ष

बाबरी मस्जिद (Babari Masjid) के बदले जमीन लेने का सवाल है तो उस पर वक्फ बोर्ड की एक और बैठक आगामी 26 नवंबर को होने वाली है। इसी बैठक में ही कोई फैसला किया जाएगा।

Author लखनऊ | Published on: November 18, 2019 8:55 AM
राम जन्मभूमि- बाबरी मस्जिद।

अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले (Ayodhya Verdict) के खिलाफ रिव्यू पीटिशन को लेकर मुस्लिम पक्ष दो धड़ों में बंट गया है। मामले में पक्षकार रहे सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड (Sunni Central Waqf Board) ने रविवार (17 नवंबर) को हुई बैठक में रिव्यू पीटिशन दाखिल करने से साफ इनकार कर दिया। दूसरी तरफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) और जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने पुनर्विचार याचिका दाखिल करने का फैसला लिया है। इससे पहले मामले से जुड़े अहम पक्ष इकबाल अंसारी भी कोर्ट के फैसले का स्वागत कर चुके हैं।

पर्सनल लॉ बोर्ड की पलटी पर सवालः सुन्नी वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष जफर फारूकी ने कहा कि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने भले ही बोर्ड अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के निर्णय पर पुनर्विचार याचिका दायर करने का फैसला किया हो, मगर सुन्नी वक्फ बोर्ड ऐसा नहीं करने के अपने रुख पर अब भी कायम है। उन्होंने कहा कि जब फैसला आने से पहले ही पर्सनल लॉ बोर्ड बार-बार कह रहा था कि वह सुप्रीम कोर्ट के किसी भी निर्णय को मानेगा तो अब अपील क्यों की जा रही है।

वैकल्पिक जमीन पर 26 नवंबर को फैसलाः फारूकी ने कहा कि जहां तक बाबरी मस्जिद (Babari Masjid) के बदले जमीन लेने का सवाल है तो उस पर वक्फ बोर्ड की एक और बैठक आगामी 26 नवंबर को होने वाली है। इसी बैठक में ही कोई फैसला किया जाएगा। गौरतलब है कि पर्सनल लॉ बोर्ड की वर्किंग कमेटी की रविवार (17 नवंबर) को लखनऊ में हुई आपात बैठक में अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दाखिल करने और बाबरी मस्जिद के बदले किसी और जगह जमीन न लेने का निर्णय लिया गया।

Hindi News Today, 18 November 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की बड़ी खबरों के लिए क्लिक करें

‘अनुचित महसूस होता है फैसला’: बोर्ड के सचिव जफरयाब जिलानी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि अयोध्या मामले पर गत 9 नवंबर को दिए गए सुप्रीम कोर्ट के निर्णय पर पुनर्विचार याचिका दाखिल की जाएगी। उन्होंने कहा कि बोर्ड की बैठक में यह महसूस किया गया की सुप्रीम कोर्ट के फैसले में कई बिंदुओं पर न सिर्फ विरोधाभास है बल्कि यह फैसला समझ से परे और पहली नजर में अनुचित महसूस होता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 रामदेव का करो बायकॉट, जलाओ पतंजलि के उत्पाद- भड़के दलित संगठनों का ऐलान
2 बैंकों में जमा रकम में करीब 4 लाख करोड़ रुपये घटी सरकार की हिस्सेदारी! सामने आए आंकड़े
3 असदुद्दीन ओवैसी ने साधा PM मोदी पर निशाना, कहा- इतनी मोहब्बत है बांग्लादेश से कि आदिवासियों की जमीन छीन ली!
जस्‍ट नाउ
X