ताज़ा खबर
 

देश का गन्ना किसान परेशान पर मोदी जी पाकिस्तान से मंगवा रहे चीनी: कांग्रेस

देश भर के 130 से अधिक किसान संगठन मोदी सरकार की किसान विरोधी नीतियों के चलते एक से दस जून तक ‘गांव बंदी’ आंदोलन कर रहे हैं। यह पहला अवसर नहीं है कि किसानों ने भाजपा सरकार के प्रति अपना रोष प्रकट किया हो।

कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला (PTI File Photo)

कांग्रेस ने किसानों के कर्ज माफ करने की मांग की और आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी सरकार देश के गन्ना किसानों की परेशानी पर ध्यान देने की बजाय पाकिस्तान से चीनी का आयात कर रही है। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने आज (02 जून) एक बयान में कहा, ‘‘देश भर के 130 से अधिक किसान संगठन मोदी सरकार की किसान विरोधी नीतियों के चलते एक से दस जून तक ‘गांव बंदी’ आंदोलन कर रहे हैं। यह पहला अवसर नहीं है कि किसानों ने भाजपा सरकार के प्रति अपना रोष प्रकट किया हो। बीते चार सालों से यही हालत है।’’ उन्होंने दावा किया, ‘‘किसान खेतों की अपेक्षा सड़कों पर आंदोलित दिखाई देता है मगर भाजपा सरकार के सत्ता के अहंकार का आलम यह है कि वो किसानों की मांगों का संज्ञान लेने की बजाय कभी उनके सीने में गोलियाँ उतार देती है तो कभी उन्हें जेलों में ठूस देती है। मोदी सरकार किसानों से अपराधियों की तरह बांड भरवा रही है।’’

कांग्रेस नेता ने कहा कि मोदी सरकार ने किसानों को धोखा देते हुए देश के उच्चतम न्यायालय में 6 फरवरी, 2015 को शपथ पत्र दिया कि अगर स्वामीनाथन कमीशन की ”लागत का 50 फीसदी से ज्यादा समर्थन मूल्य” देने की सिफारिश को स्वीकार किया गया तो बाजार बिगड़ जाएगा। इसका मतलब यह है कि मोदी सरकार किसानों की अपेक्षा जमाखोरों और बिचौलियों के पक्ष में खड़ी हो गई।

उन्होंने कहा, ‘‘गन्ना किसानों की दुर्दशा का भी यही हाल है। देश के गन्ना किसानों का लगभग 20 हजार करोड़ रुपया बकाया है। मूल कारण यह है कि शक्कर के अच्छे उत्पादन के बाद भी शक्कर का भाव धराशायी हो गया है। मोदी जी ने पाकिस्तान से बड़ी मात्रा में शक्कर का आयात करवा कर देश के गन्ना किसानों के जीवन में कड़वाहट घोल दी है।’’ सुरजेवाला ने सवाल किया कि मोदी सरकार जब अपने कुछ धनपतियों का लाखों करोड़ रूपये का कर्ज माफ कर सकती है तो फिर किसानों का कर्ज क्यों नहीं माफ कर सकती?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App