ताज़ा खबर
 

सुब्रमण्‍यम स्‍वामी ने किया ट्वीट- मुझे बिन मांगे सलाह देने वालों को मालूम नहीं कि मैंने अनुशासन तोड़ा तो मच जाएगा घमासान

अरुण जेटली और सुब्रमण्यम स्वामी के बीच हो रहा कोल्ड वॉर अब खुलकर सामने आ रहा है।

Author June 24, 2016 1:28 PM
बीजेपी नेता और राज्यसभा सदस्य सुब्रमण्यम स्वामी( File Photo)

प्रधानमंत्री मोदी के सबसे करीबी समझे जाने वाले वित्त मंत्री अरुण जेटली और भाजपा के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी के बीच हो रहा कोल्ड वॉर अब खुलकर सामने आ रहा है। स्वामी ने खुद को सोच-समझकर बोलने और अनुशासन में रहने की सलाह देने वालों को कहा कि अगर उन्होंने अनुशासन तोड़ दिया तो खूनखराबा हो जाएगा।

स्वामी ने शुक्रवार को ट्वीट किया, ‘मुझे बिना मांगे अनुशासन में रहने की सलाह देने वालों को यह अंदाजा नहीं है कि अगर मैंने अनुशासन तोड़ दिया तो खूनखराबा होगा।’ जेटली पर इशारों में हमला करते हुए स्वामी ने भाजपा से यह भी कह डाला कि वह मंत्रियों को विदेशी दौरे के वक्त पारंपरिक और आधुनिक भारतीय ड्रेस पहनने की सलाह दें। स्वामी ने ट्वीट किया, ‘बीजेपी हमारे मंत्रियों को दूसरे देशों में पारंपरिक और आधुनिक भारतीय ड्रेस पहनने की सलाह दे। कोट और टाई में वे वेटर जैसे दिखते हैं।’

दरअसल स्वामी ने हाल ही में आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन और मुख्य आर्थिक सलाहाकर अरविंद सुब्रमण्यम के बाद आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांता दास पर भी हमला बोला। यह वित्तमंत्री को यह नागवार गुजरा और वो भी ट्विटर वॉर में कूद पड़े।
सुब्रमण्यम स्वामी ने किया यह ट्वीट-

लोगों ने इस तरह किया स्वामी के ट्वीट का समर्थन-

@hgsutras ने कहा, “देखा जाए तो यहां कोई भी आपके जैसा उदार, लोकतांत्रिक, सहिष्णु नेता नहीं है। जब भी कोई झूठा आपसे पंगा लेगा तो उसका सच लोगों के सामने आ जाएगा।”

 

@jiboyv ने कहा, “हम आपके साथ हैं। ज्यादा अनुशासन और दयालुता दिखाने से भी इज्जत कम हो जाती है। ”

@pkmerkap ने कहा, ” आप उन चुनिंदा लोगों में से एक है जो हमारा मार्गदर्शन करते हैं। जो आपने आज कहा है हो सकता है अभी वह गलत लगे, मगर कुछ समय बाद सच्चाई सामने आ जाएगी।”

 

हालांकि कुछ लोगों ने स्वामी के इस ट्वीट की आलोचना भी की-

@Rajeevkumargup4 ने कहा, ” क्या आपको लगता है आप पार्टी और सरकार से भी ऊपर हैं। क्या आप साबित कर पाएंगे कि आप भाजपा के समर्थन में ही हैं। जो आप कर रहे हैं वह अन्प्रफेशनल है।”

 

@MrOmPrakashShah ने कहा, “सुब्रमण्यम स्वामी पर सख्ती और अनुशासन की जरूरत है। यह उनकी पार्टी और भारतीय लोकतंत्र दोनों के लिए बेहतर होगा। “

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App