ताज़ा खबर
 

सुब्रमण्यम स्वामी ने राजीव गांधी को बताया- नेहरू गांधी परिवार का एकमात्र हिंदू नेता, कहा-चाहते थे बने राम मंदिर

स्वामी ने आगे मुसलमानों से अपील की कि उन्हें राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि दे देनी चाहिए।

Author March 27, 2017 7:04 AM
सुब्रमण्यम स्वामी ने स्वामी प्रसाद मौर्य के बयान को ठहराया सही। (photo source- Indian Express)

वरिष्ठ भाजपा नेता और राज्यसभा सदस्य सुब्रमण्यम स्वामी ने रविवार को पूर्व प्रधान मंत्री राजीव गांधी के द्वारा देश में हिंदुओं की जागरुकता के लिए किये गये योगदान की प्रशंसा करते हुए कहा कि वे ही (नेहरू-गांधी) परिवार में एकमात्र अच्छा इंसान थे, और राजीव गांधी कांग्रेस में एकमात्र ऐसे “हिंदू नेता” थे जो ये चाहते थे कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण किया जाये। स्वामी यहां पर भारतीय नृत्यिका मंदिर में आयोजित एक संगोष्ठी को संबोधित कर रहे थे। स्वामी ने बताया कि राजीव गांधी कांग्रेस के प्रधानमंत्री होने के बावजूद ,दूरर्दशन के लोकप्रिय धारावाहिक ‘रामायण’ के प्रसारण की अनुमति दे दी थी और बाद में अयोध्या के राम मंदिर में लगे हुए ताले को भी हिंदू परिवारों की पूजा और प्रार्थना के लिए खुलवा दिया था। बावजूद इसके दूरदर्शन के राष्ट्रीय नेटवर्क पर रामायण का प्रसारण करने को लेकर कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ कार्यकर्ताओं ने जबरदस्त विरोध किया था। इस मौके पर स्वामी ने राजीव गांधी के साथ- साथ पूर्व प्रधान मंत्री नरसिंह राव की भी प्रशंसा करते हुए कहा कि वे भी दिल से  यही चाहते थे कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण किया जाए।

सुप्रीम कोर्ट में चल रहे अयोध्या में स्थित राम जन्मभूमि के विवाद पर टिप्पणी करते हुए सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि न्याय पालिका जल्द ही इस मसले को हल करने की आशावादी कोशिश में लगा है और उम्मीद यही है कि वर्ष 2018 में राम नवमी से पहले अयोध्या में एक भव्य राम मंदिर का निर्माण होगा। स्वामी ने यह भी कहा कि राम मंदिर को इन दो दलों के बीच पारस्परिक समझौते से नहीं बनाया जा सकता है। यह तभी संभव है जब 2018 में राज्य सभा में बीजेपी को बहुमत मिल जाने के बाद संसद में आवश्यक कानून पारित कर दिया जाये। स्वामी ने आगे मुसलमानों से अपील की कि उन्हें राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि दे देनी चाहिए। राम मंदिर बनने में यदि मुसलिम समाज पहले पहल करता है तो यह अत्यंत हर्ष की बात होगी और बदले में हम उन्हें मस्जिद के निर्माण के लिए किसी दूसरे स्थान पर जगह दे देगें। और उनकी यह पहल हिंदू और मुसलमानों के बीच के संबंधों को और प्रगाढ़ करेगा।आगे उन्होनें यह भी कहा कि अयोध्या में राम मंदिर बनना हिंदुओं की आस्था का सवाल बन चुका है। मुसलसानों को चाहिए कि वे हमें पूजा करने की जगह दें और हम उन्हें नमाज करने की जगह देंगे। विराट हिंदुस्तान संगम की बिहार इकाई द्वारा आयोजित इस संगोष्ठी को सुब्रमण्यम स्वामी के अलावा प्रसिद्ध राजनीतिक चिंतक के एन गोविंदाचार्य और पत्रकार राम बहादुर राय ने भी संबोधित किया था।

केंद्रीय कर्मचारियों को मोदी सरकार का तोहफा; महंगाई भत्ते में 2 फीसदी की वृद्धि

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App