scorecardresearch

बीजेपी के पूर्व सांसद ने रूसी मिसाइल S400 को लेकर मोदी सरकार पर बोला हमला, जानें क्यों

Subramanian Swamy: साल 2018 में रूस और भारत के बीच S400 डिफेंस सिस्टम की सप्लाई को लेकर डील हुई थी।

बीजेपी के पूर्व सांसद ने रूसी मिसाइल S400 को लेकर मोदी सरकार पर बोला हमला, जानें क्यों
बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी (फोटो- द इंडियन एक्सप्रेस)

Subramanian Swamy: भाजपा नेता और पूर्व राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने अपने एक ट्वीट के जरिए केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोला है। स्वामी ने रूस से खरीदे जाने वाले S400 मिसाइल सिस्टम को लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर सवाल उठाए हैं। बता दें कि सुब्रमण्यम स्वामी अक्सर अपने ट्वीट से मोदी सरकार की नीतियों को लेकर निशाना साधते रहे हैं।

सोमवार (19 सितंबर, 2022) को एक ट्वीट में पूर्व राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने लिखा, ‘कमीशनखोरी देने के अलावा क्या S400 का कोई अन्य लाभ है? बता दें, S400 को रूस का सबसे एडवांस वर्जन माना जाता है। यह लॉन्ग रेंज सर्फेस-टू-एयर मिसाइल डिफेंस सिस्टम है। यह दुश्मन सेना के क्रूज, फाइटर जेट और यहां तक बैलिस्टिक मिसाइलों को पल भर में मार गिराने में सक्षम है। यह रूस के ही S300 का अपग्रेडेड वर्जन है। ये रूस में 2007 के बाद से ही सेवा में है। यह एक ही राउंड में 36 टारगेट को भेद सकता है।

S400 एयर डिफेंस सिस्टम की खासियत

S400 एयर डिफेंस सिस्टम में लगी मिसाइलें 30 किलोमीटर की ऊंचाई और 400 किलोमीटर की दूरी में किसी भी लक्ष्य को भेद सकती हैं। इसमें कई रेंज की मिसाइलें लगी होती हैं। साथ ही काफी एडवांस रडार लगे होते हैं। यह रडार 100 से 300 टारगेट को ट्रैक कर सकते हैं। इस डिफेंस सिस्टम में 12 लॉन्चर लगे होते हैं। यह तीन मिसाइल को एक साथ दाग सकने में सक्षम है। साल 2018 में रूस और भारत के बीच S-400 डिफेंस सिस्टम की सप्लाई को लेकर डील हुई थी।

वैसे यह पहला मौका नहीं जब भाजपा नेता ने केंद्र की मोदी सरकार या उसकी नीतियों पर हमला बोला है। सुब्रमण्यम स्वामी इससे पहले पार्टी संगठन के पदाधिकारियों के चुनाव पर भी सवाल खड़े कर चुके हैं। 17 अगस्त, 2022 को भाजपा ने अपने संसदीय बोर्ड और केंद्रीय चुनाव समिति का ऐलान किया था। इसमें पार्टी ने मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को संसदीय बोर्ड की सूची से बाहर कर दिया था।

तब सुब्रमण्यम स्वामी ने एक ट्वीट करते हुए लिखा था, ‘जनता पार्टी और उसके बाद बीजेपी के शुरुआती दिनों में संगठन के पदों पर चुनाव संसदीय बोर्ड द्वारा कराए जाते थे और यही पार्टी के संविधान की मांग भी है, लेकिन अब भाजपा में कोई चुनाव नहीं होता। हर पद के लिए मोदी के अप्रूवल से सदस्यों को नामांकित किया जाता है’।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट