ताज़ा खबर
 

सुभाष विहार के पांच घरों में मातम, मकान मालिक पुलिस गिरफ्त में

मामले पर उत्तरी-पूर्वी जिला पुलिस उपायुक्त वेद प्रकाश सूर्य ने बताया कि फिलहाल लापरवाही का मामल दर्ज कर लिया गया है।

Author नई दिल्ली | Published on: January 27, 2020 4:51 AM
मामले पर उत्तरी-पूर्वी जिला पुलिस उपायुक्त वेद प्रकाश सूर्य ने बताया कि फिलहाल लापरवाही का मामल दर्ज कर लिया गया है।

कोचिंग सेंटर की छत ढहने से हुई पांच लोगों की मौत से भजनपुरा से सुभाष विहार में मातम पसरा हुआ है। एक ही कॉलोनी के एक शिक्षक और चार बच्चों की मौत से हर कोई गमगीन है। वहीं, रविवार को दिल्ली पुलिस ने मकान मालिक व उमेश के भाई शंकर को गिरफ्तार कर लिया है। हादसे में घायल हुए बच्चों के परिजनों ने कहा कि कोचिंग सेंटर के ऊपर निर्माण कार्य चल रहा था। इसकी जानकारी नहीं थी। यदि जानकारी होती तो वह बच्चों को नहीं भेजते। पड़ोसियों ने बताया कि काम करने वाले मजदूरों ने कहा था कि बच्चों की छुट्टी कर दें। पर शंकर और उमेश नहीं माने थे।

मामले पर उत्तरी-पूर्वी जिला पुलिस उपायुक्त वेद प्रकाश सूर्य ने बताया कि फिलहाल लापरवाही का मामल दर्ज कर लिया गया है। मकान मालिक और शिक्षक उमेश की हादसे में मौत हो गई है और शंकर घायल हैं। फिलहाल इस मामले में कानूनी मदद लेकर आगे की कार्रवाई की जाएगी। देश के 71वें गणतंत्र दिवस के मौके पर जहां राजधानी में चारों ओर आजादी का जश्न मनाया जा रहा था। वहीं, शहर के भजनपुरा के सुभाष विहार में लोगों की आंखें नम थी। शनिवार को हुए खौफनाक हादसे पर स्थानीय लोगों ने बताया कि हर साल 15 अगस्त और 26 जनवरी के मौके पर कई कार्यक्रम और झंडा फहराया जाता था, लेकिन इस साल इलाके में घटी घटना के बाद सुभाष विहार में हर कोई दुखी है। कहीं कोई आयोजन नहीं हुआ।

शिक्षक उमेश के घर गमी

हादसे में जान गंवाने वाले शिक्षक उमेश के घर मातम का माहौल है। घायल शंकर उमेश के भाई हैं। दोनों ने मिलकर कोचिंग सेंटर खोला था। परिजनों ने बताया कि शंकर की पत्नी लक्ष्मी और उमेश की पत्नी रुचि भी पढ़ाती थीं। घटना के समय रुचि भूतल पर पढ़ा रही थी और उमेश ऊपरी मंजिल पर थे। घायल बच्चे प्रिंस शुक्ला के पिता राम बाबू ने कहा कि अब बच्चों को नहीं भेजेंगे। सुभाष विहार में एफ-68 में रहने वाले दो परिवार के तीन-तीन बच्चे वहां पढ़ते थे। हादसे में जान गंवाने वाले फरहान सुल्तान के पिता आरिफ सुल्तान पुलिस अधिकारी से पोस्टमार्टम नहीं करवाने की अपील करते रहे, लेकिन पुलिस ने पोस्टमार्टम करवा दिया। ाुल्तान ने बताया कि उन्हें उम्मीद थी कि वह बड़ा होकर एक अधिकारी बनेगा और आर्थिक तंगी को दूर करेगा, लेकिन एक हादसे ने पूरा परिवार तबाह कर दिया।

निर्भय कुमार पांडेय   

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
ये पढ़ा क्या?
X