ताज़ा खबर
 

भारत में 2021 की सर्दियों में रोजाना आ सकते हैं 2.87 लाख मामले : एमआइटी

अमेरिका के प्रतिष्ठित मैसाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआइटी) के शोधकर्ताओं ने 84 देशों में भरोसेमंद जांच आंकड़ों के आधार पर गतिशील महामारी मॉडल विकसित किया है। इन 84 देशों में दुनिया की 4.75 अरब लोग रहते हैं।

Author नई दिल्ली। | Published on: July 9, 2020 3:47 AM
कोरोना वायरस, corona virus, pandemicसंक्रमण से प्रभावित शीर्ष 10 देशों के दैनिक संक्रमण दर के आधार पर यह अनुमान लगाया गया है।

अमेरिका के प्रतिष्ठित मैसाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआइटी) के शोधकर्ताओं के अध्ययन मॉडल के मुताबिक अगर कोविड-19 का टीका या दवा विकसित नहीं हुआ तो 2021 की सर्दियों के अंत तक भारत में रोजाना संक्रमण के 2.87 लाख नए मामले सामने आ सकते हैं।

शोधकर्ताओं ने 84 देशों में भरोसेमंद जांच आंकड़ों के आधार पर गतिशील महामारी मॉडल विकसित किया है। इन 84 देशों में दुनिया की 4.75 अरब लोग रहते हैं।

प्रकाशन पूर्व शोधपत्र में एमआइटी के प्रोफेसर हाजिर रहमानदाद और जॉन स्टरमैन, पीएचडी छात्र से यांग लिम ने संक्रमण से प्रभावित शीर्ष 10 देशों के दैनिक संक्रमण दर के आधार पर अनुमान लगाया है कि भारत में वर्ष 2021 की सर्दियों के अंत तक रोजाना 2.87 लाख नए मामले आ सकते हैं। इसके बाद अमेरिका, दक्षिण अफ्रीका, ईरान, इंडोनेशिया, ब्रिटेन, नाइजरिया, तुर्की, फ्रांस और जर्मनी का स्थान होगा।

हालांकि, शोधकर्ताओं ने स्पष्ट किया कि पूर्वानुमान केवल संभावित खतरे को बताता है न कि भविष्य में मामलों की भविष्यवाणी करता है। शोधकर्ताओं ने कहा कि कड़ाई से जांच और संक्रमितों से संपर्क को कम करने से भविष्य में मामले बढ़ने का खतरा कम हो सकता है जबकि लापरवाह रवैये और खतरे को सामान्य मानने से महामारी विकराल रूप ले लेगी।

शोधकर्ताओं ने कहा कि 2021 का पूर्वानुमान टीका नहीं विकसित होने की स्थिति को लेकर आधारित है। इस मॉडल में 84 देशों के आंकड़ों के आधार पर कई अहम खुलासे भी हुए हैं। मसलन महामारी की वास्तविक स्थिति को कमतर कर बताया जा रहा है। शोधकर्ताओं के मुताबिक 18 जून से अबतक मामलों और मृत्युदर आधिकारिक आंकड़ों के मुकाबले क्रमश: 11.8 और 1.48 गुना अधिक है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 विशेष: गंगाजल पहुंचाने पर भाजपा व कांग्रेस में राजनीति शुरू
2 विशेष: कमजोर प्रचारतंत्र, युवा नहीं छोड़ पा रहे छाप, वार-पलटवार में मात खाती कांग्रेस
3 09 जुलाई का इतिहास: आज ही के दिन हुआ था हिंदी सिनेमा के अभिनय और निर्देशन के “गुरु” का जन्म, बम्बई स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना भी आज ही हुई थी
ये पढ़ा क्या?
X