ताज़ा खबर
 

7 घंटे तक ठंड में बिना भोजन-पानी के CM का इंतजार करती रहीं स्कूली बच्चियां

जम्मू कश्मीर की राजधानी में एक सरकारी समारोह के लिए रविवार सुबह 30 स्कूली बच्चियों को यहां हवाईअड्डे पर कंपकंपाती सर्दी में कथित तौर पर कई घंटे तक इंतजार कराया गया।

Author श्रीनगर | November 23, 2015 3:00 AM

जम्मू कश्मीर की राजधानी में एक सरकारी समारोह के लिए रविवार सुबह 30 स्कूली बच्चियों को यहां हवाईअड्डे पर कंपकंपाती सर्दी में कथित तौर पर कई घंटे तक इंतजार कराया गया। समारोह की अध्यक्षता मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद को करनी थी।

सात साल उम्र की 30 लड़कियों को राज्य परिवहन विभाग के एक समारोह के लिए रविवार सुबह 7:30 बजे श्रीनगर हवाईअड्डे पर लाया गया था। हालांकि समारोह का आधिकारिक समय 10:30 बजे निर्धारित था। सईद समारोह स्थल पर करीब 11:15 बजे पहुंचे। लेकिन अपने घर चले गए क्योंकि पर्यटन विभाग की हेलीकॉप्टर सेवा के उद्घाटन के लिए जिस हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल किया जाना था, वह जम्मू से पहुंचा नहीं था।

इतनी देर तक इंतजार की वजह से ओल्ड सिटी के ईदगाह इलाके में एक निजी स्कूल में पढ़ने वाली लड़कियों की समस्या और बढ़ गई। उन्हें खाने-पीने तक के लिए कुछ नहीं दिया गया। एक लड़की ने मीडिया से कहा, ‘हमने नाश्ता नहीं किया है और आयोजकों ने भी हमें कुछ खाने को नहीं दिया।’ स्कूल यूनीफॉर्म पहने हुए इंतजार कर रहीं लड़कियों ने कहा कि उनके लिए ठंड से बचाव के भी इंतजाम नहीं किए गए थे। एक और लड़की ने कहा, ‘अगर हमें पता होता कि इतनी परेशानी होगी तो मैं इस समारोह के लिए नहीं आती।’

छात्राओं के साथ आई एक शिक्षिका ने कहा कि पूरे मामले में उनकी कोई भूमिका नहीं है। उन्होंने कहा, ‘यह स्कूल प्रबंधन का निर्णय है और वह केवल निर्देशों का पालन कर रही हैं।’

मीडियाकर्मियों समेत कई लोगों ने बच्चियों के साथ ऐसे बर्ताव के लिए सोशल मीडिया पर प्रशासनिक अधिकारियों की कड़ी निंदा की। जब असहाय बच्चियों की हालत के खिलाफ मीडिया ने विरोध दर्ज कराया तो इवेंट मैनेजमेंट कंपनी ने उन्हें जूस के पैकेट और सैंडविच बांटे।

पर्यटन विभाग के सचिव फारूक अहमद शाह ने कहा कि बच्चियों के लिए पर्याप्त बंदोबस्त किए गए हैं। उन्हें समय पर नाश्ता दिया जाएगा। हालांकि इतनी कड़ी सर्दी में छुट्टी वाले दिन किसी सरकारी समारोह के लिए बच्चियों को इतनी जल्दी लाने की जरूरत के सवाल पर शाह ने कुछ नहीं कहा। बच्चियों की परेशानी करीब सात घंटे बाद समाप्त हुई जब मुख्यमंत्री दोपहर करीब एक बजे समारोह स्थल पर पहुंचे और समारोह शुरू हुआ।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App