ताज़ा खबर
 

जब लालू यादव ने बताई थी मोदी की ‘उपलब्धि’, कहा- हर मंत्री की हो रही निगरानी, तीन मूर्ति की सरकार

एक टीवी कार्यक्रम में एंकर के सवाल के जवाब में लालू यादव ने कहा था कि 2014 में प्रधानमंत्री बनने के बाद से नरेंद्र मोदी ने हर एक मंत्री के ऊपर आरएसएस को निगरानी के लिए बैठा दिया है। मंत्रियों से ज्यादा वरीयता अफसरों को दी गई है।

टीवी कार्यक्रम में लालू यादव ने कहा कि नरेंद्र मोदी की सरकार तीन मूर्ति की सरकार है। हालांकि उन्होंने इस दौरान यह नहीं बताया कि इस तीन मूर्ति में कौन कौन शामिल हैं। (एक्सप्रेस फोटो)

इजरायली स्पाइवेयर पेगासस के जरिए कथित जासूसी का मामला गरमाया हुआ है। कथित जासूसी का खुलासा करने वाली रिपोर्ट में कहा गया है कि पेगासस के जरिए जिन लोगों के फोन की निगरानी की गई। उसमें मोदी सरकार के दो मंत्री अश्विनी वैष्णव और प्रह्लाद सिंह पटेल का नाम शामिल है। एक बार एक टीवी कार्यक्रम में राजद नेता लालू यादव ने मोदी सरकार की उपलब्धि गिनाते हुए कहा था कि इस सरकार में हर मंत्री की निगरानी हो रही है। साथ ही उन्होंने कहा था कि यह तीन मूर्ति की सरकार है। 

साल 2015 में टीवी चैनल आजतक को दिए इंटरव्यू में जब एंकर राजदीप सरदेसाई ने लालू प्रसाद यादव से प्रधानमंत्री मोदी की उपलब्धियों के बारे में पूछा तो उन्होंने जवाब देते हुए कहा कि हम पीएम मोदी की एक उपलब्धि के बारे में जानते हैं। 2014 में प्रधानमंत्री बनने के बाद से नरेंद्र मोदी ने हर एक मंत्री के ऊपर में आरएसएस को निगरानी के लिए बैठा दिया है। मंत्रियों से ज्यादा वरीयता अफसरों को दी गई है।

लालू यादव के इस जवाब पर जब एंकर राजदीप सरदेसाई ने उनसे पूछा कि आप कह रहे हैं कि मोदी जी हर मंत्री की निगरानी कर रहे हैं। इसपर लालू यादव ने दोहराते हुए कहा कि हां मंत्रियों की निगरानी कर रहे हैं। इसके अलावा लालू यादव ने यह भी कहा कि नरेंद्र मोदी की सरकार तीन मूर्ति की सरकार है। हालांकि उन्होंने इस दौरान यह नहीं बताया कि इस तीन मूर्ति में कौन कौन शामिल हैं। 

पेगासस स्पाइवेयर के जरिए जासूसी का खुलासा करने वाली रिपोर्ट में दावा किया गया है कि मोदी सरकार के दो मंत्री अश्विनी वैष्णव और प्रह्लाद सिंह पटेल की फोन की निगरानी की गई है। साथ ही इस रिपोर्ट में कहा गया है कि केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के सचिव संजय काचरू और विश्व हिंदू परिषद के नेता प्रवीण तोगड़िया के फोन की भी निगरानी की गई है। इसके अलावा इस लिस्ट में प्रशांत किशोर, राहुल गांधी समेत कई पत्रकारों और राजनेताओं का नाम भी शामिल है।

क्या है पेगासस स्पाइवेयर: पेगासस स्पाइवेयर को इज़राइल की कंपनी एनएसओ ने तैयार किया है। पेगासस स्पाइवेयर को अगर किसी के मोबाइल में डाल दिया जाए तो उसकी एंक्रिप्टेड चैट, मैसेज और कॉल तक की जानकारी जुटाई जा सकती है। बांग्लादेश समेत कई देशों ने इस स्पाइवेयर को आधिकारिक तौर पर खरीदा है। हालांकि भारत ने इसे खरीदा है या नहीं, यह अभी साफ नहीं हो पाया है।

Next Stories
1 सरकार ने संसद में बताया, कोरोना की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई एक भी मौत
2 पीएम मोदी पर बरसे खड़गे, बोले- हर्षवर्धन को बना दिया गया बलि का बकरा
3 राहुल गांधी ने सरकार को बताया लालची साहूकार तो सोशल मीडिया पर लोगों ने निकाली भड़ास
ये पढ़ा क्या?
X