जब अमृतसर पहुंचकर रिक्शा चलाने लगे थे अजीत डोभाल, फंस गए तो बताया पाकिस्तान का एजेंट हूं

दरअसल 1980 के दशक में जब पंजाब काफी अशांत हो गया था तब ख़ुफ़िया विभाग ने स्वर्ण मंदिर का वास्तविक जायजा लेने के लिए उस समय के मशहूर जासूस अजीत डोभाल को अमृतसर भेजा था।

ajit doval, amritsar , punjab980 के दशक में जब पंजाब काफी अशांत हो गया था तब ख़ुफ़िया विभाग ने स्वर्ण मंदिर का वास्तविक जायजा लेने के लिए उस समय के मशहूर जासूस अजीत डोभाल को अमृतसर भेजा था। (express photo: Abhinav Saha )

सर्जिकल स्ट्राइक से लेकर बालाकोट एयरस्ट्राइक तक के मास्टरमाइंड माने जाने वाले अजीत डोभाल को भारत का जेम्स बांड भी कहा जाता है। डोभाल पिछले सात साल से देश में एनएसए के पद पर हैं, साथ ही वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करीबी माने जाते हैं। अजीत डोभाल के कई किस्से काफी मशहूर हैं। इनमें से एक किस्सा पंजाब के अमृतसर का है। जहां वे रिक्शा चालक बनकर गए थे लेकिन जब उन्हें एक व्यक्ति ने पकड़ लिया तो अजीत डोभाल ने कहा कि मैं तो एक पाकिस्तानी एजेंट हूं।

दरअसल 1980 के दशक में पंजाब काफी अशांत हो गया था और यहां तक कहा जाने लगा था कि पवित्र स्वर्ण मंदिर पर अलगाववादियों का कब्ज़ा हो गया है। तब ख़ुफ़िया विभाग ने स्वर्ण मंदिर का वास्तविक जायजा लेने के लिए उस समय के मशहूर जासूस अजीत डोभाल को अमृतसर भेजा था। अजीत डोभाल अमृतसर में रिक्शा चालक बनकर वहां की जासूसी किया करते थे। उस दौरान वे सिर्फ स्वर्ण मंदिर के आस पास के इलाकों में ही रिक्शा चलाया करते थे।

एक दिन अजीत डोभाल रिक्शा चालक बनकर स्वर्ण मंदिर के अंदर भी दाखिल हो गए। लेकिन फिर बाद में खालिस्तानियों को अजीत डोभाल पर शक हो गया कि वे रिक्शा चालक के वेश में जासूस हैं। जिसके बाद वहां मौजूद कुछ लोगों ने उन्हें पकड़ लिया लेकिन अजीत डोभाल उन लोगों को यह यकीन दिलाने में सफल हो गए कि वे पाकिस्तान के एक मुस्लिम हैं और आईएसआई एजेंट हैं। इसके बाद डोभाल आसानी से अंदर घुसकर सारी महत्वपूर्ण जानकारी इकट्ठा करने में सफल हो गए।

बाद में अजीत डोभाल की जानकारी पर ही सुरक्षा एजेंसियों ने ऑपरेशन थंडर बर्ड को अंजाम दिया। अंदर में जासूसी करने के दौरान नक्शे, हथियारों और लड़ाकों के छिपे होने की सटीक जानकारी अजीत  डोभाल ही बाहर निकाल कर लाए थे। पंजाब के अलावा अजीत डोभाल का एक और किस्सा पाकिस्तान का है. जहां वे जासूस बन कर गए थे तो उन्हें एक व्यक्ति ने पकड़ लिया था और कहा था कि तुम एक हिंदू हो।

दरअसल पाकिस्तान की इस कहानी को उन्होंने खुद एक कार्यक्रम में सुनाते हुए कहा था कि लाहौर में औलिया की एक मज़ार है, जहाँ बहुत से लोग आते हैं। पाकिस्तान में जासूसी के दौरान वे भी एक दिन उस मजार में चले गए जहां कोने में बैठे एक शख़्स ने उनसे सवाल किया कि क्या तुम हिंदू हो? इस पर अजीत डोभाल ने उन्हें कहा कि वे पहले हिंदू थे लेकिन बाद में कन्वर्ट हो गए थे। दरअसल अजीत डोभाल के कान में छेद होने की वजह से उस व्यक्ति ने यह अंदाजा लगा लिया था कि वे हिंदू ही हैं। अजीत डोभाल के कन्वर्ट होने वाले जवाब पर उस व्यक्ति ने उन्हें कहा कि तुम कभी कन्वर्ट नहीं हुए थे ख़ैर तुम इसकी प्लास्टिक सर्जरी करवा लो नहीं तो यहां के लोगों को शक हो जाएगा।

Next Stories
1 एंटीलिया केसः अर्नब को भी सुसाइड कराना चाहते थे?- Shivsena नेता पर चिल्लाने रिटायर्ड मेजर जीडी बख्शी, देखें आगे क्या हुआ
2 सबको सीधा कर देगी भाजपा सरकार, बोले अर्नब गोस्वामी, चिल्लाने लगे पैनलिस्ट
3 RIL के मुकेश अंबानी ने जब उठाया था पिता के ‘सक्सेस मंत्र’ से पर्दा, बताया था चीन को कैसे पीछे छोड़ सकता है भारत
यह पढ़ा क्या?
X