ताज़ा खबर
 

संकट में रावत, सीडी में घूस लेते दिखे उनके सचिव

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत अपने एक सचिव के स्टिंग आॅपरेशन को लेकर संकट में फंस गए हैं। इससे राज्य की राजनीति में तूफान मच गया है। विपक्ष ने रावत के...

Author July 23, 2015 10:06 AM
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत। (फाइल फोटो)

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत अपने एक सचिव के स्टिंग आॅपरेशन को लेकर संकट में फंस गए हैं। इससे राज्य की राजनीति में तूफान मच गया है। विपक्ष ने रावत के इस्तीफे की मांग की है, वहीं कांग्रेस ने इस मामले को फर्जी करार दिया है। नई दिल्ली में केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमन ने बुधवार को संवाददाता सम्मेलन में एक स्टिंग आॅपरेशन का वीडियो जारी किया। इसमें रावत के निजी सचिव मोहम्मद शाहिद को एक बिचौलिए और निजी शराब वितरकों के साथ लाइसेंस के एवज में ‘तोलमोल’ करते दिखाया गया है। सचिव बिचौलिए से घूस लेते हुए नजर आ रहे हैं।

यह स्टिंग ऑपरेशन एक पत्रकार ने किया है। स्टिंग ऑपरेशन करने वाले पत्रकार अशोक पांडेय का दावा है कि इस सीडी की सत्यता की जांच किसी भी लैब में कराई जा सकती है। इसके लिए हम लोग तैयार हैं। उन्होंने कहा कि यह स्टिंग ऑपरेशन देहरादून में बीते सात दिनों के दौरान किया गया। इसमें कुछ भी गलत नहीं है। उन्होंने कहा कि हम शराब घोटाले की सत्यता इस स्टिंग ऑपरेशन के माध्यम से करा रहे हैं।

पिछले दिनों रावत सरकार पर शराब घोटाले को लेकर विपक्ष ने कई आरोप लगाए थे। इस स्टिंग ऑपरेशन के बाद शराब घोटाले का मामला रावत सरकार के लिए सिरदर्द साबित हो गया है। अब तक मुख्यमंत्री रावत भाजपा पर हर मामले में भारी पड़ रहे थे। पर आपदा घोटाले के बाद इस शराब घोटाले ने रावत सरकार को पूरी तरह बचाव की मुद्रा में ला खड़ा किया है।

भाजपा के वरिष्ठ नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय भट्ट ने मुख्यमंत्री हरीश रावत से इस्तीफा मांगते हुए कहा कि मुख्यमंत्री ने अपने सचिव के साथ आबकारी नियमों में बदलाव करते हुए शराब ठेका देने के प्रक्रिया में बिचौलियों को शामिल किया था। शराब माफिया को बेतहाशा आर्थिक लाभ पहुंचाने का काम किया था। यह बात इस स्टिंग ऑपरेशन से खुलकर सामने आ गई है। अजय भट्ट ने देहरादून में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि शराब कारोबार में रावत सरकार की शराब माफिया से सांठगांठ का हमने पिछले दिनों जो आरोप लगाया था, वह इस स्टिंग से सच साबित हो गया है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने अपने इस चहेते अधिकारी को गुजरात से यहां लाकर उत्तराखंड में खुली लूट मचा रखी थी। भट्ट ने मांग की कि मुख्यमंत्री तुरंत पद से इस्तीफा दें। इस भ्रष्ट अधिकारी को तुरंत गिरफतार किया जाए। भाजपा ने इस मामले की जांच सीबीआइ से कराने की मांग की है।

दूसरी ओर मुख्यमंत्री हरीश रावत ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि राज्य में शराब के लाइसेंस नहीं दिए गए। मुख्यमंत्री ने इस मामले की किसी भी तरह की जांच कराने से इनकार कर दिया है। उन्होंने इसकी सत्यता पर आरोप लगाते हुए कहा कि राज्य में शराब के ठेकों का वितरण लाटरी सिस्टम से किया जाता है। यह पहले ही हो चुका है। इसीलिए इस फर्जी स्टिंग ऑपरेशन के माध्यम से राजनीतिक हितों को साधने के लिए विपक्ष राज्य सरकार को बदनाम करने के लिए यह मामला उठा रहा है। रावत ने आरोप लगाया कि भाजपा उत्तराखंड में राजनीतिक अस्थिरता पैदा करना चाहती है।

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने कहा कि मुख्यमंत्री को इस विवादास्पद अफसर को तुरंत पद से हटा देना चाहिए। भाजपा नेता सतपाल महाराज ने हरीश रावत सरकार को उत्तराखंड की सबसे भ्रष्टतम सरकार करार देते हुए कहा कि भाजपा शराब और आपदा घोटालों को संसद में जोर-शोर से उठाएगी।

नई दिल्ली में भाजपा नेता निर्मला सीतारमन ने इस स्टिंग ऑपरेशन के बारे में कहा कि मुख्यमंत्री हरीश रावत को अपने पद से तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने कहा कि यह मामला बेहद गंभीर है, इस स्टिंग ऑपरेशन की मूल सीडी की एक समय सीमा के भीतर फॉरेंसिक जांच कराई जाए। जांच में जो सत्यता सामने आए उस आधार पर कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए।

ललितगेट और व्यापमं के मुद्दों को लेकर चौतरफा घिरी भाजपा ने रावत के मामले में कांग्रेस के शीर्ष नेताओं सोनिया गांधी और राहुल गांधी को लाने का प्रयास करते हुए कहा कि केरल से असम, हिमाचल प्रदेश से उत्तराखंड तक के मुख्यमंत्री ‘लूट के सौदागर’ हो चुके हैं और गांधी परिवार को कमीशन दे रहे हैं।

केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमन ने संवाददाता सम्मेलन में स्टिंग ऑपरेशन का वीडियो जारी किया। निर्मला ने कहा कि रावत के सचिव शाहिद लंबे समय से रावत के सहयोगी रहे हैं और पहले वे केंद्र में भी कांग्रेस नेता के साथ काम कर चुके हैं। शाहिद राज्य में आबकारी सचिव भी हैं।

भाजपा नेता ने कहा, ‘उत्तराखंड में राहत प्रदान करने पर ध्यान देने के बजाय रावत शराब नीति में छेड़छाड़ करके पैसे बना रहे हैं। हम मांग करते हैं कि कांग्रेस पार्टी उनको तत्काल हटाए। उनको इस्तीफा देना चाहिए। पार्टी के राष्ट्रीय सचिव श्रीकांत शर्मा ने कहा कि केंद्र में शासन करने के दौरान कांग्रेस ने ‘देश को लूटा’ और अब उसके मुख्यमंत्री राज्यों में वही कर रहे हैं।

(सुनील दत्त पांडेय)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App