ताज़ा खबर
 

श्री श्री रविशंकर ने दी अमरनाथ यात्रा स्‍थगित करने की सलाह, भड़के यूजर्स ने खूब सुनाया

वीरम ने लिखा, "भक्तों का मनोबल न गिराएं।" ध्रुव नाम के हैंडल से कहा गया, "यही मानसिकता है, जो हिंदुओं को नपुंसक बनाती है। आप गुरु हो तो भक्ति की शक्ति की बात करो। भक्ति से भागने की बात न करो।"

अमरनाथ श्राइन बोर्ड का सदस्य होने के नाते श्री श्री ने श्रद्धालुओं को यह सलाह दी है। (एक्सप्रेस फोटोः प्रवीण खन्ना/यूट्यूब)

आध्यात्मिक गुरु और द ऑर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर अमरनाथ यात्रा को लेकर बोले हैं। सलाह देते हुए उन्होंने कहा है कि इस बार की यात्रा को स्थगित कर देना चाहिए। लोग घर पर ही रहकर बाबा बर्फानी का ध्यान करें। मगर श्री श्री का यह विचार सोशल मीडिया पर लोगों को रास न आया। यूजर्स उनकी सलाह पर भड़क उठे और जमकर उन्हें बातें सुनाने लगे।

वीरम ने लिखा, “भक्तों का मनोबल न गिराएं।” ध्रुव नाम के हैंडल से कहा गया, “यही मानसिकता है, जो हिंदुओं को नपुंसक बनाती है। आप गुरु हो तो भक्ति की शक्ति की बात करो। भक्ति से भागने की बात न करो।”

वहीं, मीनाक्षी दीक्षित ने कहा, “गुरु जी, मैं इस पर असहमत हूं। शत्रु से डर कर घर बैठना, हमारी संस्कृति में नहीं है।” वहीं, मनोज बोले, “गुरुदेव, ये कहां का न्याय है कि अपने ही देश में महादेव के दर्शन नहीं किए जा सकते?”

श्री श्री ने मंगलवार (10 जुलाई) को एक ट्वीट किया। उन्होंने लिखा, “हाल की त्रासदियों को ध्यान में रखते हुए हमारी श्रद्धालुओं को सलाह है कि वे श्री अमरनाथ यात्रा अगले साल तक स्थगित कर दें। वे सुरक्षित रहें और इस साल अपने घरों से ही ध्यान और प्रार्थना के जरिए भोलेनाथ का आह्वान करें।”

अगले ट्वीट में उन्होंने कहा, “श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड के अध्यक्ष, गर्वनर श्री एनएन वोरा, सेना और सीमा सुरक्षा बल द्वारा किए गए सर्वोत्तम प्रयासों के बाद भी यह संभव नहीं लग रहा है कि सड़कें भविष्य में यात्रा के लिए उपयुक्त हो सकेंगी।”

फिर क्या था, लोगों ने इन्हीं दोनों ट्वीट्स को लेकर श्री श्री को आड़े हाथों लिया। देखिए लोगों ने उनके लिए कैसे कैसे ट्वीट्स किए-

आपको बता दें कि श्री श्री, अमरनाथ श्राइन बोर्ड के सदस्य हैं। भूस्खलन और बारिश की वजह से बाबा बर्फानी की गुफा जाने वाले दोनों मार्ग अवरुद्ध हो गए हैं। ऐसे में उन्होंने श्रद्धालुओं से घर से बाबा का स्मरण करने की बात पर बल दिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App