ताज़ा खबर
 

राजनाथ से मीट‍िंग छोड़ योगी आद‍ित्‍यनाथ से श‍िष्‍टाचार मुलाकात के ल‍िए चले गए श्री श्री रव‍िशंकर

'आर्ट ऑफ लिविंग' के संस्थापक श्री श्री रविशंकर का इस मसले पर कहना है कि वह दोनों समुदायों के बीच बातचीत में मध्यस्थता करेंगे और हर किसी को सुनेंगे।

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के आवास पर हुई यह बैठक तकरीबन 20 मिनट तक चली, जिसमें अयोध्या मसले पर भी चर्चा हुई।

अयोध्या मसले पर आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर मध्यस्थता कर रहे हैं। बुधवार (15 नवंबर) को इसी क्रम में वह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिले। कहा जा रहा है कि दोनों के बीच इसमें अयोध्या की बाबरी मस्जिद-राम मंदिर मसले पर चर्चा हुई। श्री श्री रविशंकर ने इस शिष्टाचार मुलाकात के लिए गृह मंत्री राजनाथ सिंह के साथ निर्धारित बैठक को छोड़ दिया। जबकि मंगलवार को गृहमंत्री से एक मुस्लिम प्रतिनिधिमंडल इसी मामले को लेकर मिला था। यूपी के सीएम के आवास पर हुई यह बैठक तकरीबन 20 मिनट तक चली। योगी आदित्यनाथ ने इस दौरान उन्हें स्मृति चिह्न भी भेंट किया। एक सरकारी अधिकारी ने पीटीआई को बताया कि अयोध्या मसले पर यूपी के सीएम का रुख साफ है। राज्य सरकार कोई पक्ष नहीं है। वह निपटारे का स्वागत करेंगे और कोर्ट के फैसले का सम्मान करेंगे।

HOT DEALS
  • Panasonic Eluga A3 Pro 32 GB (Grey)
    ₹ 9799 MRP ₹ 12990 -25%
    ₹490 Cashback
  • Honor 7X Blue 64GB memory
    ₹ 16010 MRP ₹ 16999 -6%
    ₹0 Cashback

वहीं, श्री श्री रविशंकर का इस पर कहना है कि वह दोनों समुदायों के बीच बातचीत में मध्यस्थता करेंगे और हर किसी को सुनेंगे। दोनों की इस मुलाकात से एक दिन पहले यूपी के सीएम ने इस मसले को सुलझाने के लिए श्री श्री के प्रयासों का स्वागत किया था। उन्होंने कहा था कि प्रयास किसी भी स्तर पर हों, उनका स्वागत किया जाएगा। समस्या यह नहीं है कि इस मसले पर बात होनी चाहिए। बल्कि दोनों पक्षों को इसके लिए राजी होना चाहिए। यह अच्छे परिणाम दे सकती है लेकिन नीयत भी अच्छी होनी चाहिए।

उधर, गृह मंत्री से इसी मसले पर मंगलवार को एक मुस्लिम प्रतिनिधिमंडल मिला था, जिसमें कुल 12 मौलाना शामिल थे। बैठक के दौरान प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व अजमेर दरगाह से जुड़े हुए सैयद जैनुल अबेदिन ने किया। अबेदिन के बेटे सैयद नसरुद्दीन चिश्ती ने इस बारे में बताया कि अजमेर शरीफ दरगाह में करीब चार हजार खादिम हैं। जो शख्स श्री श्री रविशंकर के आसपास घूम रहा है वह दरगाह का धार्मिक गुरु बनने की कोशिश कर रहा है। यहां तक कि वह उनके पिता जैसे कपड़े भी पहनता है। सोमवार को दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा था कि वह इस हफ्ते अयोध्या जाएंगे और बातचीत का सकारात्मक माहौल बनाएंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App