ताज़ा खबर
 

सबको मिले मौका इसलिए संसद में देर रात तक चल रही कार्यवाही, आखिरी घंटों में स्पीकर ओम बिरला खुद संभाल रहे कमान

लोकसभा स्पीकर संसद के मौजूदा सत्र में सभी सदस्यों को बोलने का मौका देना सुनिश्चित करना चाहते हैं। इसके लिए वह शून्य काल की अवधि बढ़ाने में भी कोई गुरेज नहीं कर रहे हैं।

Lok Sabha, Speaker Om Birla, Zero Hour, house adjourn, Congress MP, BJP MP, india news, Hindi news, news in Hindi, latest news, today news in Hindiस्पीकर ओम बिरला ने अपने एक महीने के कार्यकाल में कई महत्वपूर्ण बदलाव भी किए हैं। (फाइल फोटो)

लोकसभा स्पीकर ओम बिरला संसद के पहले सत्र में यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि सभी नए लोकसभा सदस्यों को बोलने का मौका मिले। इसके साथ ही वह इस बात को लेकर भी सजग हैं कि इस स्थिति में पुराने सदस्य बोलने का मौका मिलने से वंचित न रह जाएं।

इसके लिए स्पीकर सदन के शून्य काल को बढ़ाने से नहीं झिझक रहे हैं। पिछले बृहस्पतिवार सदन की कार्यवाही लगातार करीब 5 घंटे तक चली। इस दौरान रिकॉर्ड 162 सदस्यों ने इसमें हिस्सा लिया। इसका अर्थ है कि सदन की रोज की कार्यावाही देर रात तक चल रही है।

काफी समय तक सभापति की कुर्सी पर पीठासीन अधिकारी के पैनल के सदस्य के बैठने के अलावा सदन के स्थगित होने के अंतिम घंटों की कमान स्पीकर ओम बिरला खुद संभाल रहे हैं। सदन में 20 जुलाई को अपना एक महीना पूरा करने वाले बिरला ने इस दौरान सदन की कार्यावाही में कई अहम बदलाव किए हैं।

उन्होंने शून्य काल के एक घंटा के अवधि की परंपरा को खत्म किया। स्पीकर ओम बिरला की खास बात यह है कि वह अपनी हर बात को हिंदी में रखते हैं। लोकसभा में ‘आइस’ और ‘नोस’ के स्थान पर सदस्य अब ‘हां’ और ‘ना’ का प्रयोग करते हैं। इससे पहले शून्य काल की अवधि बढ़ाने के बाद 26 जून को शून्य काल में रिकॉर्ड 84 सदस्यों ने हिस्सा लिया।

यह पहली बार हुआ है कि स्पीकर ने शून्य काल के दौरान किसी नोटिस को स्वीकार नहीं किया है। संसद में शून्य काल की अवधि प्रश्नकाल से पहले निर्धारित होती है। इस दौरान सांसद अपने क्षेत्र के अत्यंत महत्व के मामलों को संक्षिप्त में सदन के समक्ष रखते हैं। इसके लिए उन्हें 10 दिन पहले नोटिस देने की बाध्यता नहीं होती है।

स्पीकर ओम बिरला ने विपक्ष को बहस के अंत में मंत्री के जवाब के बाद सफाई देने का मौका देने जैसी नई परंपरा की शुरुआत की है। यह स्पीकर की कार्यशैली से ही संभव हुआ है कि सदन में चुन कर आए नए सदस्यों में से पहले ही सत्र में करीब 90 फीसदी सांसदों को बोलने का मौका मिला है। इतना ही प्रश्नकाल के दौरान औसतन 3 से 4 सवाल की जगह 8 से 9 सवाल पूछे जा रहे हैं। संसद के मौजूदा सत्र में अब तक नौ बिलों को मंजूरी मिल चुकी है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पर्यावरण के प्रति बेहद संवेदनशील थीं शीला
2 पंचतत्व में विलीन हुईं शीला दीक्षित, राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई
3 नसीरुद्दीन ने अब दिया ‘मॉब लींचिंग’ पर बयान, कहा- काफी दर्द झेला है