scorecardresearch

जल्दी ही चार हिस्सों में बंटेगा पाकिस्तान, रोहिंग्या के मुद्दे पर बीजेपी के पूर्व सांसद ने दी पड़ोसी मुल्क को चेतावनी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निमंत्रण पर बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना आने वाले सितंबर महीने में भारत दौरे पर आने वाली हैं।

Subramanian Swamy|Narendra Modi|BJP MP|
सुब्रह्मण्यम स्वामी (Photo Credit- फाइल फोटो/ द इंडियन एक्स्प्रेस)

रोहिंग्या मुसलमानों को लेकर दुनिया के कई देशों में चर्चा होती रहती है। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना भारत दौरे पर आने वाली हैं और इस दौरान वह पीएम मोदी से भी मुलाकात करेंगी। वहीं शेख हसीना के भारत दौरे से पहले बांग्लादेश के विदेश सचिव ने भारत की न्यूज एजेंसी से बात करते हुए कहा है कि रोहिंग्या के मुद्दे को भी बांग्लादेश पीएम मोदी के साथ बातचीत में उठा सकता है।

बांग्लादेश के विदेश सचिव एमबी मोमेन ने एएनआई से बात करते हुए कहा कि रोहिंग्या मुसलमानों की म्यांमार वापसी ही एक अच्छा समाधान होगा। उन्होंने कहा, “हमारे लिए एकमात्र संभव समाधान रोहिंग्याओं को उनके राज्य यानी म्यांमार में प्रत्यावर्तन है। मुझे यकीन है कि जब पीएम शेख हसीना भारत के प्रधानमंत्री पीएम मोदी से मिलेंगी तो वह इस मुद्दे को भी उठाएंगी कि भारत इस प्रत्यावर्तन प्रयास में हमारी कैसे मदद कर सकता है।”

बांग्लादेश के विदेश सचिव के बयान को आरती शर्मा नाम की ट्विटर यूजर ने शेयर किया और सुब्रमण्यम स्वामी को टैग किया। इसके जवाब में पूर्व बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्वीट करते हुए लिखा, “1944 में रोहिंग्या नेतृत्व ने जिन्ना को उन्हें पाकिस्तान ले जाने के लिए कहा। म्यांमार की संविधान सभा की बैठक में रोहिंग्याओं ने ‘पाकिस्तान जाने’ की मांग दोहराई। अब क्या? पाकिस्तान दो हिस्सों में बटेगा और जल्द ही 4 हिस्सों में बंटेगा।”

सुब्रमण्यम स्वामी के ट्वीट के जवाब में कई सोशल मीडिया यूजर्स ने उनसे पूछा कि क्या यह संभव है। प्रीतम नाम के ट्विटर यूजर ने स्वामी से पूछा, “लेकिन क्या पीएम मोदी की सरकार ऐसा करना चाहेगी? हम बार-बार पाकिस्तान को दोष देते हैं, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं करते हैं बल्कि हम उनके साथ बैक चैनल वार्ता करते हैं। भारत में पाक प्रतिनिधिमंडल को आमंत्रित करते हैं। तारेक फतेह ने कई बार बलूचिस्तान के लोगों के लिए कुछ करने की बात कही, लेकिन हम इसे नज़रअंदाज़ कर रहे हैं।

बांग्लादेश के विदेश सचिव ने कहा कि हम भारत के साथ रोहिंग्या मुद्दे के साथ ही ड्रग तस्करी के मुद्दे को भी उठाएंगे। पिछले साढ़े 4 सालों में बांग्लादेश में 10 लाख से अधिक रोहिंग्या शरणार्थियों ने जगह ली है। रोहिंग्या शरणार्थियों के कारण बांग्लादेश को कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। महिला तस्करी और ड्रग तस्करी की घटनाएं बांग्लादेश में काफी अधिक बढ़ गई है।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X