ताज़ा खबर
 

अमित शाह के बगल में सीट मिली तो कार्यक्रम में नहीं पहुंचीं सोनिया गांधी? फिर कौन बैठा, जानिए

कांग्रेस अध्यक्ष ने राज्य सभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद के साथ बैठकर छठी पंक्ति से ही परेड का दीदार किया। कांग्रेस ने इस मामले में जब बीजेपी पर हमला बोला तब बीजेपी ने प्रोटोकॉल का हवाला दे दिया।

Author February 4, 2018 1:44 PM
सोनिया गांधी और अमित शाह (एक्सप्रेस फोटो/पीटीआई फोटो)

राजधानी दिल्ली में गणतंत्र दिवस की परेड के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का छठी पंक्ति पर बैठना विवाद का विषय बन गया था। कांग्रेस ने इस मामले में तीखी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए जहां बीजेपी पर जमकर निशाना साधा था तो वहीं बीजेपी ने कहा था कि उन्हें प्रोटोकॉल के तहत सीट दी गई थी। वहीं सोनिया गांधी जब कांग्रेस की अध्यक्ष थीं तब उन्हें हमेशा पहली पंक्ति में ही सीट दी जाती थी। इस साल भी हर बार की तरह ही उन्हें पहली पंक्ति में ही सीट दी गई थी, लेकिन सोनिया गांधी खुद इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए नहीं आईं। उन्हें बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के बगल में सीट दी गई थी, शायद इसलिए वह परेड देखने नहीं आईं। कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष के न आने पर अमित शाह के बगल में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की पोती बैठी, जिसने शाह की पत्नी सोनल शाह को पूरे कार्यक्रम के दौरान ढेर सारे सवाल पूछकर बिजी रखा।

गणतंत्र दिवस के कार्यक्रम में राहुल गांधी को चौथी पंक्ति में जगह दी गई थी, लेकिन जब कांग्रेस की ओर से इसका विरोध किया गया तब उनकी सीट छठी पंक्ति में शिफ्ट कर दी गई। कांग्रेस अध्यक्ष ने राज्य सभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद के साथ बैठकर छठी पंक्ति से ही परेड का दीदार किया। कांग्रेस ने इस मामले में जब बीजेपी पर हमला बोला तब बीजेपी ने प्रोटोकॉल का हवाला दे दिया। आपको बता दें कि सीट को लेकर उठे विवाद का यह कोई पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी यूपीए की सरकार के दौरान ऐसा एक केस हो चुका है। यूपीए के शासन के दौरान लाल किले पर स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रम के वक्त तत्कालीन लोकसभा नेता प्रतिपक्ष सुषमा स्वराज को चौथी पंक्ति में जगह दी गई थी। इस बात का स्वराज ने काफी विरोध किया था, जिसके बाद कांग्रेस ने उन्हें शांत करने की काफी कोशिश की थी। गुलाम नबी आजाद ने सुषमा से अपनी पत्नी की खाली सीट में बैठने का आग्रह भी किया था, लेकिन उन्होंने मना कर दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X