ताज़ा खबर
 

सोनिया की इफ्तार पार्टी में जुटे विपक्षी दल, नहीं आए मुलायम

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की ओर से सोमवार को आयोजित इफ्तार पार्टी में समाजवादी पार्टी (सपा) शामिल नहीं हुई। लेकिन जनता परिवार के दूसरे दलों जैसे राजद और बिहार..

Author July 14, 2015 8:51 AM
सोनिया गांधी की इफ्तार पार्टी (PTI Photo)

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की ओर से सोमवार को आयोजित इफ्तार पार्टी में समाजवादी पार्टी (सपा) शामिल नहीं हुई। लेकिन जनता परिवार के दूसरे दलों जैसे राजद और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सहित जद (एकी) के नेता उपस्थित थे।

सपा नेता मुलायम सिंह यादव न तो खुद सोनिया की इफ्तार पार्टी में शामिल हुए और न ही उनकी पार्टी का कोई नेता नजर आया। कांग्रेस अध्यक्ष ने बताया कि यादव ने उन्हें एक पत्र लिख कर दिन में ही सूचित कर दिया था कि उन्हें किसी जरूरी काम से लखनऊ जाना पड़ा है।

बसपा के वरिष्ठ नेता सतीश चंद्र मिश्र इफ्तार पार्टी में उपस्थित थे जबकि माकपा नेता मोहम्मद सलीम कुछ देर के लिए आए। अन्य वाम नेता नजर नहीं आए। इफ्तार पार्टी में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सोनिया से बातें करते देखे गए। राकांपा अध्यक्ष शरद पवार और तृणमूल कांग्रेस नेता डेरेक ओ’ब्रायन भी वहीं बैठे थे।

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला, द्रमुक नेता कनिमोड़ी, जदयू के अध्यक्ष शरद यादव और उनके साथी के सी त्यागी भी इफ्तार पार्टी में आए और राहुल गांधी के साथ बैठे। राजद प्रमुख लालू प्रसाद इफ्तार पार्टी में नहीं आए लेकिन उन्होंने अपने पार्टी सहयोगी प्रेमचंद गुप्त और जयप्रकाश यादव को भेजा। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, वरिष्ठ कांग्रेस नेता एके एंटनी और राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद भी मौजूद थे। इनके अलावा कांग्रेस के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई (असम), हरीश रावत (उत्तराखंड) और वीरभद्र सिंह (हिमाचल प्रदेश) भी मौजूद थे।

सवालों के जवाब में राहुल गांधी ने कहा कि संसद के मानसून सत्र में उठाने के लिए हमारे पास मुद्दों की लंबी सूची है। हालांकि मुद्दों के बारे में उन्होंने कुछ नहीं बताया। यह पूछे जाने पर कि क्या सदन में समान विचारधारा वाले अन्य दलों के साथ समन्वय होगा, राहुल ने कहा कि अक्सर ऐसा होता है।

उन्होंने अपनी मेज के आसपास बैठे अन्य विपक्षी नेताओं की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘और यह क्या है?’ राहुल को कनिमोड़ी के साथ बातचीत करते और उनसे भाजपा तथा अन्नाद्रमुक के संबंधों के बारे में सवाल करते देखा गया।

इफ्तार में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित सहित कई विदेशी राजनयिक भी मौजूद थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App