ताज़ा खबर
 

आजमगढ़ के आतंकियों को लिए सोनिया गांधी का दिल रोता था, डिबेट में बोले संगीत रागी तो कांग्रेसी प्रवक्ता ने दिया ये जवाब

रागी ने कहा "पीएफ़आई का आतंकियों के साथ संबंध है इसकी बात सबसे पहले केरल की सीपीएम सरकार ने की थी। भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने नहीं की थी। राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के अंदर घृणा भरी हुई है।"

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: October 22, 2020 3:22 PM
TV debate, PFI, rahul gandhi प्रोफेसर और आरएसएस विचारक संगीत रागी और कांग्रेसी प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनाते।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने हालही में वायनाड में रहने वाले पत्रकार सिद्दीकी कप्पन के परिवार से मुलाकात की थी। राहुल ने सिद्दीकी कप्पन के परिवार को हर संभव मदद का भरोसा दिलाया है। सिद्दीकी कप्पन हाथरस गैंगरेप की वारदात के बाद जातीय दंगे फैलाने की साजिश के आरोप में इस वक्त यूपी की एक जेल में बंद है। कप्पन पर पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) का कार्यकर्ता होने का भी आरोप है।

इसे लेकर न्यूज़ 18 के आर-पार शो पर के टीवी डिबेट चल रहा था। इस डिबेट में प्रोफेसर और आरएसएस विचारक संगीत रागी ने गंधी परिवार पर कई गंभीर आरोप लगाए। इसपर कांग्रेसी प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनाते ने उन्हें करारा जवाब दिया। रागी ने कहा “पीएफ़आई का आतंकियों के साथ संबंध है इसकी बात सबसे पहले केरल की सीपीएम सरकार ने की थी। भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने नहीं की थी। राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के अंदर घृणा भरी हुई है। ये विदेश जाते हैं तो हिन्दू आतंकी बोलते हैं, इनको इस्लाम आतंकी नहीं दिखते।” रागी ने कहा “माँ, बेटा और बहन तीनों आतंकियों का साथ देते हैं। पता नहीं किसके इशारे पर काम कर रहे हैं।”

रागी ने कहा कि आजमगढ़ के आतंकयों के लिए श्रीमति सोनिया गांधी का दिल रोता था। उसके गृह मंत्री पी चिदंबरम कहते थे बाटला हाउस एनकाउंटर सही है, लेकिन गांधी परिवार कहता था यह फेक है। इसपर कांग्रेसी प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनाते ने कहा “आप को यहां बुलाया है इसका मतलब यह नहीं कि आप कुछ भी बोल देंगे। अब ये सर्टिफिकेट देंगे की कौन हिन्दू है? हमारे धर्म के ठेकेदार मत बनो।”

बता दें कि मथुरा की मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट अंजू राजपूत ने सिद्दीकी कप्पन और तीन अन्य की न्यायिक हिरासत दो नवंबर तक के लिए बढ़ा दी है। पुलिस ने चारों आरोपियों को सीआरपीसी की धारा 151 के तहत गिरफ्तार किया था, लेकिन चारों के खिलाफ बाद में राजद्रोह और आतंकवाद रोधी कानून के तहत मामला दर्ज किया गया। उन्हें 7 अक्टूबर को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था।

Next Stories
1 भारतीय नौसेना में शामिल हुई INS कावारत्ती, पनडुब्बियों का पता लगाने और उनका पीछा करने में सक्षम
2 त्योहारों के मौके पर कोरोना से बचाव के लिए संस्कृति मंत्रालय ने जारी की गाइडलाइंस, जानें क्या है जरूरी
3 भारत ने एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल नाग का किया सफल परीक्षण, डीआरडीओ के विकसित मिसाइल में जानें क्या है खासियतें
IPL 2021 LIVE
X