ताज़ा खबर
 

सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने भी गोद लिए गांव

नरेंद्र मोदी की प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना को राहुल और सोनिया ने भी मान लिया है। इसीलिए सोनिया के संसदीय क्षेत्र रायबरेली पर अब तीन सांसद मेहरबान हो गए हैं। इससे इस योजना में रायबरेली के तीन गांव चुने गए हैं। लेकिन अमेठी जिले का खाता भी नहीं खुला है। सोनिया और राहुल के गोद […]

Author November 16, 2014 10:58 am
कांग्रेस ने दिल्ली विधानसभा चुनाव के उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की (फोटो: भाषा)

नरेंद्र मोदी की प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना को राहुल और सोनिया ने भी मान लिया है। इसीलिए सोनिया के संसदीय क्षेत्र रायबरेली पर अब तीन सांसद मेहरबान हो गए हैं। इससे इस योजना में रायबरेली के तीन गांव चुने गए हैं। लेकिन अमेठी जिले का खाता भी नहीं खुला है।

सोनिया और राहुल के गोद लिए गए दोनों गांव शहीदों के हैं। रायबरेली के उडवा को सोनिया गांधी, जगदीशपुर को राहुल गांधी और सरेनी को कैप्टन सतीश शर्मा ने गोद लिया है। तीनों सांसदों के गोद लिए गांव रायबरेली से जुड़े हैं। गांव गोद लेने को राहुल गांधी भी सक्रिय हो गए हैं। अमेठी से सांसद ने वायुसेना के एक शहीद के पैतृक गांव जगदीशपुर को चुना है। जगदीशपुर रायबरेली जिले की सलोन तहसील का एक हिस्सा है। लेकिन सलोन तहसील अमेठी लोकसभा की एक आरक्षित विधानसभा है। जगदीशपुर वायुसेना के शहीद अखिलेश प्रताप सिंह का पैतृक गांव है। अखिलेश प्रताप सिंह 25 जून, 2013 को उत्तराखंड त्रासदी में बचाव कार्य के दौरान शहीद हो गए थे। अखिलेश प्रताप सिंह के शहीद होने की खबर पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अमेठी के सांसद राहुल गांधी दोनों उनके पैतृक गांव आए थे। लेकिन अब तक शहीद के नाम पर एक पत्थर भी गांव में नहीं लगा है। यह गांव उपेक्षित पड़ा है। इसलिए राहुल गांधी ने इस गांव को गोद लिया है।

जगदीशपुर ग्राम पंचायत में 20 पुरवे हैं जिसमें 4538 की आबादी है। इसमें 1571 अनुसूचित जाति के लोग हैं। इस ग्राम पंचायत में 2013 बीपीएल, 134 अंत्योदय और 1516 एपीएल कार्डधारक हैं। इतनी बड़ी आबादी के बीच मात्र 64 आवास बने हैं। किसी भी पुरवे में सीसी रोड नहीं बनी है। 5000 की आबादी में दो प्राथमिक और एक जूनियर विद्यालय खुले हैं। कन्या पाठशाला नहीं है। इस गांव में बैंक, अस्पताल, बारातघर, खेल का मैदान और यातायात के साधन नहीं हैं। कई पुरवों में अब तक बिजली नहीं पहुंची है। मायावती सरकार की आंबेडकर गांव और सपा की लोहिया आवास योजना भी यहां नहीं आई है। इसलिए ग्राम पंचायत बहुत पिछड़ी है।

सोनिया गांधी ने अपने लोकसभा क्षेत्र के उडवा गांव को चुना है। यह गांव 1857 के स्वाधीनता संग्राम के अमर सेनानी बेनी माधव बक्श सिंह का पैतृक गांव है। गांधी परिवार के करीबियों में शुमार राज्यसभा सांसद कैप्टन सतीश शर्मा ने रायबरेली के सरेनी गांव को आदर्श ग्राम पंचायत बनाने के लिए चुना है। सोनिया और राहुल ने रायबरेली जिले के दो अलग-अलग शहीदों के पैतृक गांव को गोद लिया है। इससे अमेठी जिले की जनता मायूस है। क्योंकि इस जिले में भी शहीदों के कई गांव हैं।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App