ताज़ा खबर
 

कोरोना महामारी: रेहड़ी-पटरी मजदूर अब बेच रहे सब्जी और फल

तुगलकाबाद एक्सटेंशन में रहने वाले उत्तर प्रदेश के बांदा निवासी ओमबीर ने बताया कि वह पहले बाजारों में चप्पल-जूते बेचता था। लाकडाउन में दुकानें बंद हो गई तो वह अब अपने रिक्शे पर सब्जी और फल बेचना शुरू कर दिया।

Author नई दिल्ली | Published on: May 21, 2020 3:46 AM
घर नहीं जा पाए श्रमिक दिल्ली में सब्जी बेचकर कर रहे गुजारा।

निर्भय कुमार पांडेय
कोरोना महामारी को लेकर दिल्ली में सभी छोटे-बड़े बाजार लगने बंद हो गए हैं। साथ ही कल-कारखाने भी बंद पड़े हैं। इस कारण बड़ी संख्या में मजदूर दिल्ली से अपने गांव की ओर पैदल या फिर जैसे-तैसे कर पलायन कर रहे हैं। गांव जाने वाले मजदूरों के साथ हो रही परेशानियों को देखते हुए कुछ मजूदरों ने जीवनयापन का नया तरीका खोज निकाला है। ये मजदूर अब सब्जी और फल बेचने लगे हैं। खाने-पीने के सामान की रेहड़-पटरी लगाने वालों ने भी अब सब्जी बेचने का काम शुरू कर दिया है।

ओखला सब्जी मंडी के बाहर हर दिन बड़ी संख्या में थोक सब्जी खरीदने वालों की भीड़ लगती है। लाइन में खड़े एक युवक रामेश्वर यादव ने बताया कि वह हरकेश नगर में रहता है और ओखला औद्योगिक क्षेत्र-2 में रेहड़ी पर खाना बनाकर बेचता था, लेकिन पूर्णबंदी की वजह से सब कुछ बंद हो गया है। उसके पास रेहड़ी पहले से ही थी। यही कारण है कि उसने सब्जी बेचने का काम शुरू कर दिया।

इसी प्रकार तुगलकाबाद एक्सटेंशन में रहने वाले उत्तर प्रदेश के बांदा निवासी ओमबीर ने बताया कि वह पहले बाजारों में चप्पल-जूते बेचने का काम करता था। उसके पास पैर से चलाने वाला रिक्शा था। कुछ दिनों तक तो उसने बचे हुए पैसों से घर चलाया, लेकिन जब उसने टीवी पर गांव लौट रहे मजदूरों की परेशानी देखी तो उसने अपने रिक्शे पर सब्जी और फल बेचना शुरू कर दिया। उसका कहना है कि इसके लिए स्थानीय प्रशासन और पुलिस ने भी उसकी काफी मदद की। उसे पास बनवाने के लिए कोई दिक्कत नहीं हुई।

इसी प्रकार बदरपुर में सब्जी बचने वाले मोहित कुमार ने बताया कि वह कारखाना में काम करता था। पर नौकरी छूट जाने के बाद उसने घर के पास ही एक दुकान के बाहर सब्जी बचने का काम शुरू कर दिया है। उसने बताया कि उसका भाई रोहित सुबह ओखला मंडी से सब्जी ले आता है। मंडी सुबह पांच बजे खुल जाती है। सामाजिक दूरी का पालन करने की वजह से वह वह सुबह नौ-दस बजे पहले नहीं लौट पाता। सुबह के समय मोहित दुकान लगाता है। इसी प्रकार दोपहर में रोहित सब्जी बेचने का काम करता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 CBSE: स्कूलों के पास परीक्षा कराने के लिए कमरे मौजूद
2 Indian Railways: रेलवे 1 जून से चलाएगा 200 यात्री ट्रेनें, आज सुबह 10 बजे से शुरू होगी बुकिंग
3 Corona Virus:कोरोना से मरने वालों के लिए ओवैसी ने दस एकड़ में बनवा दिया कब्रिस्‍तान, पहले से खोद कर रखी जा रहीं कब्रें