ताज़ा खबर
 

शहीद हेमराज की पत्नी बोलीं- मोदी ने कार्रवाई करके जवानों और उनके घरवालों में भरोसा कायम किया

शहीद हेमराज की पत्नी धर्मवती ने कहा कि भारतीय सेना ने पाकिस्तान के आतंकवादियों को सबक सिखाने के लिए देर से ही सही, लेकिन बिल्कुल सही कदम उठाया है।

Author September 30, 2016 4:29 PM
दुश्मन देश के सैनिकों ने 2013 में लांसनायक हेमराज सिंह का सिर काटकर बेहद अपमानजनक व्यवहार किया था। (फाइल फोटो)

भारतीय सेना द्वारा पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में घुसकर किए गए सर्जिकल स्ट्राइक पर शहीद हेमराज की पत्नी धर्मवती ने कहा कि भारतीय सेना ने पाकिस्तान के आतंकवादियों को सबक सिखाने के लिए देर से ही सही, लेकिन बिल्कुल सही कदम उठाया है। धर्मवती ने कहा कि अफसोस बस इतना है कि यदि यही कदम कुछ पहले उठा लिया गया होता तो देश को अपने 18 बहादुर जवान यूं न खोने पड़ते। गौरतलब है कि कोसीकलां क्षेत्र के शेरनगर खिरार गांव निवासी, 13 राजपूताना रायफल बटालियन के लांसनायक हेमराज सिंह और उनके साथी लांसनायक सुधाकर सिंह जब जनवरी 2013 में अपनी यूनिट के बाकी जवानों के साथ जम्मू के पुंछ सेक्टर में सीमा की निगरानी कर रहे थे, तब दुश्मन देश के सैनिकों ने उनके सिर काटकर बेहद अपमानजनक व्यवहार किया था। शहीद हेमराज की पत्नी धर्मवती भारत सरकार से पाकिस्तान के साथ किसी भी प्रकार की नरमी नहीं बरते जाने और उसे कड़ा सबक सिखाने की बात करती रही हैं।

उन्होंने सरकार की कार्रवाई पर संतोष जाहिर करते हुए कहा कि मोदी सरकार ने इस कार्रवाई को अंजाम देकर आम नागरिकों सहित जवानों और उनके परिजन में भरोसा कायम करने का काम किया है। धर्मवती ने आगे कहा कि अब बेहतर यही होगा कि सभी देशवासी भविष्य में आने वाली हर संभावित परिस्थिति से निपटने के लिए तैयार रहें। मथुरा छावनी में रहकर बच्चों का पालन पोषण कर रही धर्मवती ने बीती शाम गांव में शहीद पति हेमराज की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।

वीडियो: सर्जिकल स्ट्राइक का भारत के लिए क्या अहमियत है

गौरतलब है कि भारतीय सेना ने बुधवार (28 सितंबर) को लाइन ऑफ कंट्रोल (LOC) पार करके पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) में घुसकर कई आतंकी ठिकानों को नष्ट किया था। इसमें दुश्मन को भारी नुकसान पहुंचा था। पाकिस्तान ने भारत के सर्जिकल स्ट्राइक के दावे को झूठ बताया। उसने कहा कि भारतीय सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक नहीं किया बल्कि युद्ध विराम तोड़ा था जिसका करारा जवाब दिया गया था और इस दौरान पाकिस्तान के 2 सिपाही मारे गए थे। पाकिस्तान ने उन सिपाहियों की तस्वीरें भी जारी की थीं। जिन सिपाहियों की मौत हुई वे दोनों हवलदार थे। उनमें से एक का नाम जुम्मा खान था और दूसरे का नाम नाइक इम्तियाज। उधर गुरुवार को पाकिस्तान पर ईरान ने भी हमला किया था। ईरान की सेना ने उसपर मोर्टार दाग दिए थे। ईरान की तरफ से ये मोर्टार बलूचिस्तान के इलाके में दागे गए थे। ईरान ने तीन मोर्टार दागे थे।

Read Also: पाकिस्तान के कब्जे में फंस गया चंदू बाबूलाल, खबर बर्दाश्त नहीं कर पाई नानी, हुई मौत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App