यूपीः स्मृति ईरानी के बेटे ने किया घर का भूमि पूजन, लोग बोले- अमेठी में बस यही विकास होना था

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के बेटे जोहर ईरानी ने गुरुवार को अमेठी में उनके नए घर के लिए भूमि पूजन किया। उनके इस भूमि पूजन के साथ ही सोशल मीडिया पर भी बहस छिड़ गई कि स्मृति ईरानी के कार्यकाल में अमेठी में विकास के क्या काम हुआ।

Smriti Irani, Amethi, Smriti Irani Home in Amethi, Johar Irani
केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के आवास का भूमि-पूजन उनके बेटे जोहर ईरानी ने किया। Photo Source- Left PTI, Right Twitter

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के बेटे जोहर ईरानी ने गुरुवार को अमेठी में उनके नए घर के लिए भूमि पूजन किया। उनके इस भूमि पूजन के साथ ही सोशल मीडिया पर भी बहस छिड़ गई कि स्मृति ईरानी के कार्यकाल में अमेठी में विकास के क्या काम हुआ। बीजेपी नेता के प्रतिनिधि विजय गुप्ता ने बताया कि स्मृति ईरानी ने साल 2019 के लोकसभा चुनावों में जनता से वादा किया था कि अमेठी में ही अपना घर बनाएंगी ताकि अपनी शिकायतों के लिए लोगों को दिल्ली की भागदौड़ न करनी पड़े। इसी कोशिश के तहत भूमि पूजन किया गया। उन्होंने बताया कि घर के लिए जमीन फरवरी महीने में खरीदी गई थी, भूमि पूजन के बाद जल्द ही निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा।

बेटे जोहर के हाथों भूमि पूजन कराते ही सोशल मीडिया पर इसको लेकर टिप्पणियों का सिलसिला भी चल निकला। ट्विटर पर @Bharat_jeevi नाम के यूजर ने इस पर कहा कि अमेठी में बस यही विकास होना था सो हो गया, स्मृति ईरानी के कार्यकाल में पहला और आखिरी, जनता अपना अपना देख ले और आत्मनिर्भर बने। वहीं @Optrishod नाम के यूजर ने कहा कि चुनाव के बाद यह घर किराये पर देने के काम आएगा। @Asifans38526373 नाम के यूजर का कहना है कि घर बनाओ या बंगला, 2024 में प्रियंका गांधी से हार होनी है।

वहीं स्मृति ईरानी के समर्थन में भी लोग टिप्पणी करते नजर आए। @Nitin99Bansal नाम के यूजर लिखते हैं कि गांधी परिवार के गढ़ में खूंटा गाढ़ दिया। स्मृति ईरानी के बेटे द्वारा पूजा कराए जाने पर @Sanjay197211 ने इसे भारत में सर्वधर्मसमभाव की ओर एक कदम बताया।

इस मामले पर वरिष्ठ पत्रकार अंनत विजय ने ट्वीट करते हुए कहा कि अमेठी के पूर्व सांसदों ने वहां अपना घर नहीं बनाया था। यहां तक कि उनका राशन भी लखनऊ के एक किराना स्टोर से आता था। सोशल मीडिया के कुछ यूजर स्मृति ईरानी के इस कदम को आगामी विधानसभा चुनावों से भी जोड़कर देख रहे हैं।

घर बनाने का किया था वादा: 2014 के लोकसभा चुनावों में हार का मुंह देखने के बाद स्मृति डटी रहीं और 2019 में उन्हें कामयाबी मिली। जीत के बाद स्मृति ने ऐलान किया था कि वह गांधी परिवार की तरह लखनऊ या दिल्ली से नहीं बल्कि अमेठी में ही रहेंगी। इसी कड़ी में उन्होंने 22 फरवरी को गौरीगंज के मेदन मवई गांव में एक जमीन खरीदी थी।

स्मृति ईरानी के बेटे ने मंदिरों में किया पूजन: एक तरफ स्मृति ईरानी के बेटे ने भूमि पूजन से पहले जोहर ईरानी ने वहां के स्थानीय मंदिरों में माथा टेका। भूमि पूजन संपन्न होने के बाद वह कालिकन धाम पहुंचे और वहां भी पूजा अर्चना की।

अपडेट