ताज़ा खबर
 

…तो क्या 1 जुलाई से 13 अंकों का हो जाएगा आपका मोबाइल नंबर?

Mobile Number 13 Digits, 13 Digit Mobile Number in India: सरकारी दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल ने M2M कम्यूनिकेशन के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले नंबरों को 10 के बजाय 13 डिजिट का करने का फैसला लिया है। आम उपभोक्ताओं पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

बीएसएनएल ने M2M कम्यूनिकेशन नंबर में बदलाव करने की बात कही है। (प्रतीकात्मक फोटो)

इन दिनों मोबाइल नंबर के 13 डिजिट के होने की अटकलबाजी जोरों पर है। बताया जा रहा है कि भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) मौजूदा मोबाइल नंबर को 10 के बजाय 13 डिजिट का करने जा रही है। सरकारी दूरसंचार कंपनी द्वारा स्टेकहोल्डर्स को लिखे पत्र से इस मामले पर स्थिति स्पष्ट हुई है। इसमें बीएसएनएल ने बताया कि कंपनी M2M या मशीन-टू-मशीन M2M कम्यूनिकेशन के लिए 13 डिजिट के नंबरों का इस्तेमाल करेगी। इसका आम आदमी के मोबाइल नंबर से कोई लेनादेना नहीं है। बीएसएनएल ने सभी स्टेकहोल्डर्स को 1 जुलाई से पहले इसके अनुरूप अपने सिस्टम को एडजस्ट करने की सलाह दी है। मौजूदा 10 डिजिट के M2M नंबर से 13 डिजिट में लाने की प्रक्रिया 1 अक्टूबर से शुरू हो जाएगी। M2M कम्यूनिकेशन की नई व्यवस्था को 31 दिसंबर तक पूरा कर लिया जाएगा। दूरसंचार विभाग के निर्देश के बाद यह कदम उठाया गया है। दूरसंचार कंपनियों को इसके अनुसार ही बदलाव करने होंगे।

M2M कम्यूनिकेशन में बदलाव से बीएसएनएल के उपभोक्ताओं को किसी तरह की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। M2M कम्यूनिकेशन के तहत नेटवर्क डिवाइस के बीच सूचनाओं का आदान प्रदान होता है। इसके आधार पर ही किसी तरह के कदम उठाए जाते हैं। बता दें कि M2M कम्यूनिकेशन का इस्तेमाल आमतौर पर वेयरहाउस मैनेजमेंट, रोबोटिक्स, ट्रैफिक कंट्रोल, लॉजिस्टिक्स सर्विसेज, सप्लाई मैनेजमेंट, रीमोट कंट्रोल आदि में किया जाता है। इसके अलावा इंटरनेट के क्षेत्र में भी इसकी महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

बीएसएनएल की ओर से स्टेकहोल्डर्स को लिखा गया पत्र।

बीएसएनएल ने जेडटीई टेलीकॉम इंडिया लिमिटेड और नोकिया सॉल्यूशंस एंड नेटवर्क इंडिया प्राइवेट लिमिटेड को पत्र के जरिये M2M कम्यूनिकेशन में बदलाव की जानकारी दी गई है। सरकारी दूरसंचार कंपनी ने दोनों कंपनियों को इसके अनुसार अपने सिस्टम में बदलाव करने को कहा है। इस बदलाव को लेकर बीएसएनएल के उपभोक्ताओं में मोबाइल नंबर के दस के बजाय ग्यारह डिजिट के होने की आशंका बैठ गई थी। बीएसएनएल द्वारा दोनों कंपनियों को लिखे पत्र से यह तय हो गया है कि M2M कम्यूनिकेशन में बदलाव वर्ष 2019 में पूरी तरह से प्रभावी हो जाएंगे। संबंधित कंपनियों को उसी के हिसाब से बदलाव भी करने होंगे। विशेषज्ञों की मानें तो संचार सेवा को दुरुस्त करने के लिए समय-समय पर ऐसे कदम उठाए जाते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 राम मंदिर मसले पर पहली बार राउंड टेबल कॉन्फ्रेंस, दिल्ली में जुटेंगे क्षत्रिय नेता
2 चीफ सेक्रेटरी से मारपीट मामले में अरविंद केजरीवाल के साथ आए बीजेपी सांसद, बताया नीरव मोदी से ध्यान भटकाने का हथकंडा
3 अबू सलेम के लिए चिंतित हुआ पुर्तगाल, जेल में कैसे रह रहा डॉन, देखने आएंगे अधिकारी
ये पढ़ा क्या?
X