ताज़ा खबर
 

स्‍मृति को DEAR कहने पर कायम हैं बिहार के मंत्री, ईरानी ने फेसबुक पर भावुक पोस्‍ट लिखकर किया पलटवार

ट्विटर पर बिहार के शिक्षा मंत्री के साथ गर्मागर्म बहस करने के बाद मानव संसाधन विकास मंत्री ने फेसबुक पर भावनात्‍मक पोस्‍ट लिखी है।

Author नई दिल्‍ली | June 16, 2016 2:26 PM
अशोक चौधरी बिहार कांग्रेस के अध्यक्ष और बिहार के शिक्षा मंत्री भी हैं।

बिहार के शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी केन्‍द्रीय मंत्री स्‍मृति ईरानी को DEAR कह कर संबोधित करने पर विवाद के बावजूद मंत्री अपने स्‍टैंड पर कायम हैं। दोनों के बीच चले ट्वीट वार ने खूब सुर्खियां बटोरी थीं। बुधवार को चौधरी ने कहा कि उन्‍हें DEAR संबोधन में कुछ भी गलत नहीं लगता। जिसके बाद स्‍मृति ईरानी ने अपने फेसबुक पेज पर बुधवार देर रात एक लम्‍बी भावनात्‍मक पोस्‍ट लिखी। इस पोस्‍ट में उन्‍होंने अपने निजी जिंदगी और राजनैतिक संघर्ष के बारे में बात की। स्‍मृति की यह पोस्‍ट वायरल हो गई है। स्‍मृति की इस पोस्‍ट पर लगातार लाइक और शेयर बढ़ रहे हैं।

अपनी फेसबुक पोस्‍ट में स्‍मृति ईरानी ने लिखा है कि वे एक मध्‍यमवर्गीय परिवार में पैदा हुईं थीं। जहां अगर कोई लड़का कुछ कह भी दे तो चुपचाप सिर झुका कर आगे बढ़ जाने की हिदायत दी जाती है। उन्‍होंने लिखा, “जवाब क्‍यों ना दिया जाए? हम क्‍यों अपना मुंह सिल लें? ऐसे सवाल का सीधा सा जवाब है- नुकसान तुम्‍हारा होगा, लड़के का कुछ नहीं बिगड़ेगा।”

READ ALSO: बिहार के शिक्षा मंत्री ने DEAR लिखा तो भड़कीं स्मृति ईरानी, टि्वटर पर लिखा- आप महिलाओं को डियर कब से कहने लगे?

स्‍मृति ने अपनी पोस्‍ट में टीवी के दिनों की चर्चा करते हुए लिखा है कि वहां ना चाहते हुए भी आपको बहुत कुछ करना पड़ता है। सिर्फ प्रतिभा और कड़ी मेहनत के दम पर सफलता नहीं मिलती। राजनीति में आपको जमीन से उठकर काम करना पड़ता है। ईरानी ने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत के बारे में बताते हुए लिखा कि जैसे ही आपको एचआरडी मिनिस्‍टर बनाया जाता है, कुछ ‘बुद्धिजीवी’ आपको ‘अनपढ़’ कहने लगते हैं।

READ ALSO: पटना में कांग्रेस के हीरो बने स्मृति ईरानी को DEAR कहने वाले शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी

स्‍मृृति ने अपना उदाहरण देते हुए देश की कामकाजी महिलाओं से सहानु‍भूति जताई है। अपनी पोस्‍ट के आखिर में उन्‍होंने बतौर एचआरडी मिनिस्‍टर अपनी उपलब्धियों का ब्‍यौरा दिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App