ताज़ा खबर
 

बीजेपी विधायक के सामने लगे नारे- ‘पुलिस के हत्यारों को, गोली मारो सालों को’, अभय वर्मा ने भी गरमाया पूर्वी दिल्ली का माहौल

अभय वर्मा ने कहा, “लोगों ने जबरन दुकानें बंद करवा दी थीं। मैं उन्हें दोबारा खुलवाने गया था। इसी कड़ी में मार्च के दौरान कुछ लोगों ने ऐसे नारे लगाए लेकिन मैंने उनसे ऐसी नारेबाजी नहीं करने को कहा। जब बड़ी भीड़ होती है तो ऐसी स्थितियों में सावधान रहना होगा।”

Author Edited By प्रमोद प्रवीण नई दिल्ली | Updated: February 26, 2020 9:27 AM
बीजेपी विधायक दिल्ली में फैली हिंसा के बीच लक्ष्मीनगर में लोगों के साथ मार्च कर रहे थे।

पूर्वी दिल्ली के लक्ष्मीनगर इलाके में भी मंगलवार (25 फरवरी) की शाम हालात तनावपूर्ण हो गए। वहां के नवनिर्वाचित बीजेपी विधायक अभय वर्मा पर इलाके का माहौल खराब करने के आरोप लगे हैं। आरोप है कि बीजेपी विधायक दिल्ली में फैली हिंसा के बीच लक्ष्मीनगर में लोगों के साथ मार्च कर रहे थे। उनके सामने ही भीड़ उकसाने वाली नारेबाजी कर रही थी। वर्मा के सामने भीड़ ने नारा लगाया, ‘पुलिस के हत्यारों को, गोली मारो सालों को।’

जब इंडियन एक्सप्रेस ने इस बारे में अभय वर्मा से पूछा तो उन्होंने कहा, “लोगों ने जबरन दुकानें बंद करवा दी थीं। मैं उन्हें दोबारा खुलवाने गया था। इसी कड़ी में मार्च के दौरान कुछ लोगों ने ऐसे नारे लगाए लेकिन मैंने उनसे ऐसी नारेबाजी नहीं करने को कहा। जब बड़ी भीड़ होती है तो ऐसी स्थितियों में सावधान रहना होगा।” लक्ष्मीनगर के कई इलाकों में इसके बाद लोगों ने दुकानें बंद कर दी।

बीजेपी विधायक के सामने लगे नारे- ‘पुलिस के हत्यारों को, गोली मारो सालों को’, अभय वर्मा ने भी गरमाया पूर्वी दिल्ली का माहौल

बता दें कि उत्तरपूर्वी दिल्ली में मंगलवार को नए सिरे से हिंसा भड़क गई जिसमें मृतकों की संख्या बढ़कर 13 हो गई है। पुलिस भीड़ पर काबू पाने की जद्दोजेहद में लगी रही जो गलियों में घूम रही थी। भीड़ में शामिल लोग दुकानों को आग लगा रहे थे, पथराव कर रहे थे और वे स्थानीय लोगों के साथ मारपीट कर रहे थे। मंगलवार को हिंसा चांदबाग और भजनपुरा सहित कई क्षेत्रों में फैल गई। इस दौरान पथराव किया गया, दुकानों को आग लगायी गयी।

‘कपिल मिश्रा आग लगा के घर में घुस गया, हम जैसों के बेटे मर रहे हैं’- फूटा रोहित सोलंकी के पिता का दर्द और गुस्सा

दंगाइयों ने गोकलपुरी में दो दमकल वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया। भीड़ भड़काऊ नारे लगा रही थी और मौजपुर और अन्य स्थानों पर अपने रास्ते में आने वाले फल की गाड़ियों, रिक्शा और अन्य चीजों को आग लगा दी। पुलिस ने दंगाइयों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। इन दंगाइयों ने अपने हाथों में हथियार, पत्थर, रॉड और तलवारें भी ली हुई थीं। कई ने हेलमेट पहन रखे थे। पुलिस को अर्धसैनिक कर्मी सहयोग कर रहे थे।

सड़कों पर क्षतिग्रस्त वाहन, ईंट और जले हुए टायर पड़े थे जो सोमवार को हुई हिंसा की गवाही दे रहे थे जिसमें 48 पुलिसकर्मियों सहित लगभग 200 लोग घायल हो गए थे। जीटीबी अस्पताल के अनुसार मंगलवार को मृतक संख्या 13 हो गई।
हिंसा जारी रहने के बीच पुलिस अधिकारियों ने कहा कि स्थिति नियंत्रण में है और भजनपुरा, खजूरी खास और अन्य स्थानों पर फ्लैग मार्च किए गए।
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने स्थिति को लेकर दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, दिल्ली पुलिस प्रमुख अमूल्य पटनायक और अन्य के साथ बैठक की।


बैठक में यह तय हुआ कि राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं को शांति बहाली के लिए हाथ मिलाना चाहिए और सभी क्षेत्रों में शांति कमेटियों को फिर से सक्रिय किया जाना चाहिए। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में ऐसा दृश्य दशकों से नहीं देखा गया, उन्मादी समूहों ने सड़कों पर लोगों की पिटायी की और वाहनों में तोड़फोड़ की। मीडिया पर भी हमला किया गया। जेके 24/7 न्यूज के पत्रकार अक्षय को गोली लगी और वह गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती हैं। साथ ही एनडीटीवी के दो पत्रकारों को दंगाइयों ने पीटा और घूसे मारे। कई अन्य पत्रकारों से वापस जाने के लिए कहा गया।

मौजपुर के एक निवासी ने अपना नाम गुप्त रखने की शर्त पर कहा, ‘‘इलाके में शायद ही कोई पुलिस की मौजूदगी है। दंगाई इधर उधर घूम रहे हैं और लोगों को धमका रहे हैं, दुकानों में तोड़फोड़ कर रहे हैं। परिवारों को वहां से निकालने की जरूरत है। हम अपने घरों में असुरक्षित हैं।’’ एक अन्य ने कहा कि 35 साल में ऐसा पहली बार हुआ है, संभवत: 1984 के सिख विरोधी दंगों के बाद से उसने इस तरह की स्थिति देखी है।

(भाषा इनपुट के साथ)

Next Stories
1 ‘कपिल मिश्रा आग लगा के घर में घुस गया, हम जैसों के बेटे मर रहे हैं’- फूटा रोहित सोलंकी के पिता का दर्द और गुस्सा
2 Delhi Violence, CAA-NRC Protest: माकपा ने केजरीवाल को पत्र लिखा, शांति कायम करने में मदद की पेशकश की
3 दिल्ली में उधर पनपा था तनाव और हिंसा, इधर मार्च निकाल बोले- हम सब एक हैं, माहौल नहीं बिगाड़ेंगे; VIDEO VIRAL
ये पढ़ा क्या?
X