ताज़ा खबर
 

सिक्किम विवाद: चीन का नया पैंतरा, अब किया कश्मीर-लद्दाख का जिक्र, कहा-बातचीत की गुंजाइश नहीं

चीन ने चेतावनी भरे अंदाज में कहा है कि यदि भारत सीमा से अपने सैनिकों को वापस नहीं बुलाता है तो इंडिया को शर्मिंदगी झेलनी पड़ सकती है।

अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर भारतीय और चीनी सैनिक बात करते हुए। (फाइल फोटो)

सिक्किम विवाद पर चीन ने भारत को एक बार फिर से धमकी दी है और कहा है कि इस मसले पर अब बातचीत की कोई गुंजाइश नहीं है। चीन के मुताबिक समस्या का अब एकमात्र समाधान सिक्किम से भारतीय सैनिकों की वापसी है। चीन ने चेतावनी भरे अंदाज में कहा है कि यदि भारत सीमा से अपने सैनिकों को वापस नहीं बुलाता है तो इंडिया को शर्मिंदगी झेलनी पड़ सकती है। चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने शनिवार 15 जुलाई की रात को एक बयान में कहा। अंग्रेजी वेबसाइट हिन्दुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक चीन ने ये स्पष्ट कर दिया है कि अब बातचीत के लिए कोई गुंजाइश नहीं है, और भारत को डोकलाम इलाके से अपने सैनिकों को वापस बुलाना चाहिए। लेकिन चीन ने इस बार इस विवाद में बड़े शातिराना तरीके से लद्दाख और कश्मीर का भी जिक्र किया है। साथ ही पाकिस्तान ने इन दोनों नामों को पाकिस्तान और चीन से भी जोड़ दिया।

शिन्हुआ द्वारा जारी किये गये बयान में कहा गया है कि, ‘भारत को मौजूदा विवाद को 2013-14 के लद्दाख विवाद जैसा नहीं सोचना चाहिए या फिर उससे तुलना नहीं करनी चाहिए, जो कि चीन, पाकिस्तान, और भारत के बीच दक्षिणपूर्ण कश्मीर में एक विवादित इलाका है। वहां पर कूटनीतिक प्रयासों की वजह से दोनों देशों के बीच सेना के टकराव का एक आसान हल निकल गया, लेकिन इस बार ये पूरी तरह से अलग मामला है।’ बता दें कि चीन द्वारा लद्दाख को ‘विवादित’ क्षेत्र कहना और कश्मीर का संदर्भ देना एक अलग संकेत करता हैं। बता दें कि ये पहली बार है जब चीन ने अपने सरकारी समाचार एजेंसी के जरिये ये स्पष्ट किया है कि सिक्किम मुद्दे पर अब दोनों देशों के बीच बातचीत की कोई गुंजाइश नहीं रह गयी है।

शिन्हुआ द्वारा जारी किये गये इन बयानों को चीन की सरकार और सत्ता पर नियंत्रण करनेवाली कम्यूनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना का भी विचार माना जाता है। शिन्हुआ ने आगे अपने बयान में लिखा है, ‘डोकलाम से सेना हटाने की चीन की मांग को भारत जानबूझकर नजरअंदाज करता आ रहा है, हालांकि चीन की बातों को अनसुना कर भारत लगभग एक महीने पुराने इस विवाद को और भी गंभीर बना देगा और इस वजह से भारत को शर्मिंदगी उठानी पड़ सकती है।’ बता दें कि डोकलाम में चीन सड़क बनाना चाहता है, लेकिन ये इलाका भूटान का है और चीन इस पर कब्जा किये हुए। भूटान के कहने पर भारत ने इस इलाके में सड़क बनाने की चीनी कोशिशों का विरोध किया है और वहां पर अपनी सेना तैनात कर दी है।

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App