ताज़ा खबर
 

यूपी: मस्जिद के लिए सिख ने दान की जमीन, अयोध्या में राम मंदिर के लिए 51 हजार ईंटें देना चाहता है भट्ठा मालिक

यूपी में रसूलाबाद के एक भट्टा मालिक ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए 51,000 विशेष ईंटें उपहार स्वरूप देने की घोषणा की है। वहीं धार्मिक सद्भाव की मिसाल पेश करते हुए एक सिख व्यक्ति ने गुरु नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व के पवित्र महीने में एक मस्जिद के लिए अपनी जमीन दान में दे दी।

Author नई दिल्ली | Published on: November 26, 2019 11:34 AM
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

हाल के दिनों में यूपी के मुजफ्फरनगर जिले में धार्मिक सद्भाव की मिसाल पेश करते हुए एक सिख व्यक्ति ने गुरु नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व के पवित्र महीने में एक मस्जिद के लिए अपनी जमीन दान में दे दी। सामाजिक कार्यकर्ता सुखपाल सिंह बेदी ने जिले के पुरकाजी में एक कार्यक्रम के दौरान यह ऐलान किया। इस दौरान उन्होंने नगर पंचायत अध्यक्ष जहीर फरूकी को 900 वर्ग फुट जमीन के दस्तावेज उन्हें सौंप दिए।

इसी तरह यूपी में ही रसूलाबाद के एक भट्टा मालिक ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए 51,000 विशेष ईंटें उपहार स्वरूप देने की घोषणा की है। भट्टा मालिक बाबू राम बादव ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया, ‘हम 51,000 विशेष ईंटों का निर्माण कर रहे हैं। सभी ईंटों अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए दान में दे जाएंगी। ये ईंटें दिसंबर के आखिर तक और जनवरी महीने के शुरुआती दिनों में तैयार कर ली जाएंगी।’

मलिक कहते हैं कि उन्होंने राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद टाइटल सूट विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला सुनाए जाने के तुरंत बाद ईंटें दान करने का फैसला किया था। मलिक ने बताया, ‘भट्टे में करीब 106 मजदूर हैं जो ईंट बनाने के लिए समर्पित रूप से काम कर रहे हैं। मंदिर के लिए ईंटों के निर्माण के दौरान मजदूर भट्टे के अंदर जूते पहकर भी नहीं जाते ताकि ईंटों की पवित्रता बनी रहे। डोमड मिट्टी का इस्तेमाल कर इन ईंटों का निर्माण किया जा रहा है।’ बताया जाता है कि तैयार होने के बाद एक ईंट का वजन करीब तीन किलोग्राम के करीब होगा।

वहीं मस्जिद को जमीन दान देते हुए सामाजिक कार्यकर्ता सुखपाल सिंह ने सभी लोगों से समान और आदर के साथ व्यवहार करने की गुरु नानक देव की शिक्षाओं का हवाला देते हुए कहा कि वह शांति और साम्प्रदायिक सौहार्द्र का संदेश देना चाहते हैं। दोनों समुदायों के लोगों ने भाईचारे को बढ़ावा देने के लिए इस पहल का स्वागत किया। (भाषा इनपुट सहित)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Maharashtra: सीएम देवेंद्र फडणवीस की मीटिंग में नहीं पहुंचे डिप्टी सीएम, अजित पवार के साथ छोड़ने पर अटकलें तेज
2 अयोध्या पुनर्विचार याचिका पर बंटा मुस्लिम समुदाय, सैंकड़ों मुस्लिम हस्तियों का विरोध!
3 AYODHYA VERDICT REVIEW के खिलाफ नसीरूद्दीन शाह समेत 100 मुस्लिम हस्तियों ने उठाए सवाल!
जस्‍ट नाउ
X