ताज़ा खबर
 

अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय से सिख समुदाय नाराज, सिख वकील ने रजिस्ट्रार को लिखी चिट्ठी- CJI से दुरुस्त करवाएंगे फैसला!

वकील नीना सिंह ने सुप्रीम कोर्ट रजिस्ट्रार को इस संबंध में एक पत्र लिखा है। पत्र में कहा गया है कि वह और सिख वकीलों का एक दल जल्द ही चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया से मिलकर फैसले के उस पैरे में सुधार की मांग करेगा जिसमें सिख धर्म को 'कल्ट' बताया गया है।

Author नई दिल्ली | Published on: November 14, 2019 12:50 PM
सिख संप्रदाय के लोग फैसले में निहंग सिख के जिक्र और उनके हवन पूजा करने की बात से भी नाराज है। (फाइल फोटो)

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद सिख समुदाय में नाराजगी है। सिख समुदाय शीर्ष अदालत की तरफ से फैसले में उनके धर्म को ‘कल्ट’ के रूप में जिक्र किए जाने से नाराज है। समुदाय का मानना है कि अदालत ने इस मामले में ऐसी किसी आदमी की गवाही पर भरोसा किया है जिसने साल 1510-1511 में गुरु नानक देव जी के अयोध्या जाने के उद्देश्य को गलत तरीके से परिभाषित किया गया है।

द वायर की खबर के अनुसार केंद्री गुरु सिंह सभा ने चंडीगढ़ में शीर्ष न्यायालय के फैसले की सार्वजनिक रूप से आलोचना की। सभा ने इस फैसले को सिख समुदाय का ‘अपमान’ बताया।  अदालत ने धर्म और संस्कृति का अध्ययन करने वाले और सिख कल्ट की ऐतिहासिक किताबें में रुचि रखने वाले राजिंदर सिंह की गवाही पर भरोसा किया। सिंह को हिंदू पक्ष की तरफ से अपने दावे के समर्थन में अदालत में गवाह के रूप में पेश किया गया था।

खबर में बताया गया है कि शीर्ष अदालत ने आगे राजिंदर सिंह के सबूतों को नोट भी किया। दिल्ली की एक वकील नीना सिंह ने सुप्रीम कोर्ट के रजिस्ट्रार को इस संबंध में एक पत्र भी लिखा है। पत्र में कहा गया है कि वह और सिख वकीलों का एक दल जल्द ही चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया से मिलकर फैसले के उस पैरे में सुधार की मांग करेगा जिसमें सिख धर्म को ‘कल्ट’ बताया गया है।

खबर के अनुसार नीना सिंह ने कहा कि कि यह अपमानजनक है और सिख धर्म के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि जज को ऐसे गवाह को फटकार लगानी चाहिए जो हमारे जैसे शांतिपूर्ण और स्वतंत्र धर्म के खिलाफ इस तरह की भाषा का प्रयोग किया। सिख समुदाय इससे हैरान है और सुप्रीम कोर्ट के फैसले और गवाह की गवाही से आहत है। सिख धर्म के बुद्धिजीवी भी गुरुनानक देव जी के बारे में कथित रूप से गलत जनम साखी या उनके जीवन के बारे में लिखे जाने से गुस्सा है।

अदालत में कहा गया था कि गुरु नानक देव जी अयोध्या में कथित राम जन्मभूमि पर ‘दर्शन’ के लिए गए थे। सिंह ने कहा कि गुरु नानक जी मक्का और अयोध्या में भगवान के एक ही स्वरूप का प्रचार-प्रसार करने गए थे ना कि दर्शन करने। सिख संप्रदाय के लोग फैसले में निहंग सिख के जिक्र और उनके हवन पूजा करने की बात से भी नाराज है। इन लोगों का कहना है कि सिख धर्म में हवन पूजा का रिवाज ही नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X
Next Stories
1 जब पंडित नेहरू से पूछा गया था सरदार पटेल से जुड़ा सवाल तो स्टूडियो में ही बैठ गए थे तत्कालीन पीएम!
2 यूपी में एक और घोटाला उजागर- होमगार्ड्स जवानों ने ड्यूटी की 10 दिन पर वेतन निकले पूरे 20 दिन!
3 Maharashtra Gov Formation: महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगते ही GAD ने दिया फरमान, दस्तावेज-स्टेशनरी और फर्नीचर लौटाएं सभी मंत्रालय
ये पढ़ा क्या?
X