ताज़ा खबर
 

श्रीकृष्ण जन्मस्थान: ‘विराजमान भगवान’ की ओर से दाखिल याचिका पर सुनवाई कल, मंदिर-ईदगाह परिसर की सुरक्षा कड़ी

याचिका में कहा गया है कि वर्ष 1968 में श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान ने मंदिर के परिसर में स्थित शाही ईदगाह मस्जिद की प्रबंध समिति के साथ जो समझौता किया था, वह कानूनी रूप से गैरवाजिब है क्योंकि, सेवा संस्थान जब उक्त 13.37 एकड़ भूमि का मालिक ही नहीं था तो उसे किसी व्यक्ति अथवा संस्था के साथ इस प्रकार कोई भी करार करने का अधिकार नहीं था।

श्रीकृष्ण जन्मभूमि मथुरा के पास बनी मस्जिद को अवैध बताते हुए उसे हटाने के लिए अदालत में मामला दायर किया गया है।

उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद की अदालत में शुक्रवार को दाखिल किए गए श्रीकृष्ण जन्मस्थान से संबंधित मामले की सुनवाई अब बुधवार (30 सितंबर) को की जाएगी। इस बीच शुक्रवार को मामला दाखिल किए जाने के बाद शनिवार से मंदिर ईदगाह परिसर की सुरक्षा और कड़ी कर दी गई है। अदालत में भी भारी पुलिस तैनात रही।

गौरतलब है कि लखनऊ निवासी अधिवक्ता रंजना अग्निहोत्री एवं पांच अन्य ने स्वयं को भगवान श्रीकृष्ण का परमभक्त बताते हुए उनकी ओर से सिविल जज (सीनियर डिवीजन) छाया शर्मा की अदालत में वाद दायर किया है। इसमें कहा गया है कि वर्ष 1968 में श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान ने मंदिर के परिसर में स्थित शाही ईदगाह मस्जिद की प्रबंध समिति के साथ जो समझौता किया था, वह कानूनी रूप से गैरवाजिब है क्योंकि, सेवा संस्थान जब उक्त 13.37 एकड़ भूमि का मालिक ही नहीं था तो उसे किसी व्यक्ति अथवा संस्था के साथ इस प्रकार कोई भी करार करने का अधिकार नहीं था। यह समझौता अदालत द्वारा 20 जुलाई 1973 को डिक्री किया गया था।

वादियों द्वारा याचिका में इस करार को निरस्त करते हुए शाही ईदगाह वाली भूमि को मुक्त कराने और इसे विराजमान ठा. श्रीकृष्ण को सौंपने का आदेश देने का अनुरोध किया गया है। इस मामले में शाही ईदगाह ट्रस्ट मैनेजमेंट कमेटी, उत्तर प्रदेश सुन्नी सेन्ट्रल बोर्ड, श्रीकृष्ण जन्मस्थान ट्रस्ट व श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान को पक्षकार बनाया गया है।

याचिकाकर्ताओं के अधिवक्ताओं हरीशंकर जैन और विष्णु शंकर जैन की ओर से बताया गया कि इस मामले में आज सुनवाई होनी थी। परंतु, वादियों के अदालत में समय पर उपस्थित नहीं हो पाने के कारण अब 30 सितंबर (बुधवार) को इस पर सुनवाई होगी।

इस बीच, श्रीकृष्ण जन्मस्थान का मामला दायर होने के साथ ही जिला प्रशासन ने अदालत परिसर सहित श्रीकृष्ण जन्मस्थान परिसर की भी सुरक्षा व्यवस्था और भी कड़ी कर दी है। मथुरा के पुलिस अधीक्षक (सुरक्षा) आरके मिश्रा ने मीडिया को बताया, ‘हमने श्रीकृष्ण जन्मस्थान एवं शाही ईदगाह परिसर की सुरक्षा व्यवस्था को और अधिक चाक-चौबंद कर दिया है। विशेष तौर पर मंदिर के प्रवेश द्वार पर कमांडोज के साथ डाग स्क्वायड भी तैनात किए हैं।’

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. गौरव ग्रोवर ने बताया, ‘श्रीकृष्ण जन्मस्थान परिसर की सुरक्षा में पूरी सतर्कता बरती जा रही है और वहां आने वाले सभी दर्शनार्थियों पर कड़ी नजर रखी जा रही है।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कृष्ण जन्मभूमि में पक्षकार बनने का मामला: निर्णय 15 अक्तूबर को करेगी अखाड़ा परिषद
2 न्यूनतम समर्थन मूल्य व मंडी प्रणाली, किसान हितों के सवाल और पूंजी पर जारी मंथन
3 कायरेन डिसूजा : 13 हजार फुट ऊंचे पहाड़ दर्रे पर रचा इतिहास
IPL 2020
X