ताज़ा खबर
 

Shramik Special Trains: 18 दिनों में 80 प्रवासियों की ट्रेन में हुई मौत, RPF की डेटा से खुलासा

Shramik Special Trains: ये पहली बार है जब आरपीएफ के एक अधिकारी ने इन संख्याओं की पुष्टि की और कहा कि शुरुआती लिस्ट बनाई गई है। हालांकि राज्यों के साथ समन्वय के बाद जल्द ही एक फाइनल लिस्ट जारी की जाएगी।

shramik Special trainsप्रवासी मजदूरों को उनके गृह नगर पहुंचाने के लिए रेलवे ने एक मई को ‘श्रमिक स्पेशल’ लॉन्च की और 27 मई तक 3,840 ट्रेनों का संचालन किया। (PTI)

Shramik Special Trains: देश में लॉकडाउन के बीच श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के जरिए अपने घर लौट रहे प्रवासियों मजदूरों की मौत का सिलसिला जारी है। हिंदुस्तान टाइम्स ने रेलवे सुरक्षा बल (RPF) के आंकड़ों की समीक्षा कर बताया कि 9 मई से 27 मई के बीच श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में लगभग 80 मौतें हुई हैं। बता दें कि प्रवासी मजदूरों को उनके गृह नगर पहुंचाने के लिए रेलवे ने एक मई को ‘श्रमिक स्पेशल’ लॉन्च की और 27 मई तक 3,840 ट्रेनों का संचालन किया।

इस बीच लगभग पचास लाख प्रवासियों को उनके गृह नगर पहुंचाया गया। बुधवार को इन ट्रेनों में पिछले कुछ दिनों के भीतर 9 लोगों की मौत की सूचना थी। मगर रेल मंत्रालय ने तुरंत स्पष्ट कर दिया कि मृतकों में अधिकांश किसी पुरानी बीमरी के मरीज थे। इनमें से कई लोग इलाज के लिए शहरों में थे और स्पेशल ट्रेन शुरू होने के बाद ही वापस लौट सकते थे। दरअस मंत्रालय ने उन खबरों के बाद ये बयान जारी किया जिनमें दावा किया गया कि यात्रियों की मौत थकावट, गर्मी और भूख की वजह से हुई थी।

Coronavirus India LIVE updates

ये पहली बार है जब आरपीएफ के एक अधिकारी ने इन संख्याओं की पुष्टि की और कहा कि शुरुआती लिस्ट बनाई गई है। हालांकि राज्यों के साथ समन्वय के बाद जल्द ही एक फाइनल लिस्ट जारी की जाएगी। रेल मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने 80 मौतों के बारे में पूछे जाने पर कहा कि रेलवे बोर्ड के चेयरमैन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस सवाल का जवाब दिया है।

दरअसल शुक्रवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने कहा कि किसी की भी मौत होना एक बड़ा नुकसान है। भारतीय रेलवे के पास एक कंट्रोल सिस्टम है। इससे अगर किसी व्यक्ति के बीमार होने का पता चलता है तो उसे ट्रेन में चढ़ने से तुरंत रोक दिया जाता है। ऐसे लोगों के इलाज के लिए उन्हें निकटतम अस्पताल में भेज दिया जाता है। हालांकि कुछ लोगों ने फिर भी यात्रा की और कुछ की डिलीवरी भी हुई।

Lockdown 5.0 LIVE Updates

वीके यादव ने कहा कि मैं इन परिस्थितियों में भी यात्रा करने वाले मजदूरों की दुर्दशा की कल्पना कर सकता हूं। मौतों के मामले में, लोकल जोन कारण की जांच करते हैं। जांच के बिना ऐसे आरोप लगे हैं कि भोजन की कमी होने पर वो भूख से मर गए जबकि भोजन की कोई कमी नहीं थी। हाालंकि कुछ मौतें हुईं और हम आंकड़े इकट्ठा कर रहे हैं। हम कुछ दिनों में आंकड़े जारी करेंगे।

हालांकि प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान रेलवे चेयरमैन में मृतकों की संख्या नहीं बताई। ऐसे में सुनिश्चित करने के लिए RPF डेटा को मंत्रालय द्वारा निरक्षण और मान्य किए जाने का इंतजार करने चाहिए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories