ताज़ा खबर
 

शो के पैनल पर शिवसेना नेता ने उठाए सवाल, एंकर का जवाब- आपकी पार्टी भी आपको यहां बैठाने लायक नहीं मानती, बैठाना बंद कर दूं?

शो के एंकर ने शिवसेना नेता पर निशाना साधते हुए कहा कि आईना देखने में अगर शक्ल गंदी दिखे, तो आईने को गंदा नहीं कहना चाहिए, बल्कि मुंह धो लेना चाहिए।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: September 12, 2020 11:27 AM
Kangana Ranaut, Drug Case, TV Debateटीवी डिबेट के दौरान शिवसेना नेता ने पैनल पर सवाल उठाए, इस पर एंकर रोहित सरदाना ने उन्हें जवाब दिया। (फोटो- स्क्रीनग्रैब)

सुशांत सिंह राजपूत मामले की जांच के दौरान बॉलीवुड पर ड्रग्स कल्चर को बढ़ावा देने का आरोप लगाने वाली कंगना रनौत के खिलाफ महाराष्ट्र सरकार ने जांच बिठा दी है। उद्धव सरकार ने मुंबई पुलिस को आदेश दिया है कि वह कंगना के ड्रग्स लेने के आरोपों की जांच करे। इस पर राजनीतिक गलियारों में भी बहस छिड़ गई है। महाराष्ट्र में विपक्षी पार्टियों ने शिवसेना पर कंगना के खिलाफ बदले की भावना से कार्रवाई करने का आरोप लगाया है। इस बीच एक टीवी डिबेट में अजीब स्थिति तब पैदा हो गई, जब शिवसेना के प्रवक्ता ने इस मामले में बहस के लिए बुलाए गए पैनल पर ही सवाल उठा दिए। हालांकि, शो के एंकर ने उन्हें डपटते हुए सीधी तरह से पक्ष रखने के लिए कह दिया।

दरअसल, शिवसेना के नेता विक्रम सिंह यादव आजतक के शो दंगल में हिस्सा लेने पहुंचे थे। यहां उनके साथ पैनल में मुस्लिम स्कॉलर अतीक उर रहमान, भाजपा की ओर से गौरव भाटिया, जदयू की तरफ से अजय आलोक, लोक गायिका मालिनी अवस्थी और राजनीतिक विश्लेषक रवि श्रीवास्तव शामिल थे। विक्रम ने इस पैनल पर ही सवाल उठा दिए। इस पर एंकर रोहित सरदाना ने उन्हें जवाब दिया। सरदाना ने कहा कि आपकी पार्टी आपको भी इस लायक नहीं मानती कि हम आपको बिठाएं, फिर भी हम आपको सम्मानस्वरूप बुला लेते हैं। क्या मैं आपको बिठाना बंद कर दूं। फिर आप कहेंगे कि हमारी पार्टी का पक्ष नहीं आया।

एंकर यहीं नहीं रुके। उन्होंने कहा कि आईना देखने में अगर शकल गंदी दिखे, तो आईने को गंदा नहीं कहना चाहिए, बल्कि मुंह धो लेना चाहिए। इस पर शिवसेना नेता ने कहा कि आप लोगों को राजनीति के लिए बुलाते हैं, इससे आपकी राजनीति चल रही है, यह माना जाए। मीडिया भी उनके साथ मिला हुआ है।

इस पर एंकर ने पलटवार करते हुए कहा कि जब कंगना के एक ट्वीट पर उनका घर तोड़ दिया जाता है, तो यह पूरी बहस ही राजनीतिक हो चुकी है। जब पूर्व मुख्यमंत्री कह रहा है कि सरकार दाऊद इब्राहिम का मकान नहीं तोड़ती, लेकिन कंगना का मकान तोड़ आती है, तो बहस तो राजनीतिक हो ही चुकी है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 रक्षा मामलों की संसदीय समिति में राहुल गांधी का CDS से हुआ सामना, सैनिकों के खाने, कपड़ों को लेकर दागे सीधे सवाल
2 IRCTC Indian Railways: आज से चलने जा रही हैं 80 स्पेशल ट्रेनें, यहां देखें गाड़ियों की पूरी लिस्ट
3 कांग्रेस में फेरबदल: राहुल को नरेंद्र मोदी पर निजी हमले न करने की सलाह देने वाले नेता से छिना उत्तराखंड का प्रभार, गांधी के क़रीबियों को अहम जिम्मेदारी
ये पढ़ा क्या?
X