ताज़ा खबर
 

भारत माता की जय पर संघ और शिवसेना आमने-सामने

‘भारत माता की जय’ नारे को लेकर छिड़ी बहस के बीच संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने सोमवार यहां कहा कि यह नारा किसी पर थोपने की आवश्यकता नहीं है

Author लखनऊ / मुंबई | March 29, 2016 2:09 AM
Shiv sena vs BJP, Mumbai corporation polls, Shiv sena in Saamana, Shiv sena latest news, Shiv sena BJP War, Shiv sena BJP Newsशिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे। (फाइल फोटो)

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने सोमवार को दो टूक कहा कि उसका विश्वास ऐसे भारत का निर्माण करना है, जिसमें लोगों को भारत माता की जय बोलने के लिए मजबूर ना किया जाए, बल्कि लोग खुद भारत माता की जयकार करें। दूसरी ओर महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी की सहयोगी शिवसेना ने भाजपा को घेरते हुए पूछा है कि वह जिस महबूबा मुफ्ती के साथ सरकार बनाने जा रही है, क्या वह शपथग्रहण से पहले भारत माता की जय बोलेंगी?

‘भारत माता की जय’ नारे को लेकर छिड़ी बहस के बीच संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने सोमवार यहां कहा कि यह नारा किसी पर थोपने की आवश्यकता नहीं है बल्कि हमें ऐसा भारत बनाना है कि लोग खुद ‘भारत माता की जय’ कहें। भागवत ने सोमवार यहां भारतीय किसान संघ के नवनिर्मित कार्यालय भवन का उद्घाटन करते हुए कहा,‘हमें ऐसा श्रेष्ठ भारत खड़ा करना है कि लोग ‘भारत माता की जय’ खुद कहें… थोंपना नहीं है।’

उन्होंने कहा,‘संपूर्ण दुनिया को रास्ता दिखाना है। ऐसा भारतवर्ष बनाना है कि सारी दुनिया भारत माता की जय हो कहे। थोपना नहीं है।’ सरसंघचालक ने कहा कि समाज को उस लायक बनाने के लिए, श्रेष्ठ भारत खड़ा करने के लिए अधिक से अधिक लोगों को देश भर में खड़ा करना संघ का लक्ष्य हैं। उन्होंने कहा कि किसान हो या किसी अन्य माध्यम से अपना जीवन यापन करने वाले लोग, सभी किसी न किसी रूप में समाज के लिए कुछ न कुछ करते हैं,‘कम से कम में अधिक से अधिक कमाना, कौशल हो सकता है। आदर्श नहीं। हमारी कोशिश होनी चाहिए कि हम जितना खाएंगे उससे ज्यादा काम करेंगे। समाज को उससे ज्यादा देंगे।’

दूसरी ओर शिवसेना ने सिर्फ भारत माता की जय के नारे ही नहीं बल्कि अफजल गुरू को लेकर भी भाजपा पर सवालों की बौछार की है। जम्मू कश्मीर में भाजपा के सहयोग से सरकार गठन को लेकर पीडीपी के दावे के मद्देनजर शिवसेना ने सोमवार यह सवाल उठाया कि क्या अब मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार महबूबा मुफ्ती आतंकी हमलों में अपनी जान गंवाने वाले कश्मीरी पंडितों के सम्मान में ‘भारत माता की जय’ बोलेंगी?

सरकार गठन को लेकर दो महीने के गतिरोध के समाप्त करते हुए शनिवार को पीडीपी प्रमुख ने भाजपा के साथ मिलकर सरकार के गठन का दावा किया था और इसके साथ ही वह जम्मू कश्मीर की पहली महिला मुख्यमंत्री बनने जा रही हैं। पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’’ के संपादकीय में कहा गया,‘भाजपा और महबूबा कभी भी एक दूसरे के साथ सहज नहीं रहे हैं। महबूबा की राष्ट्र-विरोधी बातचीत और चरमपंथियों के प्रति उनके अपनापन ने अतीत में विवादों को जन्म दिया है और उन्होंने खुले तौर पर राष्ट्र-विरोधी नारे लगाने वालों के प्रति नरम रवैया अपनाया है।’

शिवसेना ने कहा,‘भाजपा मुख्यमंत्री पद के लिए उनका समर्थन कर संतुष्ट हो सकती है लेकिन देश इसे लेकर चिंतित है। भाजपा का यह मानना है कि ‘भारत माता की जय’ बोलना देशभक्ति और राष्ट्रीयता को व्यक्त करने का एक तरीका है। लेकिन क्या महबूबा यह नारा लगाएंगी?’

शिवसेना ने कहा कि लाखों कश्मीरी पंडितों ने आतंकी हमलों की वजह से अपनी जान गवां दी हैं। अब कश्मीरी पंडितों के जीवन को वापस पटरी पर लाने की जिम्मेदारी भाजपा और पीडीपी की है। शिवसेना ने कहा,‘कश्मीरी पंडितों ने ‘भारत माता की जय’ बोलते हुए अपनी जान दे दी और उनके खून से लथपथ भूमि पर नई सरकार का गठन होगा। इसलिए देश को महबूबा से उम्मीद है कि वह मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने से पहले ‘भारत माता की जय’ बोलें।’

शिवसेना ने पूछा कि क्या ससंद पर हमले के दोषी अफजल गुरु को लेकर महबूबा का रुख बदल गया है? शिवसेना ने इस बात पर जोर दिया कि महबूबा की पार्टी ने अफजल गुरु को आतंकवादी मानने से भी इनकार कर दिया था। शिवसेना ने सवाल किया,‘क्या महबूबा अभी भी चाहती हैं कि अफजल गुरु के शव को तिहाड़ जेल से खोदकर बाहर निकाला जाए और इसे एक शहीद को दिए जाने वाले सम्मान के साथ कश्मीर में दफन किया जाए? क्या वह मन में राष्ट्रवादी विचारों को रखते हुए राज्य की बागडोर संभालने के लिए राजी होगीं।

Next Stories
1 शिवसेना बोली- शपथ ग्रहण से पहले ‘भारत माता की जय’ कहें महबूबा मुफ्ती
2 मुंबई: BJP युवा मोर्चा अध्‍यक्ष पर लगा कार्यकर्ता से छेड़छाड़ का आरोप, पार्टी ने भंग की इकाई
3 मुंबई: भाजयुमो नेता का छेड़छाड़ के आरोपों से इनकार, पद से दिया इस्तीफा
यह पढ़ा क्या?
X