ताज़ा खबर
 

फैज को ‘हिंदू विरोधी’ बताए जाने पर भड़के संजय राउत, कहा- उनकी कविताओं से सत्ताधारी लोग भयभीत

Sanjay Raut, Faiz Poem: संजय राउत ने कहा कि फैज जैसे कवि को राष्ट्रवाद और धर्म के संकीर्ण दायरे में कैद करना मुश्किल है। राउत ने सामाना में लिखा- “जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में हिंसा के बाद, फ़ैज़ को हिंदू विरोधी और राष्ट्र विरोधी करार दिया जा रहा है।

शिवसेना नेता संजय राउत, (फाइल फोटो-PTI)

Sanjay Raut, Faiz Anti Hindu, Faiz Ahmad Faiz, BJP: शिवसेना सांसद संजय राउत ने कवि फैज अहमद फैज को ”हिंदू विरोधी” और ”राष्ट्र विरोधी” बताने की कड़ी आलोचना करते हुए बीजपी पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि फैज जैसे कवि को राष्ट्रवाद और धर्म के संकीर्ण दायरे में कैद करना मुश्किल है। राउत ने सामाना में लिखा- “जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में हिंसा के बाद, फ़ैज़ को हिंदू विरोधी और राष्ट्र विरोधी करार दिया जा रहा है। फ़ैज़ अपना बचाव करने के लिए ज़िंदा नहीं हैं। आप फैज़ जैसे कवि को किसी राष्ट्र या धर्म की सीमाओं और सीमाओं में सीमित नहीं कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि फैज़ की कविताओं ने पाकिस्तान के हुक्मरानों को डरा दिया। वही कविता अब उन लोगों को भयभीत कर रही है जो भारत पर शासन कर रहे हैं।

संजय राउत का बीजेपी पर निशाना: शिवसेना सांसद ने आगे कहा कि फैज की कविता में शासकों और मूर्तियों की बात की गई थी। यह महज एक प्रतीक के रूप में स्वतंत्रता के लिए लड़ने की एक प्रेरणा थी। बता दें कि IIT-Kanpur के एक छात्र ने फैज की ‘हम देखेंगे’ कविता गाई थी, जिसके खिलाफ एक अस्थायी संकाय सदस्य और छात्रों सहित लगभग 16 अन्य लोगों द्वारा शिकायत दर्ज की गई थी। इसके बाद कथित तौर पर  कानपुर में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) ने एक शिकायत की जांच करने के लिए एक पैनल का गठन किया है कि क्या फैज़ की प्रख्यात कविता हम देखेंगे हिंदुओं की भावनाओं को आहत करती है या नहीं।

Hindi News Live Hindi Samachar 20 January 2020: देश की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

क्या बोले राउत: शिवसेना सांसद ने आगे रूस, चीन, इराक और जर्मनी जैसे देशों का जिक्र किया, जिन्होंने राजनीतिक विरोधियों को जेल में डाल दिया। उन्होंने कहा कि अब सरकार के खिलाफ बोलने वालों को देशद्रोही करार दिया जा रहा है। जेएनयू में बॉलीवुड अभिनेत्री दीपिका पादुकोण की यात्रा का जिक्र करते हुए संजय राउत ने कहा कि उन्होंने अपनी भावनाओं को चुपचाप व्यक्त किया। उन्होंने कहा, “भविष्य में उसके रास्ते में बाधाएं पैदा की जाएंगी। उसके विज्ञापनों पर प्रतिबंध लगाया जा रहा है।”

बीजेपी को दिलाई याद: इस दौरान राउत ने बीजेपी समर्थकों को 1977-78 के दशक का जिक्र करते हुए फैज और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की याद दिलाई। उन्होंने कहा कि “कविता का अर्थ समझे बिना, फ़ैज़ को हिंदू विरोधी करार दिया गया है। बीजेपी समर्थक आज फैज का विरोध कर रहे हैं, लेकिन फैज की यात्रा ने अटल बिहारी वाजपेयी की आंखों में आंसू ला दिए थे।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 यूपी ATS को मिली बड़ी कामयाबी, वाराणसी से ISI एजेंट अरेस्ट
2 हाड़ कंपाने वाली ठंड से त्रस्त कश्मीर, हिमाचल और दिल्ली, बारिश-बर्फबारी से बिगड़े पहाड़ों के हालात
3 …जब जनरल करिअप्पा ने कहा था- संविधान को खत्म करें, देश को सैन्य शासन की जरूरत; जानिए पूरा वाकया
ये पढ़ा क्या?
X